HEALTHJharkhandRanchi

#RIMS: चयनित होने के बाद भी आखिर क्यों नहीं हो रही लैब टेक्निशियंस की नियुक्ति?

विज्ञापन

Ranchi : राज्य के सबसे बड़े अस्पताल रिम्स में आउटसोर्सिंग में कार्यरत लैब टेक्निशियंस के स्थायी रूप से चयन होने के बाद भी नियुक्ति नहीं हो पा रही है.

रिम्स निदेशक का कहना है कि वे नियुक्ति करने को तैयार हैं. जो गड़बड़ियां थी, उसकी जांच भी हो चुकी है और उन्होंने स्वास्थ्य मंत्री और विभाग को नियुक्ति के लिये दो बार लिखा है पर कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली.

वहीं स्वास्थ्य मंत्री का कहना है कि वे दो दिनों के अंदर ट्राइबल मेडिकल एसोसिएशन और 33 लैब टेक्निशियंस के साथ बैठक कर दोनों की बातें समझेंगे और फिर नियुक्ति प्रक्रिया को चालू करेंगे.

advt

मतलब दो जिम्मेदारों की अलग-अलग बात.

रिम्स निदेशक का कहना है कि जांच हो चुकी है जबकि मंत्री अभी फिर से बैठक कर मामले को समझेंगे. ऐसे में नियुक्ति प्रक्रिया अटकी रहेगी और चयनित होने के बाद भी उन्हें नियुक्ति के लिए परेशान होना पड़ रहा है.

निदेशक के अनुसार अगर मामले की जांच पूरी हो चुकी है तो फिर मंत्री किस चीज़ के लिए बैठक करना चाहते हैं. ऐसे में साफ है कि रिम्स निदेशक और मंत्री के आपसी सामंजस्य नहीं होने के कारण नियुक्ति फंसी है.

इसे भी पढ़ें – #Jharkhand: स्वास्थ्य विभाग ने राज्यभर से 51935 गर्भवती महिलाओं की सूची की है तैयार, मई में होना है प्रसव

adv

रिम्स निदेशक: टेक्निशियंस की नियुक्ति करने के लिए तैयार सरकार के आदेश का इंतजार

रांची रिम्स में पिछले कई दिनों से लैब टेक्नीशियन अपनी मांगों को लेकर हड़ताल में है. इन सभी की नियुक्ति सभी सलेक्शन प्रक्रिया को पूरा करने के बाद हो चुकी है. मेरिट लिस्ट भी आ गया है. पर इन्हें नियुक्ति पत्र नहीं दिया जा रहा.

इसको लेकर अभ्यर्थी मुख्यमंत्री स्वास्थ्य मंत्री से लेकर विभिन्न स्तर पर अपनी बात रख चुके हैं. रिम्स डायरेक्टर का कहना है कि रिम्स में लैब टेक्नीशियन की भारी कमी है. हम इन्हें नियुक्त करने के लिए तैयार हैं. पर सरकार के आदेश का इंतजार है.

इसको लेकर रिम्स डायरेक्टर स्वास्थ्य मंत्री को दो बार पत्र भी लिख चुके हैं लेकिन कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली. इसलिए अभी तक नियुक्ति नहीं की जा सकी है.

रिम्स डायरेक्टर के अनुसार चयन प्रक्रिया पूरी हो चुकी है. कुछ शिकायतें आयी थी, जिसकी जांच हो चुकी है. विभाग और स्वास्थ्य मंत्री की स्वीकृति मिले तो नियुक्ति जल्द हो सकती है.

इसे भी पढ़ें – #Jharkhand: दिव्यांग सरकारी कर्मचारी कोरोना महामारी के दौरान रोस्टर में नहीं करेंगे काम

स्वास्थ्य मंत्री: ट्राइबल मेडिकल  एसोसिएशन और 33 तकनीशियन  दोनों पक्षों की बातों के बाद नियुक्ति की प्रक्रिया होगी प्रारंभ

इसी मामले पर राज्य के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता का कहना है कि वे दो दिनों के अंदर ट्राइबल मेडिकल  एसोसिएशन और 33 तकनीशियनों के साथ बात करेंगे. दोनों पक्षों की बातें सुनेंगे. उसके बाद स्थायी नियुक्ति की प्रक्रिया प्रारंभ की जायेगी.

तकनीशियनों ने बताया कि वे अपनी मांगों को लेकर बुधवार कि सुबह 8 बजे स्वास्थ्य मंत्री से मुलाकात करने के लिए गये थे. इस दौरान मंत्री ने इन लोगो को आश्वाशन दिया कि वे जल्द ही इनके स्थायी नियुक्ति में आ रही रुकावटों को दूर कर नियुक्ति प्रक्रिया को शुरू करवायेंगे.

पिछले 5 दिनों से लगातार स्थायी नियुक्ति की मांग को लेकर हड़ताल पर चल रहे आउटसोर्सिंग तकनीशियनों ने बुधवार को स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता के आश्वासन पर हड़ताल खत्म कर ड्यूटी पर लौटे.

इसे भी पढ़ें – #Jharkhand के तीन विश्वविद्यालयों के कुलपतियों को मिला दो माह का सेवा विस्तार

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button