न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

ज्यूपिटर शक्ति सेवा संस्थान युवाओं को नौकरी का झांसा देकर वसूल रहा 20 से 50 हजार रुपये

963

Ranchi: बेरोजगार युवाओं को नौकरी देने के नाम पर एक नया खेल खेला जा रहा है. राज्य के हर पंचायत, प्रखंड और जिला स्तर पर बेरोजगार युवाओं को नौकरी देने के नाम पर 20 से 50 हजार रुपये तक की ठगी हर आवेदक से की जा रही है.

ठगी का पूरा खेल ज्यूपिटर शक्ति सेवा संस्थान नामक एक एनजीओ के द्वारा किया जा रहा है. इस मामले के हकीकत को समझने के लिए न्यूज विंग ने फोन पर आवेदक बनकर जानना चाहा तो सारी कहानी सामने आ गयी.

ठगी करने वाले संस्थान ने पहले तो फोन पर बात करने से इंकार कर दिया और उसने अपने पते पर आने को कहा. आने के लिए पूरा पता भी बताया. हजारीबाग के कोर्रा चौक के नजदीक बाबू गांव चौक, अशोक तंदूरी के ब्रांच के पीछे, अपने ऑफिस में आने को कहा.

इसे भी पढ़ें : #ConsumerForum में डेढ़ सालों से पसरा है सन्नाटा, रांची के उपभोक्ताओं पर बढ़ रहा ठगों का शिकंजा

खाता नंबर देने के बजाय फोन पर रुपये ट्रांसफर करने को कहा

जाने में असमर्थतता जताने पर उन्होंने फोन पर ही नियुक्ति के बदले पैसे देने को कहा. जिला कॉर्डिनेटर के लिए एकमुश्त 50 हजार और प्रखंड कॉर्डिनेटर के लिए 24 हजार देने को कहा. अकाउंट नंबर मांगने पर उन्होंने फोन पर ही पैसे ट्रांसफर कर देने को कहा है.

संस्था के लोगों ने कहा कि हम स्वास्थ्य विभाग के एक प्रोजेक्ट पर काम कर रहे हैं, जो तीन साल का है, पर हमें परमानेंट तौर पर एम्पलॉयो चाहिए.

पंचायत कॉर्डिनेटर के लिए 8625 मासिक वेतन, ब्लॉक कॉर्डिनेटर को 12054 रुपये मासिक और जिला कॉर्डिनेट के लिए 21001 रुपये मासिक वेतन देने की बात कही गयी है. आवेदन करने की अंतिम तिथि 29 फरवरी बतायी गयी है.

इसे भी पढ़ें : पूर्व मंत्री अमर बाउरी ने 19 जूनियर CI को प्रमोशन देकर बनाया CO-ASO, अब विभाग हेमंत के पास क्या होगी कार्रवाई?

पंचायत से लेकर जिला स्तर तक नियुक्ति का दावा

ज्यूपिटर शक्ति सेवा संस्थान के लोगों का दावा है कि संस्थान ने राज्य के हर पंचायत, प्रखंड और जिला स्तर पर नियुक्ति विज्ञापन निकाला है. यह संस्था इन युवाओं के माध्यम से राज्य भर में स्वास्थ्य जांच सेवा शिविर का अयोजन करेगी.

इसके साथ ही महिलाओं के लिए माहवारी सुरक्षा के दिशा में जागरुकता पर कार्य करेगी. इसके लिए ज्यूपिटर सेवा संस्थान सभी जगहों पर नियुक्ति करेगी. जिसके लिए आवेदन मंगाये गये हैं.

पर पूरी कहानी ठगी से संबंधित ही है. इससे पहले भी कई संस्थाओं ने पंचायत, प्रखंड और जिला स्तर पर युवाओं की नियुक्ति के नाम पर ठगी की है.

इसे भी पढ़ें : आरक्षण की वजह से 6ठी जेपीएससी में हुआ विवाद, उसी पेंच में फंसी 7वीं, 8वीं और 9वीं जेपीएससी परीक्षा

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like