न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मुस्लिम महिलाओं को भी मस्जिद में मिले प्रवेश, दंपती ने सुप्रीम कोर्ट में दी याचिका

975

New Delhi: पुणे के एक मुस्लिम दंपती ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर महिलाओं के मस्जिद में प्रवेश की मांग की है. दंपती ने शीर्ष अदालत में दी याचिका में मांग की है कि महिलाओं को मस्जिद में प्रवेश की अनुमति मिले और उन्हें प्रार्थना करने का भी अधिकार मिले.

mi banner add

अपनी याचिका में उन्होंने कहा है कि पवित्र कुरआन और मोहम्मद साहेब ने महिलाओं के मस्जिद में प्रवेश का कभी विरोध नहीं किया.

इसे भी पढ़ेंःआजम के बयान पर सपा में दो रायः अखिलेश ने किया बचाव, छोटी बहू अपर्णा भड़की

‘महिलाओं के मस्जिद प्रवेश पर बैन मूल अधिकारों का हनन’

बता दें कि इस दंपती ने सुप्रीम कोर्ट से पहले कई मस्जिदों में महिलाओं के प्रवेश के लिए अपील की थी, लेकिन इजाजत नहीं मिलने पर वो सर्वोच्च अदालत पहुंचे हैं.

याचिकाकर्ता का कहना है कि महिलाओं को मस्जिद में प्रवेश से रोकना गैर-कानूनी और गैर-संवैधानिक है. साथ ही इसे मूलभूत अधिकारों का उल्लंघन बताया है.

याचिकाकर्ताओं की दलील है कि, ‘पुरुषों की ही तरह महिलाओं को भी अपनी धार्मिक मान्यता के आधार पर प्रार्थना का अधिकार है. इस वक्त जमात-ए-इस्लामी और मुजाहिद के तहत मस्जिदों में महिलाओं के प्रवेश का अधिकार है.

जबकि सुन्नी मत को माननेवाले मस्जिदों में महिलाओं की एंट्री पूरी तरह से बैन है. इतना ही नहीं जिन मस्जिदों में महिलाओं को प्रवेश की इजाजत है वहां भी उनके प्रवेश और निकास के लिए अलग दरवाजे हैं.

Related Posts

कर्नाटक : सियासी ड्रामे पर से उठेगा पर्दा,  कुमारस्वामी सरकार के भविष्य पर सोमवार को फैसला संभव

 कर्नाटक में कांग्रेस-जद(एस) सरकार रहेगी या जायेगी, इस पर सोमवार को विधानसभा में फैसला होने की संभावना है.  

याचिकाकर्ता ने इसे लैंगिक भेदभाव बताते हुए इसे गलत ठहराया. साथ ही कहा कि पवित्र शहर मक्का में भी महिलाओं और पुरुषों के बीच इस तरह का कोई भेदभाव नहीं होता है.’

इसे भी पढ़ेंःआजम खान और मेनका गांधी के प्रचार करने पर भी चुनाव आयोग ने लगायी पाबंदी

सबरीमाला मामले का दिया हवाला

मुस्लिम महिलाओं के मस्जिद में प्रवेश की मांग और बैन को लैंगिक भेदभाव बताते हुए याचिकाकर्ता ने सबरीमाला मंदिर केस का भी हवाला दिया है.

ज्ञात हो कि सुप्रीम कोर्ट ने पिछले साल ही सबरीमाला मंदिर में महिलाओं की इंट्री की अनुमति दी है. इसी फैसले का हवाला देते हुए याचिकार्ताओं ने मस्जिदों में महिलाओं के प्रवेश की मांग की.

इसे भी पढ़ेंःचुनाव आयोग के बैन के बाद अब हनुमान जी की शरण में योगी, पढ़ा चालीसा

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: