न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सुब्रमण्यम स्वामी ने अपने ट्वीट से चौंकाया, लिखा, भाजपा का बढ़ता जनाधार लोकतंत्र के लिए खतरा   

स्वामी ने अपने ट्वीट के जरिए, कांग्रेस, टीएमसी और एनसीपी को सलाह देते हुए कहा, विपक्ष इटालियंस और संतान को पार्टी से हटने के लिए कहे.  कहा कि ममता इसके बाद एकजुट कांग्रेस की अध्यक्ष बनें.

232

NewDelhi : भाजपा के सीनियर नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने  एक चौंकानेवाला ट्वीट किया है.  स्वामी  ने  अपनी ही पार्टी भाजपा के बढ़ते जनाधार को लोकतंत्र के लिए खतरा बताया है.   इस क्रम में  उन्होंने  भाजपा के बढ़ते कद को लेकर कांग्रेस, टीएमसी और एनसीपी को आगाह भी किया है.  जान लें कि अपनी ही पार्टी पर सवाल करते हुए स्वामी ने  ट्वीट किया कि गोवा और कश्मीर को देखने के बाद मुझे लगता है कि अगर हम एक ही पार्टी के रूप में  भाजपा के साथ रह गये तो देश का लोकतंत्र कमजोर हो जायेगा.

स्वामी ने अपने ट्वीट के जरिए, कांग्रेस, टीएमसी और एनसीपी को सलाह देते हुए कहा, विपक्ष इटालियंस और संतान को पार्टी से हटने के लिए कहे.  कहा कि ममता इसके बाद एकजुट कांग्रेस की अध्यक्ष बनें. एनसीपी को भी कांग्रेस में विलय करना चाहिए. सुब्रमण्यम स्वामी का ये बयान ऐसे मौके पर आया है, जब कर्नाटक में कुमारस्वामी की जेडीएस और कांग्रेस गठबंधन पर खतरा मंडरा रहा है और भाजपा कर्नाटक में सरकार बनाने का प्रस्ताव पेश करने के फिराक में है.  उधर  गोवा में कांग्रेस के 10 विधायकों के  भाजपा  में शामिल होने के बाद कांग्रेस के पास केवल पांच विधायक बचे हैं.

Sport House

 

इसे भी पढ़ेंः कर्नाटक प्रकरण : SC ने स्पीकर को  दिया  मंगलवार तक का समय, तब तक विधायकों को अयोग्य नहीं ठहरा सकते

कांग्रेस ने भाजपा को इसके लिए जिम्मेदार ठहराया है

इसी तरह कर्नाटक में कांग्रेस के 13 और जेडीएस के 3 विधायकों के इस्तीफे के बाद कुमार स्वामी सरकार पर संकट के बादल मंडराने लगे हैं. कर्नाटक में अगर विधानसभा स्पीकर ने इन सभी विधायकों के इस्तीफे स्वीकार कर लिये तो भाजपा के पास कर्नाटक में सत्ता हासिल करने का मौका होगा. कर्नाटक और गोवा में जिस तरह से राजनीतिक समीकरण बदले हैं, उसके बाद कांग्रेस ने भाजपा को इसके लिए जिम्मेदार ठहराया है.

राज्यसभा में कांग्रेस के नेता गुलाम नबी आज़ाद ने भाजपा और उसके नेताओं पर संविधान की परवाह न करने का आरोप लगाया है.  आजाद ने कहा है कि भाजपा की कार्यप्रणाली को देखकर लगता है कि भाजपा सत्ता में सिर्फ धर्मनिरपेक्षता, लोकतंत्र और विपक्ष को खत्म करने के लिए ही सत्ता में आयी है. कहा कि भाजपा एक ही लक्ष्य है कि वह एक राजनीतिक पार्टी के रूप में सत्ता में बनी रहे. यह  लोकतंत्र और संविधान के अनुरूप नहीं है.

इसे भी पढ़ेंःबच्चों के साथ बढ़ रहे रेप  के मामलों पर SC ने स्वत:संज्ञान लिया,  सीजेआई ने कहा, हालात गंभीर

SP Deoghar

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like