National

मोदी मंत्रिमंडल को लेकर माथापच्ची, मोदी-शाह ने करीब पांच घंटे किया मंथन

New Delhi: नरेंद्र मोदी और बीजेपी प्रचंड बहुमत के साथ सत्ता में एकबार फिर से वापसी कर रहे हैं. सत्ता की इस दूसरी पारी के लिए मोदी की टीम में कौन-कौन होंगे.

इसे लेकर घंटों मंथन का दौर चला. गुरुवार यानी कल नरेंद्र मोदी फिर एकबार प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे. इस उनके मंत्रिमंडल में किस-किस को जगह मिलेगी, इसे लेकर चिंतन जारी है.

इसे भी पढ़ेंःडॉ. तड़वी सुसाइड केस में तीनों आरोपी महिला चिकित्सक गिरफ्तार

मोदी-शाह की मैराथन मीटिंग

मोदी कैबिनेट के स्वरुप को लेकर नरेंद्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के बीच बंद कमरे में घंटों बातचीत हुई. बताया जा रहा है कि करीब पांच घंटे दोनों ने मैराथन मंथन किया है.

ज्ञात हो कि दोनों नेता बीते कुछ दिनों में वाराणसी और अहमदाबाद में भी साथ ही थे. ऐसे में यह माना जा रहा है कि उन्होंने साथ सफर करने के दौरान भी सरकार गठन के मुद्दे पर चर्चा की होगी.

हालांकि, दोनों के बीच बंद दरवाजे के पीछे क्या बातचीत हुई, इस बारे में फिलहाल आधिकारिक जानकारी सामने नहीं आई है.

संभावना जताई जा रही है कि आज संभावित मंत्रियों को बुलावा भेजा जाएगा. क्योंकि कल (शाम 7 बजे) शपथ ग्रहण समारोह होना है, ऐसे में यह माना जा सकता है कि आज शाम तक उन सांसदों को सूचित कर दिया जाएगा जिन्हें मंत्रिमंडल में जगह दी जा रही है.

इसे भी पढ़ेंःनवीन पटनायक पांचवी बार ओडिशा की संभालेंगे कमान, शपथ ग्रहण आज

शाह की होगी कैबिनेट में एंट्री

बीजेपी के बेहतर प्रदर्शन के बाद शाह की मोदी कैबिनेट में एंट्री को लेकर कयासबाजी जारी है. पार्टी के एक गुट का मानना है कि शाह सरकार में शामिल होंगे क्योंकि उन्होंने पार्टी के लिए सबसे ज्यादा किया है. जबकि एक गुट ये भी कह रहा है कि शाह फिलहाल अध्यक्ष पद नहीं छोड़ेंगे.

कयास तो ये भी लगाये जा रहे हैं कि मोदी के नेतृत्व वाली एनडीए की नई सरकार में कई दिग्गज और मौजूदा मंत्रियों को जगह नहीं मिलेगी. साथ ही 40 फीसदी नए चेहरों को कैबिनेट में शामिल किया जाएगा. बीजेपी सूत्रों के मुताबिक, इस बार देश को नया वित्त, रक्षा और विदेश मंत्री मिल सकता है. इस बात की संभावना है कि स्वास्थ्य कारणों से अरुण जेटली इस बार मंत्री बनना पसंद नहीं करेंगे.
बहरहाल, मोदी मंत्रिमंडल का स्वरुप क्या होगा ये गुरुवार शाम तक ही स्पष्ट होने की उम्मीद है.

इसे भी पढ़ेंःअल्पसंख्यकों की एकजुटता ने राजमहल में विजय हांसदा को दिलायी विराट जीत

Telegram
Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close