National

जरूरी सूचना : केंद्रीय ट्रेड यूनियनों की राष्ट्रव्यापी हड़ताल कल… देश भर के बैंक कर्मचारी होंगे शामिल

लोकसभा ने हाल में संपन्न सत्र में तीन नये श्रम कानून  पारित किये हैं. कारोबार सुगमता के नाम पर 27 मौजूदा कानूनों को समाप्त कर दिया गया है.

विज्ञापन

Mumbai : अखिल भारतीय बैंक कर्मचारी संघ (एआईबीईए) ने केंद्रीय ट्रेड यूनियनों की, केंद्र सरकार की श्रम-विरोधी नीतियों के खिलाफ 26 नवंबर को राष्ट्रव्यापी आम हड़ताल का आह्वान किया है. बता दें कि भारतीय मजदूर संघ को छोड़कर 10 केंद्रीय ट्रेड यूनियनें 26 नवंबर को राष्ट्रव्यापी हड़ताल में शामिल होंगी.

इसे भी पढ़ें : ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट : भयभीत न हों… करेंसी  नोटों के जरिए कोरोना वायरस फैलने का खतरा बेहद कम…

यह कानून शुद्ध रूप से कॉरपोरेट जगत के हित में हैं.

एआईबीईए ने मंगलवार को जारी बयान में कहा है कि लोकसभा ने हाल में संपन्न सत्र में तीन नये श्रम कानून  पारित किये हैं. कारोबार सुगमता के नाम पर 27 मौजूदा कानूनों को समाप्त कर दिया गया है. एआईबीईए का कहना है कि  यह कानून शुद्ध रूप से कॉरपोरेट जगत के हित में हैं. इस प्रक्रिया में 75 प्रतिशत श्रमिकों को श्रम कानूनों के दायरे से बाहर कर दिया गया है.

इसे भी पढ़ें : बिहार : सुशील मोदी का सनसनीखेज आरोप, लालू राजग विधायकों को मंत्री पद का लालच दे सरकार गिराने के प्रयास में

श्रमिकों को किसी तरह का संरक्षण नहीं मिलेगा

कहा कि नये कानूनों में इन श्रमिकों को किसी तरह का संरक्षण नहीं मिलेगा. जान लें कि एआईबीईए भारतीय स्टेट बैंक और इंडियन ओवरसीज बैंक को छोड़कर ज्यादातर बैंकों का प्रतिनिधित्व करता है. इसके सदस्यों में विभिन्न सार्वजनिक और पुराने निजी क्षेत्र के बैंकों तथा कुछ विदेशी बैंकों के चार लाख कर्मचारी हैं.

बयान के अनुसार  महाराष्ट्र में सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों, पुरानी पीढ़ी के निजी क्षेत्र के बैंकों, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों तथा विदेशी बैंकों के करीब 30,000 कर्मचारी हड़ताल में शामिल होंगे.

इसे भी पढ़ें : कोरोना का साइड इफेक्ट : एविएशन सेक्टर को 157 अरब अमेरीकी डॉलर से अधिक का नुकसान संभव

 

 

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: