JharkhandRanchiTOP SLIDER

आपके घर में हैं पुराने-बेकार फोन, कंप्यूटर और लैपटॉप, तो ये है आपके काम की खबर

रांची में ई-कचरे के निस्तारण के लिए RMC ने बनाये 5 विशेष केंद्र, लोगों से सहयोग की अपील

Ranchi : अपने क्षेत्र के खतरनाक ई-कचरे के निस्तारण के लिए रांची नगर निगम ने 5 विशेष केन्द्र स्थापित किये हैं. निगम क्षेत्र के लोग इन केन्द्रों पर खतरनाक ई-कचरा जमा करा सकेंगे. राजधानीवासी निगम द्वारा चयनित इन 5 स्थानों यथा नागाबाबा खटाल एमटीएस, हरमू एमटीएस, मोरहाबादी एमटीएस, कांटा टोली एमटीएस, व खेलगांव एमटीएस में इन ई-कचरे को जमा करा सकते है.

इसे भी पढ़ें :पीएम आवास पर बैठक, अमित शाह, राजनाथ सिंह और कृषि मंत्री तोमर कर रहे  किसान आंदोलन पर मंथन  

निगम की यह पहल “ठोस कचरा प्रबंधन नियमावली-2016’ के नियमों के तहत की जा रही है, ताकि ई-कचरा दूसरे कूड़े के साथ न मिले. इस नियमावली के तहत ठोस अपशिष्ट का पृथक्करण बायो-डिग्रेडेबल/गीला कचरा, नन-बायोडिग्रेडेबल/सूखा कचरा, घरेलू संकटमय कचरे के रूप में किया जाना है.

बता दें कि मौजूदा समय में निगम के पास इस तरह की कोई व्यवस्था नहीं है. ई- कचरे को कूड़ा बीनने वाले लोग ही कचरे बेचने वाले स्थानों और लैंडफिल साइटों पर अलग करते हैं. लेकिन वे लोग भी सिर्फ कॉपर के तारों को ही छांटते हैं, शेष खतरनाक चीजें वहीं कूड़े में दबी रह जाती हैं.

इसे भी पढ़ें :मुकेश अंबानी खरीदेंगे अपने भाई अनिल की कंपनी रिलायंस इंफ्राटेल, प्लान पर लगी मुहर…

खतरनाक रसायन मिट्टी औऱ भूमिगत जल को करते हैं प्रदूषित

निगम की मानें, तो ई-कचरे से लेड, शीशे के केबल, हेक्सावेलेट क्रोमियम, बेरियम, बेरीलियम जैसे खतरनाक रसायन निकलते हैं जो मिट्टी के माध्यम से भूमिगत पानी को दूषित करते है. इसके गंभीर परिणाम को देखते हुए निगम ने ऐसे कचरे के लिए अलग से व्यवस्था करने की योजना बनाई है. घर पर आए दिन लैपटॉप, प्रिंटर, रेडियो, केबल, मोबाइल, बैट्री पुराना फ्रिज, स्विच बोर्ड, कोई भी बिजली के उपकरण को लोग गीले कूड़े साथ मिला देते हैं. इसको अलग करना एजेंसी के लिए भी मुश्किल काम होता है. इसलिए अब निगम ने लोगों से अपील कर कहा है कि वे वे ई-कचरे को अलग करके चयनित स्थानों पर जमा करें.

इसे भी पढ़ें :मैजिक ब्रिज का नया म्यूजिक एलबम हुआ रिलीज

बता दें कि इस तरह की पहल पहले भी देश के कई नगर निकायों ने निजी संस्थाओं के साथ मिल की है. इसमें नई दिल्ली नगर पालिका भी शामिल है. इस पहल का रिजल्ट भी काफी अच्छा रहा है. दिल्ली में वर्तमान में 5 ई-कचरा केन्द्र स्थापित किये गये है, जहां लोग इस तरह का कचरा जमा करा रहे है.

इसे भी पढ़ें :झारखंड की 15 इंजीनियरिंग कॉलेजों में 3967 सीटों में एडमिशन का अब है आखिरी मौका

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: