न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मेदांता अस्पताल : गंभीर बीमारी योजना के नाम पर मरीजों से लाखों लूटा, कार्रवाई से मरीजों का ही हुआ नुकसान

393

Ranchi :  राजधानी का मेदांता अस्पताल आर्थिक अपराध भी करता है. बीपीएल मरीजों के नाम पर सरकार से तो पैसा लेता ही है. मगर मरीजों से भी बिल के नाम पर अवैध तरीके से पैसे लूटता है. इसके बावजूद अस्पताल पर सरकार कार्रवाई करने से बचती है. दिसंबर 2017 और अक्टूबर 2018 के दो रेंडम मामलों को लेने पर पता चला कि अस्पताल ने गंभीर बीमारी योजना के नाम सरकार और मरीज दोनों को ठगने का काम किया है. सरकार से पहले पैसा मिल जाने के बाद भी मरीजों से छह लाख तक ऐंठ लिए गये.

मामला प्रकाश में आने के बाद अस्पताल पर कार्रवाई के नाम पर सिर्फ अस्पताल का बीपीएल लाइसेंस ही कैंसिल कर दिया गया है. इससे अस्पताल पर कार्रवाई होने जैसा कुछ नहीं हुआ. मरीजों के लूटे हुए पैसे न तो मरीजों को मिले और न ही अस्पताल को मरीजों को लूटने पर रोक ही लगायी गयी.  वहीं इसके उलट मेदांता पर इस कार्रवाई से मरीजों को ही नुकसान हुआ.

इसे भी पढ़ें – मरीज को रेफर करने वाले डॉक्टर को सर्विस फी का 10 प्रतिशत कमीशन देता है मेदांता अस्पताल

मरीजों ने बतायी आपबीती

गंभीर बीमारी के इलाज के लिए अस्पताल से पहले एस्टीमेट लेना होता है, एस्टीमेट में पूरी बीमारी के खर्च का ब्यौरा होता है. सिविल सर्जन से पैसा अकाउंट में आने के बाद ही इलाज होता है. पूरा पैसा सरकार से मिलने के बाद भी अस्पताल मरीजों को ठगकर अपने खजाने को अवैध तरीके से भरते रहे.

नाजिर अली नाम के मरीज के इलाज के लिए सिविल सर्जन लातेहार ने एस्टीमेट के हिसाब से पूरे 2 लाख 29 हजार 525 रुपये दे दिये थे. इसके बावजूद अस्पताल की ओर से मरीज के परिजनों से अतिरिक्त 6 लाख की मांग की गयी. इसके अलावा समरी देवी के लिए सिविल सर्जन रांची से 1 लाख 35 हजार मिलने के बाद भी लगभग 25 हजार अतिरिक्त की मांग की गयी थी.

Related Posts

हेमंत ने सीएम को भेजा लीगल नोटिस, कहा – “सार्वजनिक तौर पर माफी मांगे सीएम“

सीएम ने जेएमएम कार्यकारी अध्यक्ष पर लगाया था 500 करोड़ की जमीन खरीदने का आरोप

इसे भी पढ़ें – कमीशन लेने वाले डॉक्टरों का केवाईसी भरवाता है मेदांता अस्पताल

जो कार्रवाई हुई उससे मरीजों को ही नुकसान हुआ

इन दो मामलों को लेकर मुख्यमंत्री जनसंवाद में शिकायत दर्ज कराया गया. उसके बाद जांच के आदेश भी दिये गये. जांच में आरोप को सही पाया गया, जिसके बाद अस्पताल पर कार्रवाई की गयी. वहीं कार्रवाई के नाम पर सिर्फ अस्पताल से गंभीर बीमारी योजना का एफिलिएशन रद्द कर दिया गया. इस कार्रवाई से अस्पताल से ज्यादा नुकसान मरीजों को हुआ. गंभीर रुप से बीमार पड़ने वाले मरीज अब मेदांता अस्पताल में इलाज से महरुम हो गये.

इसे भी पढ़ें – एक मरीज लाने पर एंबुलेंस चालक को 1500 रुपया देता है मेदांता अस्पताल

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है कि हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें. आप हर दिन 10 रूपये से लेकर अधिकतम मासिक 5000 रूपये तक की मदद कर सकते है.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें. –
%d bloggers like this: