न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#ReliefPackage: लॉकडाउन के कारण दूसरे राज्यों में फंसे बिहारी मजदूरों के लिए नीतीश सरकार ने दिया 100 करोड़ का राहत पैकेज

750

Patna: कोरोना वायरस संक्रमण की इस मुश्किल घड़ी में सरकार ने राहत पैकेज देकर गरीबों की परेशानी कम करने की कोशिश की है. केंद्र सरकार ने जहां 1.7 लाख करोड़ के राहत पैकेज की घोषणा की है.

वहीं बिहार की नीतीश सरकार ने राज्य की गरीब जनता के लिए एक सौ करोड़ की राशि दी है. बिहार सरकार ने सीएम रिलीफ फंड से 100 करोड़ रुपये जारी किए हैं.

Whmart 3/3 – 2/4

इसे भी पढ़ेंः#Lockdown21 : कोरोना से पस्त इकोनॉमी के लिए वित्त मंत्री ने दी बड़ी राहत, #1.70 लाख करोड़ रुपये के राहत पैकेज का ऐलान

100 करोड़ का राहत पैकेज

कोरोना वायरस के मामले देश में जहां तेजी से बढ़ रहे हैं. वहीं इसे लेकर देश में 21 दिनों का लॉकडाउन है. लॉकडाउन के कारण हर तरह के कामकाज बंद है, केवल जरूरी सेवाओं को इससे मुक्त रखा गया है. ऐसे में रोजाना कमाने-खाने वालों को दिहाड़ी मजदूरों को काफी परेशानी हो रही है. खाने के लाले पड़ रहे हैं.

इन सबके बीच लॉकडाउन से निपटने के लिए बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने 100 करोड़ रुपये के राहत पैकेज की घोषणा की है. बिहार सरकार ने सीएम रिलीफ फंड से 100 करोड़ रुपये जारी किए हैं. इससे पहले बुधवार को सीएम नीतीश कुमार ने राशनकार्ड धारकों के खाते में एक-एक हजार रुपये राशि डालने का एलान किया था. .

राज्य के बाहर फंसे बिहारियों के लिए सरकार ने उठाए कदम

कोरोना वायरस के कारण बड़ी संख्या में बिहारी मजदूर दूसरे राज्यों में फंसे है. उनकी समस्याओं से निपटने के लिए बिहार सरकार ने मुख्यमंत्री राहत कोष में 100 करोड़ की राशि जारी की है. इस राशि का उपयोग लॉकडाउन के कारण बिहार के अंदर जो मजदूर, रिक्शा चालक ,ठेला चालक ,वेंडर और अन्य गरीब फंसे हुए है.
ऐसे लोगों के लिए आपदा राहत केंद्र बनाने और उनके लिए भोजन एवं आवास की व्यवस्था करने में किया जाएगा. जो लोग बिहार के बाहर फंसे हुए हैं या फिर रास्ते में हैं उनके लिए रेसिडेंट कमिश्नर के माध्यम से संबंधित राज्य सरकार और स्थानीय प्रशासन से समन्वय स्थापित कर वहीं पर भोजन एवं आवास की व्यवस्था बिहार सरकार के खर्चे पर की जा रही है. इसके अलावा आपदा राहत केंद्रों पर कोरोना संबंधित स्वास्थ्य सेवाएं भी उपलब्ध रहेगी.

लॉकडाउन की वजह से बिहार सरकार ने दूसरे राज्यों में फंसे बिहारियों की मदद के लिए अधिकारियों की टीम भी बनाई गयी है.

इसे भी पढ़ेंः#LockDown21 : दिल्ली में फंसे झारखंड के लोग, सीएम हेमंत सोरेन की पहल पर सीएम केजरीवाल ने मदद के लिए बढ़ाया हाथ

करीब 1500 बिहारी फंसे है दूसरे राज्यों में

उल्लेखनीय है कि दिल्ली में बिहार के लगभग 400, बंगाल में तकरीबन 500, तमिलनाडु में 250 पंजाब में 400 दिहाड़ी मजदूर और अन्य जगह पर काम करने वाले लोग फंसे हुए हैं. और फिलहाल उन्हें बिहार लाना संभव नहीं है.
ऐसे में बिहार सरकार ने दो फोन नबंर (981831252 और 9773711261) जारी किये हैं, जिनपर संपर्क कर मदद मांगी जा सकती है. बिहार सरकार के अधिकरियो की टीम अन्य राज्यो में फंसे बिहारियों कर रहने खाने की व्यवस्था देखेंगे. बिहार सरकार ने इसके लिए दो नंबर भी जारी किए हैं पर फ़ोन कर सहायता मांग सकते है.

न्यूज विंग की अपील

देश में कोरोना वायरस का संकट गहराता जा रहा है. ऐसे में जरूरी है कि तमाम नागरिक संयम से काम लें. इस महामारी को हराने के लिए जरूरी है कि सभी नागरिक उन निर्देशों का अवश्य पालन करें जो सरकार और प्रशासन के द्वारा दिये जा रहे हैं. इसमें सबसे अहम है खुद को सुरक्षित रखना है. न्यूज विंग की आपसे अपील है कि आप घर पर रहें. इससे आप तो सुरक्षित रहेंगे ही दूसरे भी सुरक्षित रहेंगे.

इसे भी पढ़ेंःमुंबई के भिवंडी इंडस्ट्रियल एरिया में फंसे हैं झारखंड के 500 मजदूर, लौटने के लिए सीएम से लगायी गुहार

न्यूज विंग की अपील


देश में कोरोना वायरस का संकट गहराता जा रहा है. ऐसे में जरूरी है कि तमाम नागरिक संयम से काम लें. इस महामारी को हराने के लिए जरूरी है कि सभी नागरिक उन निर्देशों का अवश्य पालन करें जो सरकार और प्रशासन के द्वारा दिये जा रहे हैं. इसमें सबसे अहम खुद को सुरक्षित रखना है. न्यूज विंग की आपसे अपील है कि आप घर पर रहें. इससे आप तो सुरक्षित रहेंगे ही दूसरे भी सुरक्षित रहेंगे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like