न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

देखिये रिम्स के जूनि. डॉ. की दबंगई ! जल्दी इलाज की बात पर कैसे परिजन को पीटकर खदेड़ा

पीटते-पीटते शख्स को रिम्स से किया बाहर, गाली-गलौज भी

1,583

Ranchi: झारखंड के सबसे बड़े अस्पताल रिम्स में आये दिन डॉक्टरों की दबंगई देखने को मिली है. यहां डॉ और मरीजों में नोक झोंक के मामले अक्सर ही सामने आते रहते हैं. एक ओर जहां बीमारी से परेशान मरीज इलाज करवाने आते है, वहीं दूसरी ओर उन्हें डॉक्टरों की बेरहमी का शिकार होना पड़ता है. डॉक्टरों की दबंगई का ऐसा ही एक मामला रविवार को सामने आया. जब जल्दी इलाज करने की बात पर पीड़ित के परिजन को डॉ. ने पीट डाला.

जानें ताबड़तोड़ तबादलों से कैसे बढ़ता है आर्थिक बोझ

दबंग डॉक्टर साहब !

hosp3

दरअसल, अभिजीत कुमार नामक के एक शख्स को गोली लगी थी. और उसे रिम्स के एमरजेंसी वार्ड में भर्ती कराया गया. उस वक्त जूनियर डॉक्टर ड्यूटी पर थे. मरीज को लेकर आने वाले व्यक्ति जल्दी इलाज करने की बात कह रहे थे. इतनी सी बात पर डॉक्टर साहब को गुस्सा आ गया, फिर क्या था, उन्होंने आव जेखा ना ताव और पीड़ित के परिजन की बेरहमी से पिटाई कर दी. इतना ही डॉक्टर ने उस व्यक्ति को पीटते-पीटते रिम्स से बाहर निकाल दिया.

इसे भी पढ़ेंःएमपीः जनआशीर्वाद यात्रा के दौरान मुख्यमंत्री चौहान के रथ पर पथराव, सीएम सुरक्षित

इस दबंग डॉक्टर साहब ने हाथ तो चलाये ही साथ ही गाली-गलौज भी की. यहां तक कहा कि उस व्यक्ति को इलाज के लिये रिम्स लेकर क्यों आया. कहीं और ले जाते. रिम्स के गॉर्ड और डॉक्टर सभी मिलकर उस व्यक्ति को पीटने पर उतारू थे. उस व्यक्ति ने सिर्फ इतना ही कहा था कि डॉक्टर साहब आप इलाज जल्दी किजिए. मिली जानकारी के अनुसार, उक्त डॉक्टर अर्थों विभाग के हैं लेकिन इनका नाम पता नहीं चल सका है.

इसे भी पढ़ेंःराज्य में 1538 स्वास्थ्य केंद्र जिसमें 1015 निर्माणाधीन, जनता कैसे रहेगी तंदरुस्त

इधर पूरे मामले को लेकर रिम्स के सुपरिटेंडेंट से बात करने की कोशिश की गई. लेकिन शायद उन्होंने फोन उठाना मुनासिब नहीं समझा.

गौरतलब है कि धरती के भगवान कहे जानेवाले डॉक्टर्स का ऐसा रूप अमूमन कम ही देखा जाता है. लेकिन रिम्स में यह अब आम बात हो चुकी है. रिम्स में जूनियर डॉक्टर हमेशा मरीज और उनके परिजनों के साथ गाली गलौच और मारपीट करते है. इसके बाबजूद भी सरकार तमाम तरह की सुरक्षाएं डॉक्टरों के लिए लागू करती है. आम मरीजों के बचाव में न कोई कानून बनाया जाता है न ही नियम.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: