न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सीएम के 60 सीट जीतने के दावे पर सुबोधकांत सहाय ने कहा “जमीन तक नसीब नहीं होगी भाजपाइयों को”

291

Ranchi : मुख्यमंत्री रघुवर दास के 14 लोकसभा सीट और 60 विधानसभा सीट जीतने के दावे पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोधकांत ने कहा कि यह दावा भाजपा के केवल बड़बोलेपन के सिवाय कुछ नहीं है. आगामी चुनाव में भाजपाइयों को जमीन तक नसीब नहीं होगी. उन्होंने कहा कि सीएम को याद रखना चाहिए कि 2014 में जब भाजपा के आका पीएम मोदी पीक पर थे, इस दौरान उन्होंने राज्यभर में 30 से 40 रैलियों को संबोधित किया था. उस वक्त भी भाजपा ने दावा किया था कि वे 60 सीट जीतेंगे. लेकिन बड़े मुश्किल से भाजपा 37 सीट बचा सकी थी.

जब इन्हें सहयोगी दलों से 5 सीट का साथ मिला, तो भाजपा ने सरकार बनायी. ऐसे में फिर से रघुवर दास का यह दावा सिवाय बड़बोलेपन के और कुछ नहीं है. सुबोधकांत सहाय ने आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर अपने आवास में की जा रही प्रखंड स्तरीय बैठक के दौरान कही. इस दौरान रांची संसदीय क्षेत्र में पड़ने वाले सभी विधानसभा स्थित प्रखंड स्तरीय कार्यकर्ताओं को चुनाव के लिए जुट जाने का निर्देश दिया.

2 सीट जीतने पर भाजपाइयों की स्थिति हो जाती खराब

सुबोधकांत ने कहा कि 2014 के विधानसभा चुनाव के दौरान राज्य में महागठबंधन की कोई उम्मीद नहीं थी. इस दौरान कांग्रेस सहित झामुमो, झाविमो, वाम दल अलग-अलग होकर चुनाव लड़े थे. इसके बाद में इन्होंने 39 सीटों पर जीत दर्ज की थी. अगर 2 सीट विपक्षी दलों की बढ़ जाती, तो भाजपाइयों की स्थिति खराब हो जाती. अब करीब चार साल के भाजपा सत्ता में लूट-खसोट, भ्रष्टाचार चरम पर है. महागठबंधन तैयार है, ऐसे में रघुवर दास को सोचना चाहिए कि इस चुनाव में भाजपा की स्थिति क्या होने वाली है.

महागठबंधन तोड़ेगा भाजपाइयों का घंमड

उन्होंने कहा कि रघुवर दास 81 में 60 सीट जीतने का दावा करती है, जबकि उऩ्हें यह समझना चाहिए कि अपने चार साल में जिस तरह से राज्य के हर वर्गों को ढ़गने का काम किया है. ऐसे में चुनाव के बाद राज्य की जनता तो उन्हें कड़ा जबाव देगी. वहीं कहा कि राज्य के आगामी चुनावों में महागठबंधऩ काफी मजबूती के साथ चुनाव लडने जा रहा है. उन्होंने दावा किया कि महागठबंधन का स्वरूप बनने की बस देरी है.

कार्यकर्ता रहें तैयार, चुनावी माह शुरू

प्रखंडस्तरीय कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए सुबोधकांत ने कहा कि उन्हें यह समझना चाहिए कि चुनावी साल खत्म हो चूका है. अब चुनावी माह शुरू हो गया है. पार्टी कार्यकर्ताओं को अब पूरी तरह से तैयार हो जाना चाहिए.

इसे भी पढ़ें : मुख्यमंत्री जी! आपने पारा शिक्षकों को लॉलीपॉप पकड़ा दिया : एकीकृत पारा शिक्षक संघर्ष मोर्चे

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: