न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

देशभर से वामपंथी विचारकों की गिरफ्तारी से हड़कंप, मामले पर सुनवाई आज

कार्रवाई को लेकर विपक्ष हमलावर

351

New Delhi: भीमा कोरेगांव हिंसा से जुड़े मामलों को लेकर देश के कई शहरों में मंगलवार को पुणे पुलिस की छापेमारी और वामपंथी विचारकों की गिरफ्तारी पर बवाल मच गया है. एक ओर जहां मामले की कार्रवाई को लेकर हमलावर है, वही बुधवार को दिल्ली हाईकोर्ट में महाराष्ट्र पुलिस द्वारा गिरफ्तार नागरिक अधिकार कार्यकर्ता गौतम नवलखा को लेकर सुनवाई होगी.

इसे भी पढ़ें- रांची में फादर स्टेन स्वामी के घर पर पुणे की पुलिस ने मारा छापा, लैपटॉप-मोबाइल जब्त

पांच लोगों की गिरफ्तारी

hosp3

भीमा कोरेगांव हिंसा मामले को लेकर महाराष्ट्र, गोवा, तेलंगाना, दिल्ली और झारखंड के रांची में मंगलवार को छापेमारी की गई. साथ ही सामाजिक कार्यकर्ता गौतम नवलखा, वरवरा राव, सुधा भारद्वाज, अरुण फरेरिया और वरनोन गोंजालवेस गिरफ्तार किए गए लोगों में शामिल हैं. . पुणे पुलिस ने स्थानीय पुलिस के साथ मिलकर छापेमारी की. दिल्ली, हरियाणा और हैदराबाद से 1-1 गिरफ्तारी की गई, जबकि मुंबई से 2 लोगों को गिरफ्तार किया गया.

इसे भी पढ़ें- राजधानी की 5 एकड़ 26 डिसमिल आदिवासी जमीन को बना दिया गया सीएनटी फ्री लैंड

गौतम नवलखा को लेकर सुनवाई

इधर, दिल्ली हाईकोर्ट ने निर्देश दिया कि कथित गैरकानूनी गतिविधियों के लिये पुणे पुलिस द्वारा गिरफ्तार नागरिक अधिकार कार्यकर्ता गौतम नवलखा को दिल्ली से तब तक बाहर नहीं ले जाया जाए, जब तक कि बुधवार सुबह मामले पर सुनवाई नहीं कर ली जाती, क्योंकि उनके खिलाफ लगाए गए कुछ आरोप स्पष्ट नहीं हैं.

इसे भी पढ़ेंः भाजपा के पूर्व सांसद अजय मारू ने फर्जी तरीके से खरीदी जमीन : विधानसभा उपसमिति

विपक्ष हुआ हमलाव

देशभर में वामपंथी विचारकों के घरों हुई छापेमारी और गिरफ्तारी को लेकर लेफ्ट और कांग्रेस सरकार पर हमलावर है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि भारत में केवल एक एनजीओ के लिए जगह है, जिसका नाम आरएसएस है. बाकी सारे एनजीओ को ताला लगा दो. सारे एक्टिविस्टों को जेल में डाल दो और जो इसके खिलाफ आवाज उठाते हैं उन्हें गोली मार दो. नए भारत में आपका स्वागत है.

उल्लेखनीय है कि भीमा-कोरेगांव में जनवरी महीने में हुई हिंसा में पांच लोगों की गिरफ्तारी के बाद चौंकानेवाला खुलासा हुआ था. पुणे पुलिस को एक आरोपी के घर से ऐसा पत्र मिला था, जिसमें पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या जैसी प्लानिंग का ही जिक्र किया गया था. इस पत्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को निशाना बनाने की बात भी कही गई थी.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: