न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

झारखंड पुलिस का दावा बचे हैं सिर्फ 550 माओवादी, लेकिन उनसे लड़ने में लगी है CRPF की 122, IRB की 5 और JJ की 40 कंपनी

1,358

Ranchi: झारखंड पुलिस का दावा है कि झारखंड में अब सिर्फ 550 माओवादी बचे हैं. लेकिन 550 माओवादियों से लड़ने के लिए भारी संख्या में सुरक्षा बल लगे हुए हैं. जिनमें सीआरपीएफ की 122 कंपनी, आईआरबी की 5 कंपनी और झारखंड जगुआर की 40 कंपनी फोर्स लगी हुई है. इतनी भारी संख्या में सुरक्षा बल के तैनात होने के बावजूद भी झारखंड से पूरी तरह से माओवाद का खात्मा नहीं हो पा रहा है. समय-समय पर माओवादी छोटी-बड़ी घटना को अंजाम देकर अपनी उपस्थिति भी दर्ज करवा रहे हैं.

इसे भी पढ़ेंःअडाणी को लाभ पहुंचाने के लिए एक खास क्षेत्र को स्पेशल इकोनामिक जोन घोषित कर दिया

Sport House

250 माओवादियों पर है पूर्व से इनाम घोषित

झारखंड पुलिस के आंकड़े के अनुसार, झारखंड बचे सिर्फ 550 माओवादियों में से 250 माओवादियों पर पूर्व से ही इनाम घोषित है. और 30 माओवादियों के ऊपर इनाम घोषित करने की प्रक्रिया चल रही है. जल्द ही इन 30 माओवादियों के ऊपर भी इनाम घोषित किया जाएगा. साल 2019 में अब तक 9 मुठभेड़ हुए हैं,जिनमें पुलिस को सफलता मिली है.

माओवादियों के खिलाफ चल रहा पुलिस का डेवलपमेंट एक्शन प्लान

सारंडा एक्शन प्लान, सरयू एक्शन डेवलपमेंट प्लान, झुमरा एरिया डेवलपमेंट एक्शन प्लान, पारसनाथ एरिया डेवलपमेंट प्लान, चतरा एरिया डेवलपमेंट एक्शन प्लान, बानालात इंटीग्रेटेड एक्शन प्लान, गिरिडीह-कोडरमा बॉर्डरिंग एरिया डेवलपमेंट प्लान, दुमका-गोड्डा बॉर्डरिंग एरिया डेवलपमेंट प्लान, खूंटी-सरायकेला-चाईबासा बॉर्डरिंग एरिया एक्शन प्लान, सिमडेगा खूंटी बॉर्डरिंग एरिया एक्शन प्लान, जमशेदपुर एरिया एक्शन प्लान, पलामू-चतरा एरिया एक्शन प्लान व गढ़वा लातेहार-पलामू बॉर्डरिंग एरिया एक्शन प्लान.

इसे भी पढ़ेंःजम्मू कश्मीरः त्राल में सुरक्षाबलों से मुठभेड़ में हिजबुल के दो आतंकी ढेर

Related Posts

सांसद आदर्श ग्राम योजना: गांवों को गोद तो ले रहे राज्यसभा सांसद, लेकिन मंत्रालय को नहीं दी जा रही रिपोर्ट

तीसरे चरण में मात्र राज्य के छह राज्यसभा सांसदों में से पांच ने ही गोद लिये गांव, महेश पोद्दार ने दो गांव को लिया गोद

Mayfair 2-1-2020

झारखंड के इन जिलों में है सक्रिय माओवादियों का दस्ता

गढ़वा, लातेहार व गुमला के सीमावर्ती क्षेत्र में विमल यादव और बुद्धेश्वर यादव का दस्ता सक्रिय है. चाईबासा के जरायकेला, छोटानागपुर और गोयलकेरा में माओवादी पोलित ब्यूरो सदस्य व एक करोड़ के इनामी किशन दा उर्फ प्रशांत बोस, अनमोल उर्फ समर जी, मेहनत उर्फ मोछू, चमन उर्फ लंबू, सुरेश मुंडा व जीवन कंडुलना का दस्ता सक्रिय है.गिरिडीह-जमुई और कोडरमा-नवादा बॉर्डर पर सैक सदस्य करुणा, पिंटू राणा व सिंधू कोड़ा का दस्ता सक्रिय है.

इसे भी पढ़ेंःपाकिस्तान ने नहीं लौटाये अभिनंदन की पिस्तौल और जरूरी कागजात

हजारीबाग-चतरा-गया बॉर्डर पर माओवादी रिजनल कमेटी सदस्य इंदल गंझू और आलोक का दस्ता सक्रिय है. बोकारो जिला के बेरमो अनुमंडल के नक्सल प्रभावित चतरोचट्टी और जगेश्वर बिहार थाना के जंगली क्षेत्र में एक करोड़ का इनामी माओवादी नेता मिथिलेश सिंह दस्ता सक्रिय है. औरंगाबाद,पलामू,गया चतरा बॉर्डर पर सैक सदस्य संदीप दस्ता, संजीत और विवेक का दस्ता सक्रिय है. इसके अलावा घाटशिला,पटंबा,पुरुलिया सीमा पर माओवादी पोलित ब्यूरो सदस्य असीम मंडल और मदन का दस्ता सक्रिय है.

इसे भी पढ़ेंःआर्थिक मोर्चे पर भारत को झटका देने की तैयारी में अमेरिका, वापस ले सकता है जीएसपी सुविधा

SP Jamshedpur 24/01/2020-30/01/2020

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like