न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

नहीं चेते तो पीने लायक नहीं बचेगा पानी, नदियां हो रही प्रदूषित, तेजी से घट रही ऑक्सीजन की मात्रा

765
  • तिलैया और चांडिल डैम को छोड़कर अन्य जगहों पर नदियों का पानी जानवरों और मछलियों के लिए सुरक्षित नहीं
  • झारखंड राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने जारी की नदियों के पानी की रिपोर्ट, 15 जगहों से पानी का सैंपल लेकर किया जांच
mi banner add

Ravi Aditya

Ranchi : झारखंड में अगर लोग नहीं चेते तो पीने लायक पानी भी नहीं मिलेगा. वजह यह है कि झारखंड की नदियों का पानी तेजी से प्रदूषित हो रहा है. पानी में ऑक्सीजन की मात्रा घटती जा रही है. मानक से पानी में बायोलॉजिकल ऑक्सीजन डिमांड (बीओडी) अधिक हो गया है. जबकि बायोलॉजिकल ऑक्सीजन डिमांड मानक से कम होना चाहिए.

झारखंड राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने झारखंड की सात नदियों का 15 जगहों से पानी का सैंपल एकत्र कर जांच किया था. इन नदियों में गर्गा, शंख, स्वर्णरेखा, दामोदर, जुमार, कोनार और नलकरी नदी के पानी के सैंपल शामिल थे. जिसमें अधिकांश जगहों पर पानी में ऑक्सीजन की मात्रा कम पाई गई.

सभी नदियां कई जगहों पर हो गई हैं प्रदूषित

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की रिपोर्ट के अनुसार सभी नदियां कई जगहों पर प्रदूषित हो गई हैं. वहां पानी में ऑक्सीजन की कमी तेजी से बढ़ती जा रही है. गर्गा नदी का पानी तालमुचू ब्रिज बोकारो के पास प्रदूषित हो गया है. वहां बायोलॉजिकल ऑक्सीजन डिमांड 4.2 मिलीग्राम प्रति लीटर हो गई है।.जबकि बायोलॉजिकल ऑक्सीजन डिमांड दो से तीन मिलीग्राम प्रति लीटर से कम होना चाहिये. इसी तरह शंख, स्वर्णरेखा और नलकरी नदी में भी ऑक्सीजन की मात्रा कम होती जा रही है.

इसे भी पढ़ेंःक्यों न बीमार पड़े झारखंड? भगवान भरोसे मरीजों का इलाज, न नर्स, न डॉक्टर, न ही जरूरत भर पारा मेडिकल…

किसी भी नदी का पानी जानवरों और मछलियों के लिए सेफ नहीं

जिन नदियों के पानी का सैंपल लिया गया था वहां का पानी जानवरों और मछलियों के लिए सेफ नहीं है. जानवरों और मछलियों के लिए पानी में बायलॉजिकल ऑक्सीजन डिमांड की मात्रा 1.2 मिलीग्राम से कम होनी चाहिये. जबकि झारखंड की नदियों में इसकी मात्रा सात मिलीग्राम प्रति लीटर से लेकर 1.5 मिलीग्राम प्रति लीटर तक है. इसकी वजह से काफी संख्या में मछलियां मर रही हैं और जानवरों को भी कई तरह की बीमारियां हो रही है.

कौन नदी कहां है प्रदूषित और क्या है मानक

नदी का नाम                   किस जगह जांच                    कितना बीओडी कितना है बीओडी का मानक
गर्गा-तलमच्चो                   तलमच्चो ब्रिज                      4.2मिलीग्राम प्रति लीटर 3 मिलीग्राम प्रति लीटर से कम
स्वर्णरेखा                        नामकुम ब्रिज                       3.2 मिलीग्राम प्रति लीटर 3 मिलीग्राम प्रति लीटर से कम
स्वर्णरेखा                         टाटीसिल्वे                          3.3 मिलीग्राम प्रति लीटर 3 मिलीग्राम प्रति लीटर से कम
स्वर्णरेखा                        जमशेदपुर                           7.0 मिलीग्राम प्रति लीटर 3 मिलीग्राम प्रति लीटर से कम
जुमार                             कांके                                3.1 मिलीग्राम प्रति लीटर 3 मिलीग्राम प्रति लीटर से कम

इसे भी पढ़ेंःखूंटी से कालीचरण मुंडा, धनबाद से कीर्ति आजाद कांग्रेस के उम्मीदवार, हजारीबाग अब भी होल्ड पर

किस नदी में किस जगह ऑक्सीजन की मात्रा बॉर्डर लाइन में

नदी का नाम                 किस जगह जांच                       कितना बीओडी कितना है बीओडी का मानक
शंख                           बोलवा सिमडेगा                       2.1मिलीग्राम प्रतिलीटर 3 मिलीग्राम प्रति लीटर से कम
स्वर्णरेखा                     गेतलसूद                                2.7 मिलीग्राम प्रति लीटर 3 मिलीग्राम प्रति लीटर से कम
स्वर्णरेखा                     मूरी रोड ब्रिज                          2.6 मिलीग्राम प्रति लीटर 3 मिलीग्राम प्रति लीटर से कम
नलकरी                       पतरातू                                  2.9 मिलीग्राम प्रति लीटर 3 मिलीग्राम प्रति लीटर से कम

किस नदी में किस जगह का पानी जानवरों व मछलियों के लिए सेफ नहीं

नदी का नाम          जगह              बीओडी की मात्रा जानवरों के लिये          पानी में कितना है बीओडी का मानक

गर्गा                   तलमच्चो ब्रिज         4.2 मिलीग्राम प्रति लीटर                    1.2 मिलीग्राम प्रति लीटर से कम
शंख                   बोलवा सिमडेगा      2.1 मिलीग्राम प्रति लीटर                    1.2 मिलीग्राम प्रति लीटर से कम
स्वर्णरेखा             हटिया डैम             1.9 मिलीग्राम प्रति लीटर                    1.2 मिलीग्राम प्रति लीटर से कम
स्वर्णरेखा             नामकुम                3.2 मिलीग्राम प्रति लीटर                    1.2 मिलीग्राम प्रति लीटर से कम
स्वर्णरेखा            टाटीसिल्वे               3.3 मिलीग्राम प्रति लीटर                    1.2 मिलीग्राम प्रति लीटर से कम
स्वर्णरेखा          गेतलसूद डैम             2.7 मिलीग्राम प्रति लीटर                    1.2 मिलीग्राम प्रति लीटर से कम
स्वर्णरेखा         मूरी रोड                    2.6 मिलीग्राम प्रति लीटर                    1.2 मिलीग्राम प्रति लीटर से कम
स्वर्णरेखा         जमशेदपुर                  7.0 मिलीग्राम प्रति लीटर                    1.2 मिलीग्राम प्रति लीटर से कम
दामोदर          धनबाद                      2.0 मिलीग्राम प्रति लीटर                    1.2 मिलीग्राम प्रति लीटर से कम
जुमार            कांके डैम                    3.1 मिलीग्राम प्रति लीटर                    1.2 मिलीग्राम प्रति लीटर से कम
नलकरी          पतरातू डैम                 2.9 मिलीग्राम प्रति लीटर                     1.2 मिलीग्राम प्रति लीटर से कम

इसे भी पढ़ें: पूर्व नौकरशाहों ने राष्ट्रपति को लिखी चिट्ठी, निर्वाचन आयोग की निष्पक्षता पर उठाये सवाल

नोट : प्रदूषण बोर्ड की जांच रिपोर्ट के अनुसार, तिलैया डैम, चांडिल डैम का पानी जानवरों और मछलियों के लिए सेफ है. बाकी जगहों पर ऑक्सीजन की मात्रा कम हो गई है. ऑक्सीजन की मात्रा कम होने की वजह प्रदूषण का बढ़ना होता है.

क्या कहते हैं पर्यावरणविद्

पर्यावरणविद् डॉ नितिश प्रियदर्शी के अनुसार प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को और विस्तृत अध्ययन करने की जरूरत है. पानी की जांच के साथ भारी धातू जैसे आर्सेनिक, जिंक, मर्करी, लीड सहित अन्य धातुओं के मिश्रण का भी अध्ययन करना चाहिए. साथ ही रिपोर्ट में यह भी दर्शाना चाहिए कि किस समय, कितने तापमान पर पानी की जांच की गई. साथ ही पानी का पीएच मानक भी दर्शाना चाहिए. तभी स्पष्ट रूप से विश्लेषण हो पायेगा.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: