JharkhandRanchi

CNT-SPT एक्ट को खत्म करने पर जब भाजपा उतारू थी, तो सड़क पर विरोध करने की ताकत संविधान ने ही दी : हेमंत

विज्ञापन
  • संविधान दिवस पर आयोजित झालसा के कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने की वर्चुअल शिरकत

Ranchi : मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने गुरुवार को कहा कि जब वह विपक्ष में थे और तत्कालीन भाजपा सरकार सीएनटी-एसपीटी को खत्म करने पर उतारू थी, तो सड़क पर निकल इसका विरोध करने की ताकत हमारे संविधान ने ही दी थी. यह पवित्र किताब ही है, जो हमें जोड़कर रखती है. मुख्यमंत्री गुरुवार को संविधान दिवस के अवसर पर अपने पैतृक गांव नेमरा से झालसा द्वारा आयोजित कार्यक्रम को वर्चुअल मोड के माध्यम से संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि राष्ट्र के सर्वांगीण विकास के लिए एक मजबूत संविधान आज की जरूरत है. वैसा संविधान, जो सबके हितों की रक्षा करे.

इसे भी पढ़ें- 3.5 करोड़ की लागत वाली सड़क को ठेकेदार ने बना दिया भ्रष्टाचार का अड्डा, मेयर ने लगायी फटकार

इस मौके पर मुख्यमंत्री ने महात्मा गांधी, पंडित जवाहरलाल नेहरू, डॉ राजेंद्र प्रसाद, सरदार वल्लभ भाई पटेल, बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर, डॉ जयपाल सिंह मुंडा, शहीद भगत सिंह के साथ-साथ राज्य के आंदोलनकारियों भगवान बिरसा मुंडा, अमर शहीद सिदो-कान्हू को नमन किया.

मुख्यमंत्री ने कहा कि संविधान बने हुए आज 71 वर्ष पूरे हो चुके हैं. आज एक सशक्त संविधान की जितनी जरूरत मजदूर, किसान, ठेले-खोमचे वाले, दलित, आदिवासी, अल्पसंख्यक को है, इसकी उतनी ही जरूरत राज्यपाल, न्यायाधीश, मुख्यमंत्री, आईएएस, आईपीएस अधिकारियों को भी है. सबके अधिकार की रक्षा करनेवाली किताब संविधान की जरूरत पक्ष को भी है और विपक्ष को भी है. इसी तरह देश के भविष्य के लिए, सबके सुरक्षित भविष्य के लिए एक मजबूत संविधान की सख्त जरूरत है.

कार्यक्रम में राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू, हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस रवि रंजन, जस्टिस एससी मिश्रा, जस्टिस अमरेश कुमार सिंह, जस्टिस सुजीत नारायण प्रसाद, जस्टिस अनुभा रावत चौधरी सहित रामगढ़ विधायक ममता देवी, रामगढ़ डीसी संदीप सिंह, एसपी प्रभात कुमार सहित जिला प्रशासन के अन्य अधिकारी मौजूद थे.

इसे भी पढ़ें- लालू पर भारी पड़ा गुरुवार :1. बंगला छिना, 2. हाइकोर्ट में PIL, 3. पटना में FIR, 4. फोन प्रकरण में बैठी जांच, 5. बेल पिटीशन का विरोध करेगी CBI

संविधान की भावना के अनुरूप काम करें, तो कुछ अलग से करने की जरूरत नहीं

मुख्यमंत्री ने कहा कि अगर सभी सरकारें सिर्फ संविधान की भावना के अनुरूप काम करने का प्रण कर लें, तो उन्हें और कुछ अलग से करने की जरूरत नहीं पड़ेगी. ऐसा संविधान, जिसके समक्ष ‘सबों को बराबरी का अधिकार’ मिले. बराबरी शिक्षा प्राप्त करने में, भरपेट भोजन प्राप्त करने में, जीवन जीने में, स्वास्थ्य संबंधी सुविधा प्राप्त करने में, रोजगार के अवसर में, धार्मिक आस्था के अनुरूप आचरण करने में बराबरी. यही संविधान की मूल भावना भी है.

कोरोना के लगाये ब्रेकर को पार कर आगे बढ़ने को तैयार हैं

हेमंत सोरेन ने कहा कि वर्तमान झारखंड सरकार इन विषयों पर सम्यक बदलाव एवं प्रगति करने की दिशा में आगे बढ़ रही है. कोरोना काल में शहर के साथ-साथ गांव को भी सुरक्षित रखते हुए सरकार ने अपने सीमित संसाधनों में अच्छा काम किया है. संकट के समय एक ओर सरकारी कर्मी की सेहत सुरक्षित रखने का प्रयास हुआ, वहीं दूसरी ओर दूसरे राज्यों में फंसे मजदूरों तक भी हम हवाई जहाज लेकर पहुंचे. मुख्यमंत्री ने कहा कि अब कोरोना द्वारा लगाये गये ब्रेकर को पार कर हम आगे बढ़ने को तैयार हैं.

अच्छा काम कर रही है झालसा

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस कार्यक्रम का आयोजन न्याय को सुनिश्चित करनेवाली एवं उसे गांव-गांव तक पहुंचाने में लगी संस्था के माध्यम से किया गया है. पारा लीगल वॉलंटियर और अन्य माध्यमों से झालसा अच्छा काम कर रही है. आज प्रोजेक्ट तृप्ति, प्रोजेक्ट आत्मनिर्भर, प्रोजेक्ट निरोगी भवन एवं प्रोजेक्ट चेतना के आगाज का भी दिन है. झालसा का वेब पोर्टल और एप भी लॉन्च किया जा रहा है. कामना है कि उपरोक्त प्रोजेक्ट और एप, आमजन तक मदद पहुंचाने के अपने उद्देश्यों में सफल हो.

इसे भी पढ़ें- अगले साल रांची को मिलेंगे दो अर्बन फॉरेस्ट, धुर्वा और रिंग रोड में बनाने की तैयारी

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: