JharkhandRanchi

रांची: 4 सालों से निगम में जमी हैं किरण कुमारी, मामले पर चुनाव आयोग ने नगर आयुक्त से मांगा जवाब

विज्ञापन
  • किसी खास पार्टी के पक्ष में काम करने का आरोप लगाकर कांग्रेसी नेता ने मुख्य निर्वाचन आयुक्त से की थी लिखित शिकायत.
  • रांची नगर निगम के सहायक लोक चिकित्सा पदाधिकारी के पद पर कार्यरत हैं किरण कुमारी.
  • नगर आयुक्त ने कहा, “शिकायतकर्ता ने नहीं उपलब्ध कराया साक्ष्य”

Ranchi: रांची नगर निगम में पिछले चार सालों से एक ही पद पर कार्यरत सहायक लोक चिकित्सा पदाधिकारी डॉ किरण कुमारी के खिलाफ चुनाव आयोग सख्त हो गया है.

कांग्रेसी नेता राजीव रंजन प्रसाद की ओर से किये गये लिखित शिकायत पर अपर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कृपानंद झा ने नगर आयुक्त मनोज कुमार को मामले की आवश्यक जांचकर रिपोर्ट उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है. वहीं नगर आयुक्त ने कहा कि मामले को लेकर भी जो आवश्यक तथ्य हैं, वह जांच कर आयोग को दे दिया गया है.

इसे भी पढ़ें- मोदी ने ओवैसी द्वारा गढ़े गए तिलिस्म को बोकारो में चूर-चूर कर दिया

advt

खास पार्टी से जुड़े होने को लेकर की थी शिकायत

कांग्रेस नेता सह प्रवक्ता राजीव रंजीव रंजन ने गत तीन दिसंबर को निगम की स्वास्थ्य पदाधिकारी को लेकर एक शिकायत मुख्य निर्वाचन आयुक्त से की थी. शिकायत में उन्होंने कहा था कि डॉ किरण कुमारी पिछले 4 सालों से निगम के अंतर्गत एक महत्वपूर्ण पद पर कार्यरत हैं. लेकिन उनका अभी तक ट्रांसफर नहीं हुआ है.

स्वास्थ्य पदाधिकारी के पति एक खास पार्टी से जुड़े होने के साथ बिहार के मंत्री भी हैं, जो काफी प्रभावशाली हैं. आम जन से जुड़े पद पर जमे होने से इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता है कि वह राज्य विधानसभा चुनाव में उस खास पार्टी को लाभ नहीं पहुंचा सकती हैं.

इसे भी पढ़ें- #JharkhandElection: CRPF का आरोप, कहा- जवानों के साथ किया ‘जानवरों जैसा बर्ताव’

शिकायतकर्ता ने नहीं दिया है कोई साक्ष्य: नगर आयुक्त

पूरे मामले पर नगर आयुक्त मनोज कुमार ने कहा है कि इसपर निगम ने आवश्यक जांच कर अपनी रिपोर्ट भेज दी है. जांच रिपोर्ट में लिखा गया है कि डॉ किरण कुमारी संबंधित पद पर मार्च 2016 से कार्यरत हैं.

adv

चूंकि नगर निगम विधानसभा चुनाव में सीधे तौर पर संलिप्त नहीं होता है, इसलिए उनपर शिकायत सही नहीं है. कांग्रेसी नेता ने उनपर किसी भी पक्ष पर काम करने का आरोप लगाते हुए जो शिकायत की है, उसका साक्ष्य भी उनके द्वारा उपलब्ध नहीं कराया गया है. अब मामले पर अंतिम निर्णय निर्वाचन आयोग को लेना है.

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button