JharkhandLead NewsPalamu

पलामू : क्या है यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया के लॉकर पर रहस्य ? तीन और ग्राहकों की संपत्ति हुई गायब !

Palamu : पलामू जिला मुख्यालय मेदिनीनगर के धर्मशाला रोड में स्थित यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया, जो अब पंजाब नेशनल बैंक में परिवर्तित हो गया है, वहां से लॉकर को लेकर चौकाने वाले मामले हर दिन सामने आ रहे हैं. सोमवार को तीन और ग्राहकों के लॉकर नहीं खुले. इस संबंध में पीड़ित ग्राहकों ने लॉकर से संपत्ति गायब हो जाने की शिकायत शहर थाने में दर्ज करायी है. लॉकर नहीं खुलने के बाद से पीड़ित ग्राहक और उनके परिवार का रो-रो कर बुरा हाल है.

विदित हो कि गत 13 सितंबर को बिरसा कृषि विश्वविद्यालय चियांकी में कार्यरत कृषि वैज्ञानिक डॉ. अशोक सिन्हा ने अपने लॉकर से सोने के बने जेवरात गायब होने की रपट शहर थाना में लिखवाई है.

advt

कृषि वैज्ञानिक अशोक सिन्हा ने बताया कि उनकी सैलरी अकाउंट एवं लॉकर यूनाइटेड बैंक में ही है. तीन माह पूर्व उन्होंने अपना लॉकर, जिसका क्रमांक 54 है, उसे ऑपरेट किया था. पुनः खोलने पर नहीं खुला.

जब लॉकर को तोड़ा गया तो उसमें से करीब 21 लाख के सोने के आभूषण गायब थे. मामले में अनुसंधान चल रहा है. पुलिस का दावा है कि इसमें उन्हें अहम सुराग हाथ लगे हैं. जल्द खुलासा कर दिया जाएगा.

इसे भी पढ़ें: हेमंत सोरेन के भोजपुरी-मगही पर दिये विवादित बयान पर बोले नीतीश- राजनीति के लिए कुछ लोग ऐसा बयान देते हैं 

बैंक में बिलखते नजर आए परिजन

यूनाइटेड बैंक में रेड़मा के प्रतापनगर निवासी रमन किशोर सिंह, नीलाम्बर पीताम्बर विश्वविद्यालय के कर्मी राजीव मुखर्जी और वेद प्रकाश शुक्ला के लॉकर सोमवार को नहीं खुले. पूर्व की घटना के मद्देनजर तीनों अपने लॉकर की स्थिति जांचने के लिए बैंक पहुंचे.

प्रक्रिया के तहत ग्राहक और बैंक मैनेजर की एक एक चाभी से लॉकर खोलने की कोशिश की गयी तो इसमें सफलता नहीं मिली.

लॉकर नहीं खुलने पर ग्राहकों के घरों की महिलाएं बैंक परिसर में ही बिलखने लगी. सूचना मिलने पर जिले के पुलिस अधीक्षक चंदन कुमार सिन्हा जांच के लिए मौके पर पहुंचे और साथी पुलिसकर्मियों के साथ पीड़ित ग्राहकों को संयम रखने के लिए समझाया.

इसे भी पढ़ें: हैवियस कॉर्पस मामलाः हाइकोर्ट ने किया फैसला- करतूरबा गांधी आवासीय विद्यालय में पढ़ेगी नाबालिक

बैंककर्मियों की संलिप्तता से इंकार नहीं, दोषीयों पर होगी कार्रवाई : एसपी

बैंक परिसर में एसपी चंदन कुमार सिन्हा ने कड़े तेवर दिखाए. बैंक मैनेजर सहित अन्य कर्मियों से पूछताछ की. उन्होंने कहा कि यूनाइटेड बैंक के ही लॉकर से दस दिन पूर्व एक ग्राहक के सोने के जेवरात गायब होने का मामला दर्ज कराया गया है. इसमें अनुसंधान चल रहा है. पुलिस करीब करीब अपराधियों तक पहुंच चुकी है.

अहम सुराग हाथ लगे हैं. पूर्व की तरह ही तीन नए मामले सामने आए हैं, जिस तरह से घटना हो रही है, उससे बैंक कर्मियों की संलिप्तता से इंकार नहीं किया जा सकता.

इसमें जो भी दोषी होंगे, उनपर कार्रवाई की जाएगी. नीचे से उपर तक के पदाधिकारियों की भूमिका की जांच होगी. एसपी ने बैंक मैनेजर को निर्देश दिया कि लॉकर तोड़ने के एवज में ग्राहकों से लिए जाने वाले चार्ज नहीं वसूले जायेंगे.

इसे भी पढ़ें: झारखंड में अप्रशिक्षित शिक्षकों को ग्रेड वन की स्वीकृति, मिलेगा वेतन लाभ

कई कर्मियों को पुलिस ले गयी पूछताछ के लिए

घटना के बाद यूनाइटेड बैंक के कई कर्मियों को पुलिस ने पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है. एसपी के आने के बाद एक एक करके बैंक मैनेजर सहित अन्य से पूछताछ की गयी और दो से तीन कर्मियों को पुलिस अपने साथ ले गयी. सभी स्टॉफ की फोटोग्राफी भी करायी गयी है.

इसे भी पढ़ें: फैंटम रेस्टोरेंट को किया गया सील, अवैध रूप से किया गया था निर्माण

दो घंटे तक हुआ हंगामा

रेड़मा के प्रतापनगर निवासी रमन किशोर सिंह, नीलाम्बर पीताम्बर विश्वविद्यालय के कर्मी राजीव मुखर्जी और वेद प्रकाश शुक्ला के लॉकर नहीं खुलने पर बैंक परिसर में दो घंटे तक हंगामा हुआ.

संपत्ति गायब होने से महिलाओं का रो रो कर बुरा हाल था. राजीव मुखर्जी और वेद प्रकाश शुक्ला लगातार परेशान थे. एसपी के पहुंचने पर दोनों ने पूरे मामले की जानकारी उन्हें दी.

इसे भी पढ़ें: BCCI ने घरेलू खिलाड़ियों की बढ़ाई मैच फीस, अब क्रिकेटरों को मिलेंगे इतने पैसे

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: