न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सोने की चमक बढ़ी, चांदी भी चमकी

वैश्विक बाजार, न्यूयॉर्क में सोना सप्ताहांत में मामूली गिरावट के साथ 1,192.20 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुआ.

120

Delhi : कमजोर वैश्विक संकेतों के बावजूद स्थानीय आभूषण विक्रेताओं की लिवाली बढ़ने के कारण बीते सप्ताह दिल्ली सर्राफा बाजार में सोने की कीमत 100 रुपये की तेजी के साथ 31,550 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुई.

औद्योगिक इकाइयों और सिक्का निर्माताओं का उठाव बढ़ने से चांदी की कीमत भी 39,000 रुपये प्रति किग्रा के स्तर के पार बंद हुई. बाजार सूत्रों ने कहा कि घरेलू हाजिर बाजार में स्थानीय आभूषण विक्रेताओं की सतत लिवाली के कारण मुख्यत: सोने की कीमतों में तेजी आई लेकिन विदेशों में कमजोरी के रुख ने लाभ को सीमित कर दिया.

वैश्विक बाजार, न्यूयॉर्क में सोना सप्ताहांत में मामूली गिरावट के साथ 1,192.20 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुआ.

इसे भी पढ़ें : शायद ही कोई भारतीय हो, जिसे सशस्त्र बलों, सेना के जवानों पर गर्व न हो : मोदी

ऊंचे स्तर पर इन कीमतों का हुआ विरोध

राष्ट्रीय राजधानी में 99.9 प्रतिशत और 99.5 प्रतिशत शुद्धता वाले सोने के भाव तेजी का रुख दर्शाते खुले तथा मजबूत वैश्विक रुख के अनुरूप स्थानीय आभूषण कारोबारियों की ताजा लिवाली के कारण कमश: 31,725 रुपये और 31,575 रुपये प्रति 10 ग्राम तक मजबूत हो गये.

बाद में ऊंचे स्तर पर इन कीमतों को प्रतिरोध का सामना करना पड़ा और ये कमश: 31,300 रुपये और 31,150 रुपये प्रति 10 ग्राम तक लुढ़क गईं. सप्ताह के अंत में वैश्विक बाजारों में मजबूती के संकेतों के अनुरूप इनमें तेजी लौटी और अंतत: ये क्रमश: 31,550 रुपये और 31,400 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुईं.

हालांकि, छिटपुट सौदों के कारण गिन्नी की कीमत सीमित दायरे में घट बढ़ के बाद सप्ताहांत में 24,500 रुपये प्रति आठ ग्राम के पूर्वस्तर पर ही बंद हुई.

इसे भी पढ़ें : 2019 के लोकसभा चुनाव में वीवीपैट (VVPAT) मशीनों का इस्तेमाल किया जायेगा

सोने की तरह चांदी में भी उछाल

सोने की तरह चांदी तैयार की कीमत भी सप्ताहांत में 950 रुपये की तेजी के साथ 39,100 रुपये प्रति किलो पर बंद हुई. इसी प्रकार चांदी साप्ताहिक डिलिवरी की कीमत 985 रुपये की तेजी दर्शाती 38,575 रुपये प्रति किलो पर बंद हुई.

समीक्षाधीन अवधि में चांदी सिक्कों की कीमत सप्ताहांत में 1,000 रुपये की तेजी के साथ लिवाल 73,000 रुपये और बिकवाल 74,000 रुपये प्रति सैकड़ा पर बंद हुई.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें
स्वंतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है.इस हालात ने पत्रकारों और पाठकों के महत्व को लगातार कम किया है और कारपोरेट तथा सत्ता संस्थानों के हितों को ज्यादा मजबूत बना दिया है. मीडिया संथानों पर या तो मालिकों, किसी पार्टी या नेता या विज्ञापनदाताओं का वर्चस्व हो गया है. इस दौर में जनसरोकार के सवाल ओझल हो गए हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्त निर्णय लेने की स्वतंत्रता खत्म सी हो गयी है.न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए जरूरी है कि इसमें आप सब का सक्रिय सहभाग और सहयोग हो ताकि बाजार की ताकतों के दबाव का मुकाबला किया जाए और पत्रकारिता के मूल्यों की रक्षा करते हुए जनहित के सवालों पर किसी तरह का समझौता नहीं किया जाए. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. इसे मजबूत करने के लिए हमने तय किया है कि विज्ञापनों पर हमारी निभर्रता किसी भी हालत में 20 प्रतिशत से ज्यादा नहीं हो. इस अभियान को मजबूत करने के लिए हमें आपसे आर्थिक सहयोग की जरूरत होगी. हमें पूरा भरोसा है कि पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें खुल कर मदद करेंगे. हमें न्यूयनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए से आप सहयोग दें. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: