Sci & TechWorld

 विज्ञान जगत की बुरी खबर, अंतरिक्ष के रहस्यों को सुलझाने वाला रेडियो  टेलीस्कोप Arecibo ढह गया…

वैज्ञानिकों को इस बात की चिंता सताये जा रही है कि अब धरती पर बैठकर अंतरिक्ष से आने वाले खतरों के बारे में जानकारी देने वाला एक यंत्र खत्म हो गया है.

Puerto Rico  : खबर है कि अंतरिक्ष के रहस्यों को सुलझाने और जानकारी देने वाला रेडियो  टेलीस्कोप Arecibo खत्म हो गया है.  इस घटना से विज्ञान जगत सदमे में हैं, क्योंकि उन्होंने एक ऐसी चीज को खो दिया है जिससे वे एक जगह बैठकर ही खगोलीय रहस्यों के बारे में जानकारी हासिल कर लेते थे.

जानकारी के अनुसार प्यूर्टो रीका में स्थापित विशालकाय टेलीस्कोप Arecibo  एक दिसंबर को पूरी तरह से ढह गया है. इस टेलीस्कोप ने वैज्ञानिकों की लंबे समय तक काफी मदद की थी. यह नुकसान कितना बड़ा है इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि देश की मीटियरॉलजिस्ट अदा मोनजन इसके में बात करते हुए रो पड़ीं.

इसे भी पढ़े:  कृषि कानून पर आज किसान संगठनों की केंद्र सरकार के साथ बैठक…क्या सहमति बनेगी?

Arecibo की जगह कोई दूसरा टेलीस्कॉप नहीं ले सकता.

वैज्ञानिकों को इस बात की चिंता सताये जा रही है कि अब धरती पर बैठकर अंतरिक्ष से आने वाले खतरों के बारे में जानकारी देने वाला एक यंत्र खत्म हो गया है. Arecibo के जरिए वैज्ञानिक अंतरिक्ष में घूमते विशाल स्पेस रॉक्स की स्टडी करते थे. प्लैनेटरी रडार टीम को लीड करने वाली ऐनी विर्की का कहना है कि Arecibo की जगह कोई दूसरा टेलीस्कॉप नहीं ले सकता.

इसका रडार ट्रांसमीटर किसी ऑब्जेक्ट की ओर लाइट भेजता था जो टकराकर वापस लौटती थी तो इसकी रेडियो डिश इस सिग्नल को पकड़ती थी. इससे वैज्ञानिकों को ऐस्टरॉइड्स की स्थिति, आकार और सतह के बारे में जानकारियां मिलती थीं.

इसे भी पढ़े:सीमा पर तनाव के बीच चीन ने दो साल बाद भारतीय चावल का आयात शुरू किया

 विश्व का सबसे बड़ा टेलीस्कोप था

मीटियरॉलजिस्ट अदा मोनजन ने आधी शताब्दी से भी ज्यादा वक्त तक धरती पर बैठकर अंतरिक्ष के रहस्यों को सुलझाने और जानकारी देने वाले इस Arecibo के ढहने को वैज्ञानिकों के लिए एक बड़ा नुकसान करार दिया है. इस घटना के बारे में जानकारी देते हुए वे काफी भावुक नजर आयीं और उनकी आंखों से आंसू छलक पड़े. अदा ने बताया कि Arecibo को बचाने की काफी कोशिशें की गयी लेकिन अफसोस अब यह पूरी तरह से ढह चुका है. वैज्ञानिक इसे दुनिया का सबसे बड़ा रेडियो टेलीस्कोप मानते थे.

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: