न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रांची नगर निगम में टाउन प्लानर की कमी, सिर्फ एक के भरोसे ही चल रहा काम  

नहीं मिल रहे हैं योग्य उम्मीदवार

78

Ranchi :  रांची नगर निगम में मुख्य टाउन प्लानर (टीपी) समेत आठ टाउन प्लानर की कमी हो गयी है. फिलहाल एक टाउन प्लानर और दो सहयोगी टाउन प्लानर से ही काम चल रहा है. 45 दिनों से एक ही टाउन प्लानर (टीपी) मनोज कुमार के मार्फत ही भवनों का नक्शा पास हो रहा है. निगम के टीपी उदय सहाय के 28 फरवरी को सेवानिवृत होने के बाद से एक टीपी का पद रिक्त है. टीपी का दो पद विभाग में स्वीकृत है.

इसे भी पढ़ें – चतरा संसदीय सीटः गठन के 60 साल बीते, नहीं बना आजतक कोई स्थानीय सांसद  

इसके अलावा समय पर भवन प्लान स्वीकृत करने से लेकर अन्य कामों को करने के लिए सहयोगी टाउन प्लानर, एग्जीक्युटिव टाउन प्लानर, एसिसटेंट टाउन प्लानर के भी पद सृजित किये गये हैं.

ये सभी पद समकक्ष अभियंता के स्तर के हैं. एग्जिक्यूटिव टाउन प्लानर के लिए कार्यपालक अभियंता स्तर के अधिकारी की अर्हता जरूरी है. सहयोगी टाउन प्लानर के लिए सहायक अभियंता स्तर के योग्यताधारी का पदस्थापन जरूरी है.

टाउन प्लानर के लिए टाउन प्लानिंग की डिग्री समेत बी आर्किटेक्चर की डिग्री होना जरूरी किया गया है.नगर विकास और आवास विभाग की तरफ से खाली पड़े पदों को भरने के लिए काफी धीमी कार्रवाई की जा रही है.

आदर्श आचार संहिता के लागू होने की वजह से भी टाउन प्लानर की पोस्टिंग में सरकार पशोपेश में है.

WH MART 1

इसे भी पढ़ें – प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड का खुद पर नियंत्रण नहीं, प्रदेश की 80 इंडस्ट्रीज सबसे अधिक प्रदूषित, फिर भी कार्रवाई नहीं

क्या हो रही है परेशानी

टाउन प्लानर स्तर के योग्य अधिकारी के नहीं रहने से छोटे ही नहीं, बड़े भवन प्लान के नक्शे की स्वीकृति में भी परेशानी हो रही है. अब वेटिंग पीरियड भी काफी बढ़ गया है.

सरकार की ओर से रांची शहरी क्षेत्र के सभी वार्डों को मिला कर टाउन प्लानरों को अलग-अलग वार्डों की जवाबदेही सौंपी गयी थी. जानकारों का कहना है कि सरकार के पास योग्य और अर्हताधारी टाउन प्लानर नहीं हैं.

इसे भी पढ़ें – चुनाव के दौरान पार्टियों की हर गतिविधि पर होगी प्रशासन की कड़ी नजरः राजीव कुमार

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like