न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मरीज को रेफर करने वाले डॉक्टर को सर्विस फी का 10 प्रतिशत कमीशन देता है मेदांता अस्पताल

10,651

Surjit Singh

Ranchi: डॉ भगवान का रुप होता है और अस्पताल मंदिर. डॉ को खरोंच भी आ जाये, तो अस्पताल बंद. आंदोलन शुरु. पर, जब डॉक्टर और अस्पताल प्रबंधन इस पवित्र पेशे की आड़ में कमीशनखोरी का खेल खेलने लगे, तब क्या होगा. कौन सुधारेगा. कानून से सुधार होगा, यह संभव नहीं. डॉक्टर्स को ही आगे बढ़कर सुधार करना होगा. न्यूज विंग को कुछ ऐसे डॉक्यूमेंट मिले हैं, जिसे जानने के बाद कोई भी व्यक्ति को इस पवित्र पेशे में काम करने वालों से नफरत होने लगेगा. डॉक्यूमेंट यह साफ-साफ बताता है कि मेदांता अस्पताल मरीजों को लूट रहा है और एक खतरनाक खेल में लगा हुआ है.

इसे भी पढ़ें – ऑर्किड अस्पतालः मलेरिया था नहीं चला दी दवा, विभाग ने CS से कहा कार्रवाई हो, छह माह बाद भी नहीं हुई

डॉक्टर हजारों रुपये महीने में कमीशन कमा रहे हैं

मरीज को रेफर करने वाले डॉक्टर को सर्विस फी का 10 प्रतिशत कमीशन देता है मेदांता अस्पताल

इस कड़ी में हम मेदांता अस्पताल द्वारा दूसरे अस्पातल के डॉक्टर, निजी प्रैक्टिस करने वाले डॉक्टरों से लेकर झोलाछाप डॉक्टरों को दिये जाने वाले कमीशन की बात कर रहे हैं. मेदांत अस्पताल मरीजों को रेफर करने वाले डॉक्टरों को कमीशन देता है. कमीशन का दर सर्विस फीस के रुप में मरीजों से ली गयी राशि का 10 प्रतिशत होता है. इस तरह मेदांता अस्पताल में मरीजों को रेफर करके ही कई डॉक्टर हजारों रुपये महीने की कमाई कमीशन के रुप में कर रहे हैं.

उपलब्ध दस्तावेज के अनुसार, 05.01.2019 को मो. जियाउर रहमान को मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया था. मो. जियाउर रहमान को बोकारो जेनरल अस्पताल ने डॉक्टर सतीश कुमार ने रेफर किया था. रेफर करने के साथ ही मेदांता का असिस्टेंट मैनेजर (मार्केटिंग) विवेक दीप ने मेदांता रांची के वाट्सएप ग्रुप (रेफरल ग्रुप) पर इस बात की सूचना दी. वाट्सएप ग्रुप पर सूचना मरीज के भर्ती होने के दो घंटे पहले दी.

दस्तावेजों से यह प्रमाणित होता है कि मो जियाउर रहमान ने इलाज पर 1,44,939 रुपया खर्च किया. सर्विस फीस के रुप में रुम रेंट पर 15,990 रुपया, पैथोलॉजी लैब पर 26,180 रुपया, रेडियोलॉजी पर 3700 रुपया और प्रोसिजर पर 21980 रुपया खर्च आया. दस्तावेज के अनुसार, इन खर्चों का 10 प्रतिशत राशि 6785 रुपया कमीशन के रुप में डॉ सतीश कुमार को देने के लिये रांची मेदांता ने प्रक्रिया प्रारंभ की थी.

इसे भी पढ़ें – ऑर्किड अस्पताल को बचाने में अड़े सिविल सर्जन, दो जांच के बाद भी कह रहे तीसरी जांच हो

Related Posts

#Koderma: सीएम की आस में लोग घंटों बैठे रहे, कोडरमा आये, पर कायर्क्रम में नहीं पहुंचे रघुवर तो धैर्य टूटा, किया हंगामा

नाराज लोगों ने की हूटिंग, विरोध भी किया, बाद में मंत्री-विधायक ने संभाला मोर्चा

WH MART 1

सर्विस फीस में क्या-क्या खर्च आता है

रुम चार्ज                       10 प्रतिशत

पैथोलॉजी जांच फीस         10 प्रतिशत

रेडियोलॉजी जांच फीस       10 प्रतिशत

प्रोसिजर                          10 प्रतिशत

विभिन्न आपरेशन के पैकेज का    03 प्रतिशत

मेदांता के सेंटर इंचार्ज मो मुख्तार सईद ने आरोपों को नकारा

पूरे मामले में न्यूज विंग ने मेदांता, रांची से उनका पक्ष जानने की कोशिश की. मेदांता रांची के सेंटर इंचार्ज मो मुख्तार सईद के वाट्सएप पर और ई-मेल पर आरोपों से संबंधित सवाल भेजा गया. मो मुख्तार सईद ने वाट्सएप पर दिये जवाब में कहा कि सभी आरोप बेबुनियाद हैं. जिसके बाद मेदांता रांची के डीजीएम मार्केटिंग संदीपन कर्माकार का फोन आया. उन्होंने भी कहा कि सारे आरोप बेबुनियाद हैं. न्यूज विंग ने जब दस्तावेज होने की बात कही, तब उन्होंने कहा कि जो भी आरोप हैं, सब गलत हैं.

इसे भी पढ़ें – Orchid Hospital:  सीएस कर नहीं रहे कार्रवाई, आर्किड अस्पताल पीड़ित परिजन को दे रहा है धमकी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like