न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

चारा घोटालाः 16 दोषियों में से 11 को तीन साल, पांच को चार साल की सजा

एक आरोपी खराब स्वास्थ्य के कारण नहीं पहुंच पाया कोर्ट

687

Ranchi: बहुचर्चित चारा घोटाला से जुड़े एक मामले में कोर्ट ने बुधवार को अपना फैसला सुनाया. आरसी 20A/96 चाईबासा कोषागार से अवैध निकासी मामले के दूसरे पूरक मामले में 17 आरोपियों में से 16 को सीबीआई की विशेष अदालत ने दोषी करार दिया है.

11 दोषियों को तीन साल की सजा

चाईबासा कोषागार से अवैध मामले में आर सी 20/96 में 16 दोषियों में 11 दोषियों को 3 साल सजा,5 दोषियों 4 साल की सजा और अधिकतम 7 लाख न्यूनत्तम 25 हजार का जुर्माना भी लगाया गया है.

इसे भी पढ़ेंःमोदी मंत्रिमंडल को लेकर माथापच्ची, मोदी-शाह ने करीब पांच घंटे किया मंथन

वहीं इस मामले में ट्रायल फेस कर रहे एक आरोपी शेरून निशा की खराब तबीयत होने के कारण सुनवाई नहीं हो सकी.

सीबीआई के विशेष न्यायाधीश एसएन मिश्रा की अदालत ने पिछली सुनवाई के दौरान दोनों पक्षों की दलीलों को सुनने के बाद फैसले की तारीख बुधवार निर्धारित की थी.

20 आरोपियों के खिलाफ बाद में दाखिल किया गया था आरोप पत्र

मिली जानकारी के अनुसार, चाईबासा कोषागार से लगभग 37 करोड़ रुपये की अवैध निकासी मामले में सीबीआई ने 20 आरोपियों के खिलाफ बाद में आरोप पत्र दाखिल किया था.

लालू प्रसाद समेत 46 अभियुक्तों को अदालत ने सजा सुनाई है. मामले की सुनवाई के दौरान ही तीन आरोपियों का निधन हो गया है.

Related Posts

अखिल झारखंड प्राथमिक शिक्षक संघ 16 सूत्री मांगों को लेकर 31अगस्त को मुख्यमंत्री का घेराव करेगा

जनसंपर्क अभियान लगातार जारी है. संघ के अनुसार  इस बार आर पार की लड़ाई लड़ने को शिक्षक तैयार है.

SMILE

इन आरोपियों के खिलाफ पूरक अभिलेख के तहत मामले की सुनवाई चल रही है. वहीं मूल अभिलेख का निष्पादन सितंबर 2013 में हो चुका है. जिसमें लालू प्रसाद समेत 46 अभियुक्तों को अदालत ने सजा सुनाई है.

चाईबासा कोषागार अवैध निकासी के 17 आरोपी

चाईबासा कोषागार से अवैध निकासी के इस मामले में आरोपियों के खिलाफ आपराधिक षड्यंत्र के तहत धोखाधड़ी और सरकारी पद का दुरुपयोग करने का आरोप है.

इसे भी पढ़ेंःपैदा लेते ही 26,225 रुपये के कर्जदार होंगे झारखंड के नौनिहाल

इस मामले में दवा आपूर्तिकर्ता अनिल कुमार सिंह, संजीव कुमार बासुदेव, मोहम्मद सईद, सलाउर्र रहमान सहित कुल 17 आरोपी हैं.
मामले में 18 फरवरी 2019 को सूचक दिल्ली में पदस्थापित प्रशासनिक अधिकारी अमित खरे की गवाही पूरी होने के बाद अदालत ने आरोपियों के बयान दर्ज किया था.

इन्हें हुई सजा

उमेश दुबे, महेंद्र कुमार कुंदन, आदित्य जोरदार, विमल कुमार अग्रवाल, बृज किशोर अग्रवाल, राम अवतार शर्मा, राजेंद्र कुमार हरित, संजीव कुमार बासुदेव, किशोर कुमार झा, बसंत कुमार सिंह, मधु, अपर्णीता कुंडू, सहदेव प्रसाद, लालमोहन गोप, भरतेश्वर नारायण लाल और अनिल कुमार को सजा सुनाई गई.

इसे भी पढ़ेंःआजादी के 70 साल बाद भी बोक्काखांड गांव बेहाल, एक कुएं के भरोसे है पूरा गांव

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: