न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रक्षक बन भक्षक का काम करता था सुमन कुमार

गुर्गे से धमकी दिलवाने के मामले में सनहा दर्ज

1,337

Hazaribagh: श्रमदान कर सड़क बना रहे ग्रामीणों से चंदा करवा कर घूस लेने के आरोप में डीएसपी से जांच में पुष्टि के बाद एसपी मयूरकन्हैया लाल पटेल द्वारा सस्पेंड कर दिए जाने के बाद इसकी हरकत में कोई कमी नजर नहीं आ रही है. शिकायतकर्ता पंकज ठाकुर को अपने गुर्गे से धमकी दिलवाने के मामले में बड़कागांव थाना में सनहा 10/18 दर्ज कर लिया गया है. इसके साथ ही इसका स्थानांतरण राज्य पुलिस मुख्यालय द्वारा पाकुड़ जिला कर दिया गया है. फिर भी इसके जो कारनामे उजागर हो रहे हैं. उससे प्रतीत होता है कि यह रक्षक के वेश में भक्षक का काम करता रहा है .

इसे भी पढ़ें – कोल नगरी धनबाद में चरमरायी बिजली व्यवस्था, आंदोलनरत हैं शहरवासी

न्यूज विंग के पास इसके कारनामों के लंबी फेहरिस्त है

एक मामले में इसपर आरोप है कि सुमन कुमार ने अपने अधिकार का दुरुपयोग करते हुए शराब माफिया के निर्देश पर एक बार संचालक को गलत तरीके से केस कर परेशान किया. गैर जरूरी धारा भी लगाकर उसके मैनेजर को जेल भेज दिया. वरीय अधिकारियों का नाम लेकर उससे अस्सी हजार रुपया भी ले लिया .

इसके बाद दोबारा उसी बार में खुद शराब जब्तकर जब्त शराब को सरकारी खाते में जमा करने के बजाय उसे हड़प लिया.जब्त शराब पर न तो केस किया और न ही उसकी जब्ती सूची बनाकर उसे सरकारी मालखाने में जमा किया. जबकि इस कार्रवाई की सीसीटीवी फुटेज में स्पष्ट दिख रहा है कि सुमन कुमार खुद शराब जब्त कर रहा है.

जिसकी शिकायत आवेदक ने जिले के स्थानीय जनप्रतिनिधियों, अधिकारियों से लेकर प्रधानमंत्री कार्यालय तक से भी कर चुके हैं. न्यूज विंग हु ब हु उस शिकायत की कॉपी और वीडियो प्रकाशित कर रहा है .

इसे भी पढ़ें – दर्जन भर से अधिक IAS ओवरलोडेड, दर्जन भर के पास काम ही नहीं, सिर्फ नाम की पोस्टिंग

सेवा में,

माननीय श्री नरेंद्र मोदी

प्रधानमंत्री, भारत सरकार,

नई दिल्ली

महाशय, 

मेरा नाम पृथ्वीकान्त सिंह, उम्र 58 वर्ष पिता स्व. सरयू सिंह, चंचला कॉलेज न्यू एरिया रोड, मुहल्ला ओकनी टी•ओ•पी•लोहसिंघना, थाना-सदर हजारीबाग झारखंड का रहने वाला हूं, मेरा आधार नंबर 760177238527 एंव पैन संख्या AGRPS5421Q है.

मैं भारतीय जनता पार्टी का पूर्व जिला अध्यक्ष हूं. मैंने हजारीबाग से 10 किमी. की दूरी पर NH-33 रांची-पटना रोड,  ड़ेमोटाड़ में एक रेस्टोरेन्ट चलाता हूं, जिसका नाम होटल महाराजा बार एंव रेस्टोरेंट है . इस रेस्टोरेंट में मैं एक गोशाला भी चलाता हूं. इस रेस्टोरेंट से 25 से 30 परिवार का भरण-पोषण होता है. मैं पूरी तरह से कानून का पालन करता हूं. मेरा बार लाईसेंस नम्बर 1-2/2008-09  है, मेरा Tin no. 20522108029,Service Tax Code  (Registration Number )AGRPS5421QSD001, मेरा FSSAI का लाइसेंस नम्बर 1111612000070 है, एंव EPFO NO.1473858000 है. मैं ईमानदारी से कार्य करता हूं एंव गैस का सब्सिडी भी नहीं लेता हूं. मैं नियम के आधार पर कार्य करता हूं तथा सरकार द्वारा निर्धारित सभी प्रकार के मापदंड एंव निर्देशों का पालन करता हूं.

इसे भी पढ़ें- कभी झामुमो सुप्रीमो शिबू के सिर्फ इशारे पर हो जाता था आंदोलन, आज कार्यकर्ताओं से करनी पड़ रही है अपील

हाल के कुछ महीनों से स्थानीय थाना प्रभारी- मुफस्सिल(सदर) हजारीबाग से ऐसा प्रतीत होता है, कि अवैध कारोबारीयों से सुपारी लेकर मेरे साथ लगातार पुलिस ज्यादती एंव अन्याय कर रही है. इस थाने का प्रभारी सुमन कुमार, पुलिस अवर निरीक्षक हैं, जो बहुत ही दबंग एंव प्रशासन में काफी प्रभाव रखता है. इस थाना प्रभारी को शराब के अवैध कारोबारियों का संरक्षण प्राप्त है. इसलिए दिनांक 11.10.2016 को हजारीबाग के उत्पाद विभाग द्वारा दो बार हमारे बार का जांच किया गया था तथा उस जांच में किसी तरह का अनियमितता नही पायी गई थी. इस जांच का रिपोर्ट उत्पाद विभाग के वरीय अधिकारियों को भी दिया गया था, किन्तु मुफस्सिल थाना के लोगों ने होटल बंद होने के उपरांत रात्रि के दो बजे जबकि होटल 11 बजे रात को बंद हो जाता है. छापेमारी करके स्टॉक के वैध शराब को बिना जप्ती सूची बनाये उठाकर ले गए तथा मेरे मैनेजर जो होटल में सोया हुए थे, जिनका नाम ज्वाला सिंह पिता स्व गिरेन्द्र सिंह ग्राम मन्दाईन थाना-ईटखोरी जिला-चतरा को पुलिस उठाकर ले गई तथा मुफस्सिल केस नम्बर 171/2016 दर्ज किया गया. जमानत याचिका संख्या 938/16 में दिनांक 23.11. 2016 को मुझे माननीय सत्र न्यायाधीश, हजारीबाग के न्यायालय ने जमानत दे दी .आदेश में स्पष्ट उल्लेख किया है कि दफा 47 उत्पाद अधिनियम के तहत मामला नहीं बनता है और जप्त सारे शराब को रिलीज कर दिया. उत्पाद अधिनियम के विरुद्ध कार्य किया गया.पुनः 10-03-2017 को 3 pm को छापेमारी की गई हमारे द्वारा सारे कागजात प्रस्तुत करने के बाद भी सारे शराब एंव रसोई में रखा सारा पनीर उठाके ले जाते हैं, जप्ती सूची बनाने का आग्रह करने पर दुर्व्यवहार किया गया. सारी घटना हमारे cc TV में कैद है. अभी तक किसी प्रकार का नोटिस भी नहीं दिया गया है तथा मुझे प्रशासन द्वारा झूठे मुकदमे में फंसाने की चेष्टा की जा रही है, मार्च अंत में हमारा लाइसेंस समाप्त हो रहा है, लाइसेंस फीस एक लाख रुपये महीना लगता है, मेरे सारे कर्मचारी इस घटना से काफी भयभीत भी हैं एंव होटल बंदी के कगार पर है .

इसे भी पढ़ें – आखिर क्‍यों नाराज  हुए धनबाद डीआरएम? 

मैं अपनी सरकार के संबंधित सभी अधिकारी एंव पार्टी के सदर विधायक श्री मनिष जी सांसद केन्द्रीय राज्य मंत्री भारत सरकार श्री जयन्त जी जिला अध्यक्ष, मुख्यमंत्री झारखण्ड सरकार एंव प्रशासनिक वरीय पदाधिकारियो से गुहार लगा चुका हूं. मैं झारखंड में सुशासन की अपेक्षा कर रहा हूं .मुझे विश्वास है कि इस तरह की ज्यातियों पर अंकुश लगेगा तथा ईमानदार कार्यकर्ता तथा नागरिक पर फिर से अत्याचार नहीं होगा. सुशासन की प्रतीक्षा में एक आम नागरिक

पृथ्वीकान्त सिंह

हजारीबाग, झारखंड

चंचला कॉटेज न्यू एरिया ओकनी थाना सदर

मोबाइल नम्बर – 09931580801

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: