Crime NewsGiridihJharkhand

दुष्कर्म के बाद महिला की हत्या, हर महीने 100 से ज्यादा रेप

विज्ञापन

Giridih : जिले के देवरी थाना क्षेत्र में महिला के साथ दुष्कर्म के बाद हत्या का मामला सामने आया है. सोमवार देर रात घटना को अंजाम दिया गया.

घटना से ग्रामीणों में बेहद आक्रोश है. वहीं घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. फिलहाल पुलिस पूरी घटना की जांच में जुटी है.

इसे भी पढ़ें- व्यवसायियों का क्या टूट रहा मनोबल? देश में कारोबारी धारणा गिरकर तीन साल के निचले स्तर पर: सर्वे

advt

गांव के युवक पर ही लगा दुष्कर्म का आरोप

मृतका के पति ने गांव के ही प्रकाश राय नाम के युवक पर दुष्कर्म व हत्या का आरोप लगाया है. मृतका के पति ने देवरी थाना पुलिस को बताया कि सोमवार रात उसकी पत्नी घर पर अकेले थी.

वह एक श्राद्ध कार्यक्रम में शामिल होने के बाद देर रात 11 बजे घर लौटी थी. इसी दौरान प्रकाश राय पहले से ही घात लगाए बैठा था. जैसे ही उसकी पत्नी घर लौटी तो आरोपी युवक भी जबरन उसके साथ घर में घुस गया. जिसके बाद उसने उसकी पत्नी के साथ दुष्कर्म किया और फिर साक्ष्य छुपाने की नियत से गला दबाकर हत्या कर दी.

इसे भी पढ़ेंःना POTA खराब था, ना NIA खराब है, खराब तो इसके इस्तेमाल करने वाले होते हैं

वर्ष 2019 में झारखंड में हुई 695 दुष्कर्म की घटनाएं

झारखंड पुलिस के आंकड़ों के मुताबिक साल 2019 में मई महीने तक 695 दुष्कर्म की घटनाएं घटी हैं. जिसमें जनवरी में 106, फरवरी में 120, मार्च में 114 अप्रैल में 176 और मई में 179 दुष्कर्म की घटनाएं घटित हुई.

adv

इन पांच महिनों में सबसे अधिक दुष्कर्म की घटनाएं मई महीने में हुई. जानकारी के मुताबिक नाबालिग बच्चियां इस घटना की सबसे ज्यादा शिकार बनीं. वहीं छेड़खानी,अपहरण और दुष्कर्म व हत्या जैसी घटनाओं की वजह से महिलाएं में हैं.

इसे भी पढ़ेंःकार्यकर्ताओं को बीजेपी दे रही आडवाणी का उदाहरण, पार्टी विचारधारा के विपरीत जाने पर जा सकता है पद

आखिर कब तक डर के साये में रहेंगी आधी आबादी

गौरतलब है कि 2019 में मई महीने तक 695 दुष्कर्म की घटनाएं झारखंड में हुई हैं. इन पांच महिनों में आंकड़ा इतना ज्यादा है फिर भी इस पर रोक लगाने के लिए कुछ खास ध्यान नहीं दिया जा रहा है.

अगर आंकड़ों पर गौर किया जाए तो एक महीने में लगभग 100 से भी ज्यादा महिलाएं दुष्कर्म की शिकार बनीं. अगर जल्द ही इस पर कुछ कड़ी कार्रवाई नहीं की गयी तो यह आंकड़ा बढ़ भी सकता है.

आखिर कब तक महिलाएं, बच्चियां, युवतियां इस घिनौने कृत की शिकार बनती रहेंगी. कब वह खुलकर सांस ले पाएंगी. और कब देश में कुछ ऐसे कड़े कानून बनेंगे जब इस तरह की घटनाओं को अंजाम देने वालों के मन में खौफ होगा.

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button