न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

टॉप सात कंपनियों को बाजार पूंजीकरण में 86,880 करोड़ का नुकसान

669

New Delhi : शीर्ष 10 घरेलू कंपनियों में से सात को बीते सप्ताह बाजार पूंजीकरण में सम्मिलित तौर पर 86,879.7 करोड़ रुपये का नुकसान उठाना पड़ा. एफएमसीजी कंपनी आईटीसी का बाजार पूंजीकरण इस दौरान सर्वाधिक कम हुआ.

आलोच्य सप्ताह के दौरान रिलायंस इंडस्ट्रीज, एचडीएफसी बैंक, एचडीएफसी, कोटक महिंद्रा बैंक, आईसीआईसीआई बैंक और भारतीय स्टेट बैंक का बाजार पूंजीकरण कम हुआ. टीसीएस, हिंदुस्तान यूनिलीवर और इंफोसिस का बाजार पूंजीकरण इस दौरान बढ़ा.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

इसे भी पढ़ें- पुलिस के नाम पर रंगदारी वसूल करनेवाले युवकों ने कोयला ढुलाई करनेवाले युवक को पीटा, हंगामा

किस कंपनी का कितना रहा पूंजीकरण

इस दौरान आइटीसी का बाजार पूंजीकरण 20,748.4 करोड़ रुपये कम होकर 2,89,740.59 करोड़ रुपये, भारतीय स्टेट बैंक का 17,715.4 करोड़ रुपये गिरकर 2,41,946.22 करोड़ रुपये, एचडीएफसी बैंक का 17,335.3 करोड़ रुपये टूटकर 5,91,490.98 करोड़ रुपये और आईसीआईसीआई बैंक का बाजार पूंजीकरण 15,084.5 करोड़ रुपये लुढ़ककर 2,55,484.91 करोड़ रुपये पर आ गया.

इसी तरह एचडीएफसी का बाजार पूंजीकरण 9,921.2 करोड़ रुपये गिरकर 3,52,202.72 करोड़ रुपये, कोटक महिंद्रा बैंक का एमकैप 5,155.85 करोड़ रुपये कम होकर 2,81,185.14 करोड़ रुपये और रिलायंस इंडस्ट्रीज का बाजार पूंजीकरण 919.16 करोड़ रुपये लुढ़ककर 8,08,836 करोड़ रुपये पर आ गया.

इसे भी पढ़ें- बिना टेंडर के ही बोकारो डीसी आवास में बन गया 40 लाख का गौशाला, सचिव ने कहा जांच और कार्रवाई होगी

बाजार पूंजीकरण के हिसाब से टीसीएस टॉप पर

हालांकि इस दौरान टीसीएस का बाजार पूंजीकरण 31,538.79 करोड़ रुपये मजबूत होकर 8,43,367.22 करोड़ रुपये, इंफोसिस का बाजार पूंजीकरण 11,746.94 करोड़ रुपये की बढ़त के साथ 3,44,419.45 करोड़ रुपये और हिंदुस्तान यूनिलीवर का बाजार पूंजीकरण 7,176.31 करोड़ रुपये बढ़कर 4,02,512.28 करोड़ रुपये पर पहुंच गया.

बाजार पूंजीकरण के हिसाब से टीसीएस शीर्ष पर बनी रही. इसके बाद रिलायंस इंडस्ट्रीज, एचडीएफसी बैंक, हिंदुस्तान यूनिलीवर, एचडीएफसी, इंफोसिस, आईटीसी, कोटक महिंद्रा बैंक, आईसीआईसीआई बैंक और एसबीआई का स्थान रहा.

Related Posts

#Vodafone_Idea ने कहा, माली हालत ठीक नहीं, सरकार की मदद के बिना बकाया नहीं चुका पायेंगे

कंपनी पर 53,000 करोड़ रुपये से अधिक का सांविधिक बकाया है. जबकि वह अभी तक इसका मुश्किल से सात प्रतिशत ही अदा कर पायी है. कंपनी ने कहा, उसकी माली हालत ठीक नहीं है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like