न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रांची: 4 सालों से निगम में जमी हैं किरण कुमारी, मामले पर चुनाव आयोग ने नगर आयुक्त से मांगा जवाब

661
  • किसी खास पार्टी के पक्ष में काम करने का आरोप लगाकर कांग्रेसी नेता ने मुख्य निर्वाचन आयुक्त से की थी लिखित शिकायत.
  • रांची नगर निगम के सहायक लोक चिकित्सा पदाधिकारी के पद पर कार्यरत हैं किरण कुमारी.
  • नगर आयुक्त ने कहा, “शिकायतकर्ता ने नहीं उपलब्ध कराया साक्ष्य”

Ranchi: रांची नगर निगम में पिछले चार सालों से एक ही पद पर कार्यरत सहायक लोक चिकित्सा पदाधिकारी डॉ किरण कुमारी के खिलाफ चुनाव आयोग सख्त हो गया है.

कांग्रेसी नेता राजीव रंजन प्रसाद की ओर से किये गये लिखित शिकायत पर अपर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कृपानंद झा ने नगर आयुक्त मनोज कुमार को मामले की आवश्यक जांचकर रिपोर्ट उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है. वहीं नगर आयुक्त ने कहा कि मामले को लेकर भी जो आवश्यक तथ्य हैं, वह जांच कर आयोग को दे दिया गया है.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

इसे भी पढ़ें- मोदी ने ओवैसी द्वारा गढ़े गए तिलिस्म को बोकारो में चूर-चूर कर दिया

खास पार्टी से जुड़े होने को लेकर की थी शिकायत

कांग्रेस नेता सह प्रवक्ता राजीव रंजीव रंजन ने गत तीन दिसंबर को निगम की स्वास्थ्य पदाधिकारी को लेकर एक शिकायत मुख्य निर्वाचन आयुक्त से की थी. शिकायत में उन्होंने कहा था कि डॉ किरण कुमारी पिछले 4 सालों से निगम के अंतर्गत एक महत्वपूर्ण पद पर कार्यरत हैं. लेकिन उनका अभी तक ट्रांसफर नहीं हुआ है.

Related Posts

#Bermo: उद्घाटन के एक माह बाद भी लोगों के लिए नहीं खोला जा सका फ्लाइओवर और जुबली पार्क

144 करोड़ की लागत से बना है, डिप्टी चीफ ने कहा-अगले सप्ताह चालू कर दिया जायेगा

स्वास्थ्य पदाधिकारी के पति एक खास पार्टी से जुड़े होने के साथ बिहार के मंत्री भी हैं, जो काफी प्रभावशाली हैं. आम जन से जुड़े पद पर जमे होने से इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता है कि वह राज्य विधानसभा चुनाव में उस खास पार्टी को लाभ नहीं पहुंचा सकती हैं.

इसे भी पढ़ें- #JharkhandElection: CRPF का आरोप, कहा- जवानों के साथ किया ‘जानवरों जैसा बर्ताव’

शिकायतकर्ता ने नहीं दिया है कोई साक्ष्य: नगर आयुक्त

पूरे मामले पर नगर आयुक्त मनोज कुमार ने कहा है कि इसपर निगम ने आवश्यक जांच कर अपनी रिपोर्ट भेज दी है. जांच रिपोर्ट में लिखा गया है कि डॉ किरण कुमारी संबंधित पद पर मार्च 2016 से कार्यरत हैं.

चूंकि नगर निगम विधानसभा चुनाव में सीधे तौर पर संलिप्त नहीं होता है, इसलिए उनपर शिकायत सही नहीं है. कांग्रेसी नेता ने उनपर किसी भी पक्ष पर काम करने का आरोप लगाते हुए जो शिकायत की है, उसका साक्ष्य भी उनके द्वारा उपलब्ध नहीं कराया गया है. अब मामले पर अंतिम निर्णय निर्वाचन आयोग को लेना है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like