National

#Tihar जेल में कटी चिदंबरम की पहली रात, डिनर में मिला रोटी, दाल और चावल

New Delhi : पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम को गुरुवार शाम तिहाड़ जेल लाया गया और जेल अधिकारियों के अनुसार उन्हें एक अलग कोठरी और इंग्लिश टॉयलेट के अलावा कोई विशेष सुविधा नहीं मिलेगी.

अन्य कैदियों की तरह वह जेल के पुस्तकालय का उपयोग कर सकेंगे और एक निश्चित अवधि तक टेलीविजन देख सकते हैं.

इसे भी पढ़ें- #JioFiber : Jio Gigafiber लॉन्च, सबसे सस्ता प्लान 699 रुपये का, जानिये किस प्लान में है फ्री टीवी

Catalyst IAS
ram janam hospital

जेल नंबर सात चिदंबरम का नया ठिकाना

The Royal’s
Sanjeevani
Pitambara
Pushpanjali

आवश्यक मेडिकल जांच के बाद चिदंबरम को जेल नंबर सात में रखा गया है. आम तौर पर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के मामलों में आरोपियों को इसी जेल में रखा जाता है. उनके पुत्र कार्ति को भी पिछले साल इसी मामले में उसी कोठरी में 12 दिनों तक रखा गया था.

सूत्रों ने बताया कि जेल में उन्होंने हल्का भोजन किया और दवाईयां लीं. अगस्तावेस्टलैंड और बैंक धोखाधड़ी मामले में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के भांजे रतुल पुरी भी इसी जेल में कैद हैं.

जेल के एक अधिकारी ने कहा कि आम तौर पर रात का खाना सात से आठ बजे के बीच कैदियों को दे दिया जाता है लेकिन यह उन लोगों के लिए अलग रखा जाता है जो अदालती प्रक्रियाओं के कारण देर से पहुंचते हैं.

सामान्यतया रात के खाने में रोटियां, दाल, सब्जी और चावल होता है. उन्होंने बताया कि चिदंबरम को कोठरी में रात नौ बजे से सुबह छह बजे तक रखा जाएगा. सुबह सात से आठ बजे के बीच नाश्ता दिया जाएगा. अधिकारी ने कहा कि वह या तो आरओ मशीन से पानी पी सकते हैं या कैंटीन से पानी की बोतल खरीद सकते हैं.

इसे भी पढ़ें- #Economicslowdown : सड़कों से गायब होने लगे ट्रक, सात करोड़ परिवारों की रोजी-रोटी संकट में

14 दिनों की न्यायिक हिरासत में हैं चिदंबरम

संप्रग सरकार में गृह मंत्री रहे चिदंबरम को आइएनएक्स मीडिया भ्रष्टाचार मामले में 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में तिहाड़ भेजा गया है. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता को उच्च सुरक्षा के बीच राउज एवेन्यू अदालत से एशिया की सबसे बड़ी जेल में लाया गया. जेल अधिकारियों को चिदंबरम को अदालत से जेल लाने में लगभग 35 मिनट लगे.

चिदंबरम को जेल लाये जाने के दौरान मीडिया ने वैन का पीछा किया जिसके बाद जेल अधिकारियों ने कागजों से उनका चेहरा छिपाने का प्रयास किया. उन्हें जेल के गेट नंबर चार से अंदर ले जाया गया.

उनका बेटा कार्ति और वकील जेल के बाहर दिखाई दिए. एक जेल अधिकारी ने कहा कि उन्हें एक अलग कोठरी दी जा रही है और वह इंग्लिश टॉयलेट का इस्तेमाल कर सकते हैं, जैसा अदालत ने निर्देश दिया है.

Related Articles

Back to top button