Education & CareerJharkhandKhas-KhabarRanchi

झारखंड : स्टूडेंट्स रहें सावधान, 14 निजी विश्वविद्यालयों में से सिर्फ दो को ही AICTE की मान्यता

Deepak, Rahul

Ranchi : झारखंड में चल रहे निजी विश्वविद्यालयों में से 98 फीसदी यूनिवर्सिटी को 2019-20 के शैक्षणिक सत्र चलाने की मान्यता नहीं मिली है. यह मान्यता राज्य सरकार से नहीं, बल्कि अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआइसीटीइ) ने निजी विश्वविद्यालयों को नहीं दी है.

झारखंड में सिर्फ साईं नाथ विश्वविद्यालय को डिप्लोमा स्तरीय पांच पाठ्यक्रमों को संचालित करने की मान्यता दी गयी है, जबकि अरका जैन विश्वविद्यालय को एमबीए समेत पांच इंजीनियरिंग के बीटेक पाठ्यक्रमों में दाखिला लेने की इजाजत मिली है. अन्य संस्थानों का नाम एआइसीटीइ के एप्रूव्ड इंस्टीट्यूट फॉर स्टेट ऑफ झारखंड (2019-20) की सूची में दर्ज नहीं है.

advt

इसे भी पढ़ेंःजिस भगवान बिरसा मुंडा के वंशजों के आवासों के लिए अमित शाह ने किया था भूमि पूजन, वहां एक ईंट भी नहीं जोड़ी जा सकी है

राज्य भर में जोर-शोर से चल रहा है दाखिले का दौर

राज्य भर में अभी 11वीं से लेकर पॉलिटेक्निक, इंजीनियरिंग, इंटरमीडिएट, स्नातक, स्नातकोत्तर स्तरीय कोर्सेस में दाखिले का दौर चल रहा है. केंद्रीय मानव संसाधन मंत्रालय ने एक अगस्त 2019 से सभी संबद्ध संस्थानों में सत्र शुरू करने का निर्देश दिया है.

इसको लेकर सभी संस्थान अपने-अपने तरीके से छात्रों को लोक लुभावने सपने दिखा कर एडमिशन लेने के लिए प्रेरित कर रहे हैं. झारखंड में भी एक से एक बड़े नाम हैं, जो छात्रों को विज्ञापनों के जरिये एडमिशन लेने के लिए प्रेरित कर रहे हैं.

इसमें एमिटी यूनिवर्सिटी झारखंड, सरला बिरला यूनिवर्सिटी, साईंनाथ यूनिवर्सिटी, ऊषा मार्टिन यूनिवर्सिटी जैसे नामी-गिरामी नाम जुड़े हुए हैं. इनकी तरफ से स्नातक स्तरीय, बीएड, एमएड, बीबीए, बीसीए, मासकॉम और अन्य कोर्स के लिए एडमिशन लिया जा रहा है.

adv

इसे भी पढ़ेंःक्या मुजफ्फरपुर में मासूमों के लिए सरकार अस्थायी अस्पताल नहीं बनवा सकती थी?

राज्य में संचालित हो रहे 14 निजी विश्वविद्यालय

झारखंड सरकार के उच्च तकनीकी शिक्षा और कौशल विकास विभाग की तरफ से निजी विश्वविद्यालय एक्ट के तहत एक दर्जन से अधिक निजी विवि प्रबंधन को झारखंड में काम करने की इजाजत दी गयी थी.

इसके तहत इक्फाई यूनिवर्सिटी, एमिटी यूनिवर्सिटी, वाईबीएन यूनिवर्सिटी, सरला बिरला यूनिवर्सिटी, ऊषा मार्टिन यूनिवर्सिटी, राय यूनिवर्सिटी, साईंनाथ यूनिवर्सिटी, अरका जैन यूनिवर्सिटी, रामचंद्र चंद्रवंशी यूनिवर्सिटी, आइसैक्ट यूनिवर्सिटी, प्रज्ञान इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी समेत 14 विवि खोले गये.

राज्य सरकार ने इन्हें तीन वर्ष की मोहलत भी दी है, ताकि वे निजी विवि एक्ट के तय मापदंडों के अनुरूप अपनी आधारभूत संरचना और अन्य सुविधाएं विकसित करें. पर कई विवि ऐसे हैं, जो किराये के भवन में चल रहे हैं और सरकार की तरफ से अनपेक्षित कार्रवाई नहीं की जा रही है.

इसे भी पढ़ेंःदर्द-ए-पारा शिक्षक: मानदेय से घर चलाना है मुश्किल, उम्र के इस पड़ाव में दूसरी नौकरी कहां खोजें

दो निजी विश्वविद्यालयों के पाठ्यक्रमों को मिली मान्यता

निजी विवि का नाम पाठ्यक्रम जिसे एआइसीटीइ ने दी है मान्यता
साईं नाथ विवि, रांची डिप्लोमा स्तरीय सिविल इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग, मैकेनिकल इंजीनियरिंग, माइनिंग इंजीनियरिंग, सिविल इंजीनियरिंग (कंस्ट्रक्शन टेक्नोलॉजी)
अरका जैन विवि, सरायकेला खरसांवां एमबीए, इंजीनियरिंग के कंप्यूटर साइंस, इइइ, इसीइ, मैकेनिकल और सिविल

 

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button