न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रांची : 27 मिनट के भाषण में राहुल गांधी ने 15 बार कहा, “चौकीदार चोर है”

706

Ranchi : दो मार्च का इंतजार सिर्फ कांग्रेस को नहीं, बल्कि राज्य की सभी राजनीतिक पार्टियों को था. सभी देखना चाहते थे कि आखिर अध्यक्ष बनने के बाद राहुल गांधी क्या सही में एक प्रधानमंत्री की शख्सियत वाले नेता हो गये हैं. मोरहाबादी मैदान में खचाखच भरी भीड़ को भी इसी नजारे का इंतजार था. सभी राहुल को सुनना चाहते थे. राहुल गांधी आये और खूब बोले. अपने करीब 27 मिनट के भाषण में राहुल ने पब्लिक को बोर नहीं किया. जाहिर है सभा कांग्रेस की थी, कार्यकर्ता भी कांग्रेस के ही थे. ऐसे में भीड़ जो सुनना चाह रही थी, राहुल ने वैसा ही भाषण दिया. उन्होंने अपने पूरे 27 मिनट के भाषण के दौरान 15 बार “चौकीदार चोर है” कहा. पूरे भाषण में पीएम नरेंद्र मोदी ही निशाने पर थे. इस भाषण के बाद उनको सुन रही जनता ने आकलन कर लिया है कि राहुल कितने तैयार हैं और थे. पढ़िये पूरा भाषण राहुल ने क्या कहा.

चौकीदार चोर है…

आज से कुछ साल पहले नारा चला था कि अच्छे दिन आयेंगे. लेकिन, अब नया नारा चला है कि चौकीदार चोर है. चार से पांच साल में अच्छे दिन से चौकीदार चोर हो गया. जैसे ही मैं चौकीदार बोलता हूं, उधर से आवाज आती है कि चोर है. एक चौकीदार ने देश के सारे चौकीदारों को बदनाम कर रखा है. अब तो चौकीदार लोग भी कहने लगे हैं कि चौकीदार चोर है. इस देश के चौकीदार ने सिर्फ राफेल मामले में ही चोरी नहीं की, कई मामले हैं, जिनमें चोरी हुई है. जिस वायुसेना ने हिंदुस्तान की रक्षा की, चौकीदार ने उसी वायुसेना के 30 हजार करोड़ रुपये चुराकर अनिल अंबानी को दे दिये. फ्रांस के राष्ट्रपति कह रहे हैं कि राफेल मामले में भारत के पीएम ने कहा था कि सौदा अनिल अंबानी को देना होगा. कितनी शर्म की बात है कि जो वायुसेना देश की रक्षा करती है, जिसके पायलेट देश के लिए शहीद होते हैं, उससे जुड़े सौदे में चोरी हुई. इससे ज्यादा शर्म की बात क्या हो सकती है. चौकीदार सिर्फ वायुसेना से ही चोरी नहीं करता, बल्कि यहां के मजदूरों से, किसानों से, आदिवासियों से, सभी से चोरी करता है.

कांग्रेस ने जमीन बचाने की कोशिश की और बीजेपी ने लूटने की

2013 में कांग्रेस ने पेसा कानून लाया. जमीन अधिग्रहण बिल लाया. कांग्रेस ने ऐसा किया, क्योंकि यह जल, जंगल और जमीन आपकी है. किसी अनिल अंबानी की नहीं. अडानी की नहीं. हमारे कानून के मुताबिक किसी जमीन को लेने के पहले किसानों की राय जाननी होती थी. जब 80 फीसदी किसान जमीन देने के लिए राजी हो जाते हैं. तभी बाजार मूल्य से चार गुणा ज्यादा पैसा देकर जमीन अधिग्रहण का काम होता था. जमीन अधिग्रहण होने के बाद भी सोशल ऑडिट होता था. कांग्रेस ऐसा कभी नहीं होने देगी कि आपकी सारी जमीन सिर्फ 15-20 उद्योगपतियों के पास चली जाये. मोदी की सरकार आते ही उन्होंने इस बिल को बदलने की कोशिश की. केंद्र में हमने ऐसा नहीं होने दिया, तो राज्य सरकार की मदद से बीजेपी कानून में संशोधन करने लगी.

हम किसानों का और मोदी उद्योगपतियों का कर्ज माफ करते हैं

छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश और राजस्थान में चुनाव से पहले मैंने कहा था कि हमारी सरकार बनी, तो हम 10 दिनों के अंदर किसानों का कर्ज माफ कर देंगे. हमारी सरकार बनते ही हमने दो दिनों के अंदर किसानों का कर्ज माफ किया. नरेंद्र मोदी तो सिर्फ झूठ बोलने का काम करते हैं. कहा कि 15 लाख अकाउंट में आ जायेंगे. आये क्या? छत्तीसगढ़ की सरकार ने एक नया कानून बनाया. अगर किसी जमीन को उद्योगपति लेता है और पांच साल के अंदर जमीन का इस्तेमाल नहीं होता है, तो जमीन वापस आदिवासियों को दे दी जायेगी. बस्तर में टाटा कंपनी ने एक जमीन का अधिग्रहण किया था. पांच साल हो गये, प्लांट नहीं लगा. इस पर सरकार ने उससे जमीन वापस लेकर आदिवासियों को देने का काम किया. आपको जानकर खुशी होगी कि छत्तीसगढ़ में किसानों को धान के बदले 2500 रुपये मिलते हैं. हमने किसानों का कर्ज माफ किया और मोदी ने 15 उद्योगपतियों का कर्ज माफ किया. मोदी सरकार अमीर का कर्ज तो माफ कर सकती है, लेकिन गरीबों का नहीं.

कांग्रेस जीती, तो मिनिमम इनकम योजना होगी शुरू

WH MART 1

मोदी सरकार मेक इन इंडिया की बात करती है, लेकिन जहां देखिए मेड इन चाइना है. झारखंड में रोजगार का घोर संकट है. यहां आये सभी युवा से पूछता हूं कि क्या करते हैं आप. जवाब मिलेगा- कुछ नहीं (युवाओं ने हाथ हिलाकर कहा नहीं). बजट सत्र के दौरान इनकी सरकार के वित्त मंत्री ने कुछ कहा, तो वहां मौजूद बीजेपी के एमपी मेज थपथपाकर ताली बजाने लगे. मेज थपथपाते हुए सभी मोदी की तरफ देख रहे थे कि कहीं वह गुस्सा तो नहीं. पांच मिनट तक मेज बजता रहा. पता चला कि किसानों को महज तीन रुपये प्रतिदिन देने की योजना के बदले मेज थपथपायी जा रही है. दिल्ली में अगर कांग्रेस की सरकार बनी, तो सरकार मिनिमम इनकम योजना की शुरुआत करेगी. इस योजना के तहत सरकार की तरफ से सीधा पैसा आपके अकाउंट में आयेगा. मोदी चोर की जेब में पैसा डाल सकते हैं,  तो हम गरीबों की जेब में क्यों नहीं. ऐसी योजना लानेवाला हिंदुस्तान पहला देश होगा.

सभी चोर के नाम मोदी क्यों

नीरव मोदी का नाम सुना है आपने. आपको पता है नरेंद्र मोदी उसे भाई कहकर बुलाते हैं. ललित मोदी और मेहुल को भी नरेंद्र मोदी भाई कहते थे. पता नहीं क्यों, लेकिन सभी चोर का नाम मोदी ही क्यों होता है. ललित, नीरव, नरेंद्र सभी मोदी चोर हैं. कांग्रेस ने मनरेगा दिया. हरित क्रांति, श्वेत क्रांति, कंप्यूटर, टेलीफोन सभी कुछ दिया. नरेंद्र ने क्या दिया. 15 लाख दिया क्या? हिंदुस्तान साफ हुआ क्या? वह जहां भी जाते हैं, नफरत फैलाने का काम करते हैं. हिंदू और मुसलमान के नाम पर, नॉर्थ-ईस्ट को पूरे भारत से लड़वा देते हैं. हमारे कार्यकर्ताओं का काम नफरत मिटाने का है. झारखंड में एक साथ पूरा विपक्ष आ रहा है. आनेवाले चुनाव के बाद सभी 14 सीटों पर बीजेपी दिखाई नहीं देगी. छह महीने के बाद विधानसभा चुनाव आनेवाला है. वह भी गठबंधन ही जीतेगा. झारखंड गरीब नहीं है, बल्कि झारखंड की जनता गरीब है. यह अमीर प्रदेश है और चौकीदार चोर है. 2019 में चौकीदार को दिल्ली से भगायेंगे.

मैंने कभी झूठ नहीं बोला और मोदी ने कभी सच नहीं

2004 से ही मैं राजनीति में हूं. उस वक्त से लेकर आज तक के मेरे सभी भाषणों को सुनिये. मैंने कभी झूठा वादा नहीं किया. मेरा एक भी झूठा भाषण आप नहीं दिखा सकते हो. वहीं, नरेंद्र मोदी के भाषण में एक भी सच दिखाई दे जाये, तो कहिये. आपके साथ मिलकर झारखंड को बदलने आया हूं. पूरा भरोसा है कि झारखंड में गठबंधन वाली सरकार झारखंड को बदलकर रख देगी. मोदी सरकार दो हिंदुस्तान चाहती है. एक अनिल अंबानी का और दूसरा गरीबों का. ऐसा हम नहीं होने देंगे. झंडा एक ही है और हिंदुस्तान भी एक ही रहेगा. मैं झारखंड को बदलने का आश्वासन देकर जा रहा हूं.

इसे भी पढ़ें- मुआवजे के नाम पर फिर छले गये प्रदेश के किसान: केंद्र से मांगे थे 1505 करोड़, मिले 272 करोड़

इसे भी पढ़ें- झारखंड में लोकसभा चुनाव और आगामी विधानसभा चुनाव की होगी जीपीएस ट्रैकिंग

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like