न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

हज़ारीबाग लोकसभा सीटः भाजपा, कांग्रेस और भाकपा के बीच त्रिकोणीय मुकाबला

18 अप्रैल को नामांकन करेंगे कांग्रेस प्रत्याशी गोपाल साहू

944

Hazaribagh: हजारीबाग लोकसभा सीट से कांग्रेस ने गोपाल साहू को अपने प्रत्याशी के तौर पर मैदान में उतार है. सोमवार को इसकी घोषणा हुई और इस घोषणा के साथ ही इस सीट पर त्रिकोणीय मुकाबला हो गया है.

mi banner add

हजारीबाग में नामांकन खत्म होने से ठीक तीन दिन पहले कांग्रेस पार्टी ने ऐलान किया है कि गोपाल साहू यहां से चुनाव लड़ेंगे. श्री साहू झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कोषाध्यक्ष है. पार्टी ने जातीय समीकरण को देखते हुए हजारीबाग से गोपाल साहू को मैदान में उतारा है.

हजारीबाग में देश के पांचवे चरण और झारखंड के दूसरे चरण में 6 मई को मतदान होना है. यह बताना प्रासंगिक होगा कि महागठबंधन की बंटवारे के तहत हजारीबाग लोकसभा सीट के लिए कांग्रेस के खाते में गई है.

इसे भी पढ़ेंःमुस्लिम महिलाओं को भी मस्जिद में मिले प्रवेश, दंपती ने सुप्रीम कोर्ट में दी याचिका

18 को नोमिनेशन करेंगे गोपाल साहू

खबर है कि कांग्रेस प्रत्याशी गोपाल साहू नामांकन के अंतिम दिन यानी 18 अप्रैल को अपना नामांकन दाखिल पत्र भरेंगे. मिली जानकारी के अनुसार, झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष और झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने राहुल गांधी को प्रस्ताव दिया था कि हजारीबाग से लेफ्ट के भुनेश्वर मेहता को कैंडिडेट बनाया जाए. लेकिन कांग्रेस इसके लिए तैयार नहीं हुई.

यही वजह है कि हजारीबाग में मुकाबला त्रिकोणीय हो गया है. भाजपा,कांग्रेस और भाकपा यह तीन पार्टियां आमने-सामने है. भारतीय जनता पार्टी ने केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा को फिर से हजारीबाग से टिकट दिया है, तो ऐसे में कांग्रेस ने गोपाल साहू को मैदान में उतारा है. भाकपा के नेता भुनेश्वर प्रसाद मेहता भी मैदान में ताल ठोक रहे हैं.

इसे भी पढ़ेंः2019 के सियासी संग्राम में खल रही लालू की कमी

Related Posts

पलामू : डायरिया से बच्चे की मौत, माता-पिता व भाई गंभीर, गांव में दर्जन भर लोग पीड़ित

स्वास्थ्य विभाग के डायरिया नियंत्रण की खुली पोल, आनन-फानन में कुछ लोगों को एंबुलेंस से भेजा अस्पताल

क्या रहा है चुनावी समीकरण

हजारीबाग लोकसभा सीट पर साल 2014 में कुल 15 लाख 18 हजार 923 मतदाता मौजूद थे. इसके साथ ही इस सीट पर 20 उम्मीदवारों ने चुनावी घमासान के लिए बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया था. जिसमें से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता जयंत सिन्हा ने 4 लाख 6 हजार 931 वोटों की मदद से हजारीबाग लोकसभा सीट से जीत दर्ज की थी.

जबकि 1984 से इस लोकसभा सीट पर जीत की राह देख रही कांग्रेस इस 2014 लोकसभा में भी नाकाम रही. और पार्टी के उम्मीदवार सौरभ नारायण सिंह 2 लाख 47 हजार 803 वोटों के साथ इस चुनाव में दूसरे नंबर पर रहे थे.

वहीं झारखंड विकास मोर्चा (प्रजातांत्रिक) पार्टी के प्रत्याशी अरुण कुमार मिश्रा 2014 लोकसभा चुनाव में कुछ खास प्रभाव नहीं डाल सके और 30 हजार 408 वोटों पर सिमट कर रह गए थे. अब महागठबंधन से कांग्रेस के गोपाल साहू को टिकट देकर मैदान में उतारने से भाजपा के प्रत्याशी जंयत सिन्हा राहत की सांस ले रहे है.

चुकी हज़ारीबाग लोकसभा क्षेत्र के लिए गोपाल साहू बिलकुल नया चेहरा है. ऐसे में अब समर्थको के बीच भी नाराजगी देखी जा रही है. वहीं अपनी जीत के प्रति आश्वस्त दिख रहे जंयत सिन्हा अपने लोकसभा क्षेत्र में जनसम्पर्क अभियान तेज कर दिया है. और क्षेत्र में जमे हुए हैं. जबकि भाकपा प्रत्याशी भुनेश्वर प्रसाद मेहता नाराज कांग्रेसियों को अपने खेमे में करने की कोशिश में है.

इसे भी पढ़ेंःआजम के बयान पर सपा में दो रायः अखिलेश ने किया बचाव, छोटी बहू अपर्णा भड़की

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: