JamshedpurJharkhand

जमशेदपुर : #CM रघुवर दास के भतीजे कमलेश साहू ने विधायक प्रतिनिधि से की मारपीट

Jamshedpur : मुख्यमंत्री रघुवर दास के भतीजे कमलेश साहू ने विधायक प्रतिनीधि के साथ जमकर मारपीट की है.

घटना भालुबासा किशोर संघ की है जहां विधायक प्रतिनीधि पवन अग्रवाल बैठते हैं और क्षेत्र में सीएम के कामकाज को संभालते है.

पवन अग्रवाल किशोर संघ में अपने समर्थकों के साथ किसी मसले पर चर्चा कर रहे थे, वहीं कमलेश साहू पहुंचे और किसी बात पर पवन अग्रवाल से बहस करने लगे.

बहस गाली-गलौज में बदली और फिर मामला मारपीट तक पहुंच गया जिसमें कमलेश साहू ने पवन अग्रवाल की जमकर पिटाई कर दी.

बचने के लिए पवन अग्रवाल दूसरे कमरे की तरफ भागे तो वहां भी कमलेश पहुंच गये.

डेढ़ घंटे तक चले इस हाई वोल्टेज ड्रामा को वहां मौजूद पवन के समर्थकों व अन्य भाजपा नेताओं ने देखा पर रोकने की हिम्मत न कर सके.

इसे भी पढ़ें : #TB में बेहतर प्रदर्शन के लिए #NITIAayog ने #Jharkhand को दिया था पहला स्थान, जबकि 18 की जगह 7 कर्मचारी ही कार्यरत

adv

कमलेश साहू ने क्यों पीटा पवन अग्रवाल को

दरअसल पवन अग्रवाल से कमलेश साहू की दुश्मनी काफी पहले से ही है. पहले भी कई और मसलों पर दोनों आमने-सामने हो चुके है. लेकिन इस बार मामला पैसे से जुड़ा था.

विश्वस्त सूत्रों के अनुसार पवन अग्रवाल ने किसी बिल्डर को पैसे के लिए धमकाया था. लेकिन बिल्डर कमलेश का करीबी निकला.

लिहाजा बिल्डर की शिकायत पर कमलेश पवन से बात करने किशोर संघ पहुचे जहां बहस से शुरुआत हुई और मारपीट तक मामला पहुंच गया.

इसके पहले भी कमलेश कई बार काम कराने को लेकर पवन अग्रवाल के पास जा चुके है लेकिन पवन अग्रवाल ने सीधे उनको डांट कर भगा दिया है. जिसकी शिकायत कमलेश ने अपने चाचा रघुवर से भी की है.

इसे भी पढ़ें : Good News: #JSSC जल्द निकालेगा जूनियर इंजीनियर के 614 पदों के लिए विज्ञापन

गुटबाजी पड़ सकती है सीएम को भारी

इससे पहले भी पूर्वी सिंहभूम में गुटबाजी की खबर उठती रही है जो सीएम का गढ़ है.

सीएम रघुवर दास यहीं से विधायक बने, फिर मंत्री और अब सीएम के पद पर पहुंचे हैं. लेकिन अंदरुनी गुटबाजी, वो भी चुनाव के समय सीएम के लिए भी सिरदर्द साबित हो सकता है.

ऐसा नहीं है कि कमलेश और राजा साहू चाचा रघुवर के नाम को भुनाने में लगे रहते हैं बल्कि सच ये भी है की पार्टी के काम के अलावा रघुवर दास को चुनाव जिताने में बढ़-चढ़कर हिस्सा भी लेते रहे हैं.

सीएम की मजबुरी है कि वो न तो विधायक प्रतिनीधि के खिलाफ खड़े हो सकते हैं और न ही कमलेश साहू के खिलाफ जा सकते हैं. हां, वे डैमेज कोट्रोल जरूर कर सकते हैं.

इसे भी पढ़ें : फिल्म ‘जैकलिन आइ एम कमिंग’ के डायरेक्टर, राइटर और कोरियोग्राफर हैं पलामू के तीन होनहार

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: