National

#IndiaSupportsCAA कैंपेन की शुरुआत की PM मोदी ने, कहा- CAA शरणार्थियों को नागरिकता देने के लिए है…किसी से लेने के लिए नहीं 

NewDelhi : सोशल मीडिया पर CAA के समर्थन में एक हैशटैग की शुरुआत की गयी है. यह शुरुआत  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने  की है.  Citizenship Amendment Act के समर्थन में सोशल मीडिया पर हैशटैग की शुरुआत करते हुए पीएम मोदी ने narendramodi_in की आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर एक ट्वीट किया है. उन्होंने ट्वीट में लिखा, #IndiaSupportsCAA क्योंकि CAA (नागरिकता संशोधन कानून) अत्याचार के शिकार शरणार्थियों को नागरिकता देने के लिए है न कि नागरिकता से दूर करने के लिए है.

इसे भी पढ़ें : हेमंत सरकार के लिए नक्सलवाद हो सकती है बड़ी चुनौती, पिछली सरकार ने किया था खात्मे का दावा   

भाजपा ने  22 दिसंबर को  दिल्ली में आभार रैली आयोजित की थी

जान लें कि कि भाजपा ने पिछले सप्ताह 22 दिसंबर को राजधानी दिल्ली में आभार रैली  आयोजित की थप. इस रैली में   पीएम मोदी ने मंच से नागरिकता संशोधन कानून (CAA) पर पहली बार चुप्पी तोड़ते हुए कहा था कि अगरआपको मैं पसंद नहीं हूं, मोदी से नफरत है, तो मोदी के पुतले को जूते मारो, मोदी का पुतला जलाओ लेकिन देश के गरीब का ऑटो मत जलाओ, किसी की संपत्ति मत जलाओ.

इसे भी पढ़ें : #Petroleum_Minister धर्मेंद्र प्रधान ने कहा, भारत में केवल वही रह सकते हैं जो भारत माता की जय बोलेंगे

लोग कागजों के नाम पर मुस्लिमों को भ्रमित कर रहे हैं

सारा गुस्सा मोदी पर निकालो. हिंसा के बल पर आपको क्या मिलेगा. कुछ लोग पुलिस वालों पर पत्थर बरसा रहे हैं. पुलिस वाले किसी के दुश्मन नहीं होते. पीएम ने कहा था कि आजादी के बाद हमारे 33 हजार पुलिस भाइयों ने शांति और सुरक्षा के लिए शहादत दी है. यह आंकड़ा कम नहीं होता है. इस क्रम में पीएम मोदी ने  कहा था कि जब हमने आठ करोड़ लोगों को उज्जवला योजना के तहत गैस कनेक्शन दिये तो क्या हमने उनका धर्म पूछा, उनकी जाति पूछी, हमने सिर्फ गरीब को गरीबी को देखा.

मैं पूछना चाहता हूं कांग्रेस नेताओं से कि आप क्यों देश की जनता से झूठ बोल रहे हो, क्यों उन्हें भड़का रहे हो. ये लोग देश को गुमराह कर रहे हैं. आज ये लोग कागजों के नाम पर मुस्लिमों को भ्रमित कर रहे हैं. झूठे आरोप लगाकर भारत को दुनिया में बदनाम किया जा रहा है. ये लोग साजिश रच रहे हैं.

इसे भी पढ़ें : देश और विदेशों तक में युवा आंदोलन की बयार नई राजनीतिक इबारत लिखने के लिए आमादा दिख रही है  

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button