न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

इस्लामाबाद  : भारतीय उच्चायोग की इफ्तार पार्टी में आये मेहमानों के साथ पाक अधिकारियों की बदसलूकी  

पाकिस्तानी अधिकारियों ने होटल सेरेना (इफ्तार पार्टी स्थल) को घेर लिया और समारोह में शामिल होने आये सैकड़ों मेहमानों को परेशान करने लगे.  

114

Islamabad :  इस्लामाबाद में भारतीय उच्चायोग द्वारा आयोजित इफ्तार पार्टी में आमंत्रित मेहमानों को डराने धमकाने की खबर है. पाकिस्तानी अधिकारियों ने उन्हें आक्रामक होकर कार्यक्रम स्थल से खदेड़ दिया. यह जानकारी भारतीय राजदूत ने दी है. न्यूज एजेंसी एएनआई ने खबर दी है कि पाकिस्तानी अधिकारियों ने होटल सेरेना (इफ्तार पार्टी स्थल) को घेर लिया और समारोह में शामिल होने आये सैकड़ों मेहमानों को परेशान करने लगे.

न्यूज एजेंसी ने एक अज्ञात सूत्र के हवाले से लिखा है कि मेहमानों को जबरन वहां से हटाया गया. पाकिस्तान में भारत के राजदूत अजय बिसारिया ने बताया, हम अपने सभी मेहमानों से माफी मांगते हैं, जिन्हें कल हमारे इफ्तार कार्यक्रम से हटा दिया गया था. इस तरह की डराने वाली रणनीति गहरी निराशाजनक हैं.

Sport House

इसे भी पढ़ें – भारत का स्पेशल ट्रेड स्टेटस वापस लेने का अमेरिकी सरकार का फैसला खतरे की घंटी : कांग्रेस

आचरण द्विपक्षीय संबंधों के लिए प्रतिकूल

बिसारिया ने कहा कि इस तरह की हरकतें द्विपक्षीय संबंधों के लिए प्रतिकूल हैं. कहा कि यह न केवल राजनयिक आचरण और सभ्य व्यवहार के बुनियादी मानदंडों का उल्लंघन था, बल्कि हमारे द्विपक्षीय संबंधों के लिए प्रतिकूल था. एएनआई की रिपोर्ट के अनुसार इफ्तार पार्टी में बुलाये गये मेहमानों के घरों तक पाकिस्तानी अधिकारियों ने जाकर उसमें शामिल नहीं होने की लिए धमकाया भी था. यह पहली बार नहीं है कि भारतीय अधिकारियों को पाकिस्तान में धमकाया गया है.

पिछले महीने, भारत ने लाहौर के पास गुरुद्वारा सच्चा सौदा में सिख तीर्थयात्रियों के लिए व्यवस्था करने पर दो राजनयिकों को 20 मिनट के लिए एक कमरे में बंद करने पर चिंता जाहिर की थी. अधिकारियों ने राजनयिकों को धमकी देते हुए कहा था कि वे इस क्षेत्र में फिर कभी न आयें. बता दें, इस हफ्ते की शुरुआत में, दिल्ली में पाकिस्तान उच्चायोग ने भी एक इफ्तार पार्टी का आयोजन किया था, जिसमें कई सार्वजनिक हस्तियों सहित लेखकों, कलाकारों और पाकिस्तानी छात्रों ने भाग लिया था.

Mayfair 2-1-2020

इसे भी पढ़ें – भारत नहीं रहा सबसे तेज बढ़ती अर्थव्यवस्था, अब क्या?

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like