न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सूबे में भगवान भरोसे इलाज, 994 स्पेशलिस्ट डॉक्टर्स की जरुरत कार्यरत मात्र 45

1538 स्वास्थ्य केंद्रों में से 1015 निर्माणाधीन

271

Kumar Gaurav
Ranchi: झारखंड में स्वास्थ्य सुविधा हमेशा से ही विवादों में रही हैं. कभी स्वास्थ्य केंद्रों की खस्ता हालत तो कभी डॉक्टर्स-दवाओं की कमी. हालांकि, सूबे के मुखिया रघुवर दास इसे सुधारने की लगातार बातें करते हैं. लेकिन आंकड़े बता रहे हैं कि राज्य की स्वास्थ्य व्यवस्था खुद बीमार है. जिस राज्य की कई चीजों को सीएम वर्ल्ड क्लास बनाने की बात करते हैं, उस राज्य में स्पेशलिस्ट डॉक्टर्स की भारी कमी है. झारखंड में जरुरत की तुलना में महज 4.5 फीसदी ही चिकित्सा विशेषज्ञ हैं.

इसे भी पढ़ेंःराज्य में 1538 स्वास्थ्य केंद्र जिसमें 1015 निर्माणाधीन, जनता कैसे रहेगी तंदरुस्त

राज्य में 994 स्पेशलिस्ट डॉक्टर्स की जरुरत है लेकिन कार्यरत हैं मात्र 45 डॉक्टर. ऐसे में अंदाजा लगाया जा सकता है कि राज्य की स्वास्थ्य सेवाओं का हाल क्या होगा. राज्य के स्वास्थ्य मामलों में इतने पिछड़े होने के बाद भी इसे वर्ल्ड क्लास बनाने की बात क्यों नहीं कर रहे. इस दिशा में अब तक कोई पहल क्यों नहीं की गयी ये सवाल उठना लाजमी है.

इसे भी पढ़ें – देखिये रिम्स के जूनि. डॉ. की दबंगई ! जल्दी इलाज की बात पर कैसे परिजन को पीटकर खदेड़ा

राज्य में 1538 स्वास्थ्य केंद्रों में 1015 निर्माणाधीन

केंद्र ने भी स्वास्थ्य मामले में राज्य के 24 में से 19 जिलों को अत्यंत पिछड़े जिलों की श्रेणी में रखा है. ग्रामीण इलाकों के साथ शहरी इलाकों में भी आए दिन कुपोषण के मरीज पाए जाते हैं. सरकार ने स्वास्थ्य सुधार की दिशा में पहल को लेकर कई दावे भी किये हैं, लेकिन नतीजा शायद ही निकल पाए. क्योंकि राज्य के कुल 1538 स्वास्थ्य केंद्रों में से 1015 स्वास्थ्य केंद्र अभी भी निर्माणाधीन है.

इसे भी पढ़ेंःधनबाद : टोटल फेल्योर एसएसपी चोथे पर मेहरबानी…क्या वजह हो सकती है

मजबूरीवश राज्य के दूर दराज से भी गरीब मरीजों को राजधानी का ही रुख करना पड़ता है. यहां भी उनकी बीमारी शायद ही दूर हो पाती है. दूसरी ओर जहां स्वास्थ्य केंद्र बने भी हैं वहां डॉक्टरों की उपस्थिति ना के बराबर है. अधिकतर स्वास्थ्य केंद्र या उपकेंद्र नर्स के भरोसे चल रहे हैं.

चिकित्सा विशेषज्ञों की भारी कमी

एक ओर जहां स्वास्थ्य केंद्रों की हालत खस्ता है. वही राज्य में स्पेशलाइजड डॉक्टर्स की भारी कमी है. यानी अगर आप किसी गंभीर बीमारी से जूझ रहे हैं, तो मुमकिन है कि राज्य में आपको उसके विशेषज्ञ सरकारी अस्पतालों में नहीं मिल पाये, ऐसे में आपकों राज्य से बाहर का रुख भी करना पड़ सकता हैं. क्या है विशेषज्ञों का आंकड़ा-

इसे भी पढ़ें – ऐसा लगता है, जैसे झारखंड सरकार के विभागों ने अनियमितताएं करने की कसम खा ली है : मंत्री सरयू राय

स्पेशलाईजेशन स्वीकृत  पद नियुक्त कार्यरत   खाली
एनेसथेटिस्ट           89               08        02          59
ईएनटी                  23              12        00           20
गायनकोलॉजिस्ट     82               39     12             32
ऑपथेलेमोलोजिस्ट   41              14      04            26
ऑर्थोपेडिसियन       42               20    04             27
पैडिट्रिसियन           273             55    10           223
पैथॉलोजिस्ट            27               19     01            23
फिजिसियन            246              15     00          231
साइकाट्रिस्ट           22                 11     02           14
रेडियोलॉजिस्ट        36                  11     02           31
सर्जन                    68                   27     08         39
फॉरेंसिक               23                    03     00         22
डर्मेटोलॉजिस्ट       22                       07     00        22
कुल                       994                 241    45      769

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.


हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: