National

NEFT और RTGS लेन-देन पर अब कोई शुल्क नहीं लेगा SBI

New Delhi : भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआइ) ने घोषणा की है कि उसने एनईएफटी और आरटीजीएस पर लगने वाले शुल्क को खत्म कर दिया है.

बैंक की ओर से जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, 1 जुलाई, 2019 से योनो ऐप, इंटरनेट बैंकिंग और मोबाइल बैंकिंग के जरिये किये गये आरटीजीएस और एनईएफटी ट्रांजैक्शंस पर कोई शुल्क नहीं लगेगा. इसके बाद 1 अगस्त, 2019 से बैंक IMPS पर लगने वाले शुल्क को भी खत्म कर देगा.

इसे भी पढ़ें : सुब्रमण्यम स्वामी ने अपने ट्वीट से चौंकाया, लिखा, भाजपा का बढ़ता जनाधार लोकतंत्र के लिए खतरा   

डिजिटल लेन-देन को प्रोत्साहित करना है मकसद 

एसबीआई के एमडी (रिटेल व डिजिटल बैंकिंग) पीके गुप्ता ने कहा, “ग्राहकों को सुविधाएं प्रदान करना और उन्हें फंड ट्रांसफर के लिए डिजिटल रूट अपनाने के लिए प्रोत्साहित करना हमारी रणनीति का हिस्सा है. अपनी रणनीति और केंद्र सरकार के डिजिटल इकॉनमी के निर्माण के सपने को साकार करने के लिए एसबीआइ ने बिना किसी खर्च के योनो, इंटरनेट बैंकिंग और मोबाइल बैंकिंग के जरिये एनईएफटी और आरटीजीएस ट्रांजैक्शंस को प्रोत्साहित करने के लिए कई कदम उठाये हैं.”

इसे भी पढ़ें : धनबादः जेवीएम नेता के घर डकैती, 13 साल की बच्ची को कब्जे में लेकर लूटपाट

शाखा के जरिये लेन-देन पर 20 फीसदी की कटौती

प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, एसबीआइ ने बैंक शाखा के जरिये लेन-देन करने वाले ग्राहकों के लिए एनईएफटी और आरटीजीएस ट्रांजैक्शंस पर शुल्क में 20 फीसदी की कटौती की है.

आईएमपीएस की जहां तक बात है तो बैंक की शाखा के जरिये 1,000 रुपये तक का फंड ट्रांसफर करने वाले ग्राहकों को कोई शुल्क नहीं देना होगा.

इसे भी पढ़ें : पलामू : जिन सरकारी भवनों में बन रहा प्लान, वहीं फेल है जल शक्ति अभियान

Related Articles

Back to top button