न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड का खुद पर नियंत्रण नहीं, प्रदेश की 80 इंडस्ट्रीज सबसे अधिक प्रदूषित, फिर भी कार्रवाई नहीं

1,083
  • देर रात तक काम करते हैं अफसर, फिर भी केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के आदेश का भी हो रहा उल्लंघन
  • हाईकोर्ट के आदेश का भी असर नहीं, हिंडाल्को भी प्रदूषित उद्योग में था शुमार, फिर भी पहले नहीं की र्कावाई

Ravi/Pravin

Ranchi : झारखंड राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड का हाल ऐसा है कि बोर्ड का खुद पर भी नियंत्रण नहीं है. बोर्ड में अफसर-कर्मचारी देर रात तक काम करते हैं, फिर भी वे केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की गाईडलाइन को समझ नहीं पाते हैं.

समय पर अगर प्रदूषण फैलाने और गाइडलाइन का उल्लंघन करने वाले उद्योगों पर कार्रवाई की जाती तो शायद हिंडाल्को जैसी घटना नहीं घटती. प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने खुद माना है कि झारखंड में मौजूद 80 उद्योग सबसे अधिक प्रदूषित हैं.

इसमें कॉस्टिक सोडा की एक, 18 थर्मल पावर प्लांट, एक डिस्टलरी, तीन आयरन स्टील प्लांट, 48 स्पंज आयरन इंडस्ट्रीज, छह सीमेंट फैक्ट्री और दो कॉपर इंडस्ट्रीड शामिल हैं. बावजूद इसके इन उद्योगों को कन्सेंट टू ऑपरेट दिया गया है.

इसे भी पढ़ें- झारखंड में 15 लाख 4 हजार 408 मतदाताओं का अबतक नहीं बन पाया है वोटर आइडी

हाईकोर्ट के आदेश को भी नहीं मानता प्रदूषण बोर्ड

झारखंड के प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड पर हाईकोर्ट के आदेश का भी असर नहीं होता. हाईकोर्ट ने झारखंड सरकार समेत 26 कंपनियों को नोटिस भेजा था. जिसमें प्रदूषण फैलाने वाली 26 कंपनियां शामिल है. जिसमें एमएस जिंदल स्टील एंड पॉवर लिमिटेड, बिहार फॉउंडरी एंड कॉस्टिंग लिमिटेड, गौतम फेरा अलॉइस यूनिट फाउंडरी एंड कास्टिंग लिमिटेड, मां छिन्नमस्तिका स्पोंग आयरन लिमिटेड, झारखंड इस्पात लिमिटेड, अनिंदिता स्टील लिमिटेड, आलोक स्टील इंडस्ट्रीज, रामगढ़ स्पंज आयरन, श्रीराम पॉवर एंड स्टील, वेंकटेश आयरन एंड अलोया इंडिया लिमिटेड, चितपुरी स्पंज आयरन लिमिटेड दुर्गा पॉवर स्प्ंज आयरन लिमिटेड, विशाल स्पोंग आयरन लिमिटेड, ब्रहमपुत्र मेटालिक लिमिटेड, कोलकाता कारबाइड प्राइवेट लिमिटेड, दयाल फरो अलोया यूनिट और पीएलआर आउटसोसिंर्ग कंपनी रामगढ़ हैं.

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के गाइडलाइन का पालन नहीं

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के गाइडलाइन का पालन भी नहीं हो रहा है. गाइडलाइन के अनुसार राख का डिस्पोजल सही तरीके से करने का निर्देश दिया गया था. लेकिन ऐसा नहीं होने के कारण दामोदर, नलकरी, बराकर और स्वर्णरेखा नदी प्रदूषित हो गई है. बोर्ड ने कहा था कि डिस्पोजल ऐश (राख) पाउंड (तालाब) में होना चाहिए. इसका भी अनुपालन नहीं किया जा रहा है.

Related Posts

25 सिंतबर से दो अक्टूबर तक राज्य में चलेगा #Shramshakti अभियान, असंगठित कामगारों का होगा निबंधन

मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव ने श्रमाधीक्षकों, श्रम प्रसार पदाधिकारियों को दिया निर्देश-कठिनाई दूर कर लें. 25 को मुख्यमंत्री करेंगे अभियान की लांचिंग, लाइव प्रसारण देख पायेंगे कामगार.

इसे भी पढ़ें- बिहार : चार लोकसभा व एक विधानसभा सीट के लिए मतदान शुरू, सुरक्षा के कड़े इंतजाम

पावर प्लांट से रोजाना निकलती है 8400 टन राख, फिर भी अनदेखी

झारखंड राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के लिये प्रदूषण पर नियंत्रण पाना भी चुनौती बन गई है. हाल यह है कि निजी और सरकारी उपक्रमों के उद्योगों और पावर प्लांट से रोजाना 1200-1400 टन राख निकलती है. वहीं चार जिले धनबाद, रामगढ़, चाईबासा और सरायकेला-खरसांवा की स्थित काफी गंभीर है. इसका प्रमुख कारण अवैध तरीके से चल रहे क्रशर और खनन को बताया गया है.

इन जिलों में प्रदूषण का इंडेक्स 70 डेसीबल पार कर चुका है. इस वजह से स्थिति गंभीर हो गई है. धनबाद का इंडेक्स 78.63 तक पहुंच गया है. झारखंड के शेष जिलों का इंडेक्स 60 से कम है. 70 डेसीबल तक इंडेक्स जाने की स्थिति को गंभीर माना जाता है.

655.5 करोड़ का एक्शन प्लान कागजों में ही सिमटा

सूबे को प्रदूषण मुक्त बनाने के लिए 655.5 करोड़ का एक्शन प्लान बना. इस प्लान को भारत सरकार ने भी स्वीकृति दी. प्लान में कई ऐसे उपाय बताए गए थे, जिससे बढ़ रहे प्रदूषण पर अंकुश पाया जा सकता था. लेकिन प्लान के अनुसार कोई काम नहीं हुआ. माइनिंग क्षेत्र में खनन से होने वाले प्रदूषण पर नियंत्रण के लिए 326 करोड़ के एक्शन प्लान को स्वीकृति मिली थी. जबकि शहरी क्षेत्रों में प्रदूषण रोकथाम के लिए 329.50 करोड़ का प्लान था.

इसे भी पढ़ें- लोकसभा चुनाव 2019 : 20 राज्यों की 91 सीटों पर पहले चरण की वोटिंग शुरू

ये इंडस्ट्रीज हैं सबसे प्रदूषित

  • ग्रासिम इंडस्ट्रीज व कैप्टिव पावर प्लांट- रेहला पलामू
  • हिंडाल्को इंडस्ट्रीज व कैप्टिव पावर प्लांट- छोटामूरी
  • उषा मार्टिन लिमिटेड, कैप्टिव पावर प्लांट : टाटीसिल्वे
  • तेनुघाट थर्मल पावर प्लांट : ललपनिया, बोकारो
  • बोकारो थर्मल पावर स्टेशन : बोकारो
  • चंद्रपुरा थर्मल पावर स्टेशन : चंद्रपुरा, बोकारो
  • बोकारो पावर सप्लाई : बोकारो स्टील सिटी
  • मैथन पावर लिमिटेड : मैथन धनबाद
  • उषा मार्टिन लिमिटेड(टीपीपी) : सरायकेला-खरसांवा, थर्मल पावर
  • टाटा पावर लिमिटेड : पूर्वी सिंहभूम, थर्मल पावर
  • आधुनिक पावर एंड नेचुरल रिसोर्सेज : गम्हरिया, खरसांवा, थर्मल पावर
  • कोडरमा थर्मल पावर : कोडरमा
  • डिवाइन विद्युत लिमिटेड : सरायकेला-खरसांवा
  • टाटा स्टील वेल्ट बोकारो : 20 मेगावाट थर्मल पावर
  • इंलैंड पावर : गोला : थर्मल पावर
  • मोनीडीह कैप्टिव पावर प्लांट : धनबाद
  • इंडस्ट्रीयल एनर्जी लिमिटेड : जमशेदपुर, थर्मल पावर
  • इंपेरियल फास्टनर : कथरा बोकारो, थर्मल पावर
  • अंकुर बायो केमिकल्स लिमिटेड : धुबी, स्पांज आयरन
  • बोकारो स्टील : आयरन एंड स्टील प्लांट
  • टाटा स्टील : जमशेदपुर, आयरन एंड स्टील
  • इलेक्ट्रो स्टील : सियालजोरी, आयरन एंड स्टील प्लांट
  • बिहार स्पंज आयरन लिमिटेड : चांडिल
  • बलाह स्टील : आदित्यपुर, स्पंज आयरन
  • आधुनिक एलोयस एंड पावर : कांड्रा, सरायकेला-खरसांवा, खरसांवा
  • नीलांचल आयरन एंड पावर, कांड्रा : सरायकेला, स्पंज आयरन
  • रूंगटा माइंस : सरायकेला-खरसांवा, स्पंज आयरन
  • कोहिनूर स्टील : बंसा, सरायकेला-खरसांवा, स्पंज आयरन
  • एएमएल स्टील : कोलेबिरा: स्पंज आयरन
  • इमार एलोयस : चौका, सरायकेला-खरसांवा, स्पंज आयरन
  • बालाजी इंडस्ट्रीयल इंजीनियरिंग लिमिटेड : पश्चिमी सिंहभूम, स्पंज आयरन
  • सिद्धी विनायक मेटकॉम : चौका, सरायकेला खरसांवा, स्पंज आयरन
  • जयमंगला स्पंज आयरन, कुर्ली : सरायकेला-खरसांवा, स्पंज आयरन
  • समृद्धि स्पंज आयरन : सरायकेला खरसांवा, स्पंज आयरन
  • साईं स्पंज आयरन : पश्चिमी सिंहभूम, स्पंज आयरन
  • शाह स्पंज एंड पावर लिमिटेड : पूर्वी सिंहभूम, स्पंज आयरन
  • विमलदीप स्टील : आदित्यपुर, स्पंज आयरन
  • नरसिंह इस्पात : चौका, सरायकेला-खरसांवा, स्पंज आयरन
  • सुंदरम स्टील : इंडर्स्टीयल एरिया, बोकारो, स्पंज आयरन
  • कॉरपोरेट इस्पात अलोयस : सरायकेला खरसांवा, स्पंज आयरन
  • केवाइएस स्पंज : गम्हरिया, स्पंज आयरन
  • चांडिल इंडस्ट्रीज लिमिटेड, चांडिल, स्पंज आयरन
  • झारखंड स्पंज आयरन : चांडिल, स्पंज आयरन
  • आर्शीवाद स्टील : गम्हरिया, स्पंज आयरन
  • उषा एलोयस एंड स्टील डिविजन : सरायकेला-खरसांवा, स्पंज आयरन
  • सलूजा स्टील एंड पावर सिमिटेड : टुंडी, गिरिडीह, स्पंज आयरन
  • अतिबीर इंडस्ट्रीज : गिरिडीह, स्पंज आयरन
  • अतिबीर इंडस्ट्रीज लिमिटेड, भोरनाडीहा, स्पंज आयरन
  • विश्वनाथ फेरो एलोयस : माजिलडीह, गिरिडीह, स्पंज आयरन
  • हर्षित पावर एंड इस्पात लिमिटेड : चतरो, टुंडी रोड, गिरिडीह, स्पंज आयरन
  • वेंकेटश्वरा स्पंज आयरन : टुंडी रोड, गिरिडीह, स्पंज आयरन
  • संतपुरिया एलोयस : गिरिडीह, स्पंज आयरन
  • बालमुकुंद स्पंज एंड आयरन लिमिटेड : गिरिडीह, स्पंज आयरन
  • चितपुरानी स्टील : मांडू, रामगढ़, स्पंज आयरन
  • श्री वेकेंटेश आयरन एंड एलोयस : रामगढ़, स्पंज आयरन
  • नरसिम्हा आयरन एंड स्टील एलोयस : हजारीबाग, स्पंज आयरन
  • मां छिन्नमस्तिका स्पंज आयरन : हजारीबाग, स्पंज आयरन
  • झारखंड इस्पात : अरगड्डा, हजारीबाग, स्पंज आयरन
  • आनंदिता ट्रेडर्स एंड इंवेस्टमेंट लिमिटेड : हजारीबाग, स्पंज आयरन
  • श्रीराम पावर एंड स्टील प्राइवेट लिमिटेड : रामगढ़, स्पंज आयरन
  • विशाल स्पंज : रामगढ़, स्पंज आयरन
  • ब्रह्मपुत्रा मेटालिक्स : गोला रामगढ़, स्पंज आयरन
  • आलोक स्टील इंडस्ट्रीज : रामगढ़, स्पंज आयरन
  • रामगढ़ स्पंज आयरन : हजारीबाग, स्पंज आयरन
  • गायत्री इस्पात प्राइवेट लिमिटेड : नवाडीह, हजारीबाग , स्पंज आयरन
  • जगत तारणी इस्पात : नवाडीह, हजारीबाग, स्पंज आयरन
  • बिहार फाउंड्री एंड कास्टिंग यूनिट : मेरार, रामगढ़, स्पंज आयरन
  • झारखंड सेल्स एजेंसी प्राइवेट लिमिटेड : हजारीबाग, स्पंज आयरन
  • जय दुर्गा आयरन प्राइवेट लिमिटेड : झुमरीतिलैया, स्पंज आयरन
  • शिवम आयरन एंड स्टील : चंदवारा, कोडरमा, स्पंज आयरन
  • एसीसी सिमेंट : झींकपानी, पश्चिमी सिंहभूम
  • स्वाति उद्योग : पूर्वी सिंहभूम, सीमेंट
  • शिव शक्ति सीमेंट : डेमोटांड, हजारीबाग, सीमेंट
  • दुर्गा सीमेंट : रामगढ़, सीमेंट
  • बर्नपुर सीमेंट : पतरातू, रामगढ़, सीमेंट
  • हिंदुस्तान कॉपर : घाटशिला, पूर्वी सिंहभूम, कॉपर
  • टाटा पिगमेंट लिमिटेड : जमशेदपुर: कॉपर

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
झारखंड की बदहाली के जिम्मेदार कौन ? भाजपा, झामुमो या कांग्रेस ? अपने विचार लिखें —
झारखंड पांच साल से भाजपा की सरकार है. रघुवर दास मुख्यमंत्री हैं. वह हर रोज चुनावी सभा में लोगों से कह रहें हैं: झामुमो-कांग्रेस बताये, राज्य का विकास क्यों नहीं हुआ ?
झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन कह रहें हैं: 19 साल में 16 साल भाजपा सत्ता में रही. फिर भी राज्य का विकास क्यों नहीं हुआ ?
लिखने के लिये क्लिक करें.

you're currently offline

%d bloggers like this: