GiridihJharkhand

SDM कोर्ट के निर्देश पर दीनदयाल घाट पर चला बुलडोजर, आशियाना टूटता देख गुस्साईं भाजपा नेता की पत्नी

Giridhi. एसडीएम कोर्ट के आदेश पर सोमवार को शहर के जयप्रकाश नगर के दीनदयाल नदी घाट में अभियान चलाकर अतिक्रमण हटाया गया. अतिक्रमण हटाने का जिम्मा गिरिडीह सदर प्रखंड के सीओ रवीन्द्र सिन्हा और नगर थाना पुलिस को मिला. कोर्ट के निर्देश पर नदी घाट के तटीय क्षेत्र से अतिक्रमण हटाने की शुरुआत ही हुई थी.

 

हालांकि भाजपा नेता रामप्रवेश चौधरी व उनकी पत्नी सोनी चौधरी ने एसडीएम प्रेरणा दीक्षित पर एकतरफा कार्रवाई करने का आरोप लगाकर क्रय किए गए प्लॉट के गार्डवाल को तोड़ने की बात कही. एक तरफ जेसीबी मशीन से गार्डवाल और दीवार को तोड़ा जा रहा था. दूसरी तरफ भाजपा नेता व उनकी पत्नी सीओ रवीन्द्र सिन्हा पर साजिश के तहत कार्रवाई करने का आरोप लगाई.

म्यूटेशन रसीद भी अपडेट

सोनी चौधरी ने कहा कि बरमसिया मौजा का प्लॉट नंबर 2 के इस हिस्से को वह गीता अग्रवाल नामक महिला से खरीदी है. इस प्लॉट का साल 2015 का म्यूटेशन रसीद भी अपडेट है. इसके बाद भी उनके प्लॉट को एसडीएम अवैध कैसे कह सकती है. जब अवैध था, तो इस हिस्से का रजिस्ट्री और म्यूटेशन आखिरकार सदर अचंल कार्यालय ने किस प्रकार कर दिया.

इसे भी पढ़ें- NEET परीक्षा की तैयारी को लेकर रांची डीसी ने की बैठक, कहा- कोरोना गाइडलाइन का रखा जाए ध्यान

जेसीबी से टूटते गार्डवॉल और दीवार पर भाजपा नेता की पत्नी गुस्से से आग बबूला होते हुए सीओ पर खूब गुस्सा हुई. लगे हाथ भाजपा नेता की पत्नी यह भी कह बैठी कि उसके और उसके पति के साथ एसडीएम ने नाइंसाफी की है. एसडीएम के इस पक्षपात भरी कार्रवाई के कारण प्रशासन उन्हें आत्मदाह करने के लिए मजबूर कर रहा है. क्योंकि नदी के तटीय इलाके के इसी प्लॉट पर कई और घरों का निर्माण किया गया है. लेकिन एसडीएम साजिश कर उनके गार्डवाल और दीवार को तोड़ रही है.

बिना आदेश नहीं रोक सकते कार्रवाई

भाजपा नेता की पत्नी को गुस्सा देख सीओ रवीन्द्र सिन्हा ने समझाते हुए कहा कि अगर कार्रवाई गलत लग रही है तो वे तुंरत डीसी के समीप अपना फरियाद रखें. वहां से निर्देश मिलने के बाद कार्रवाई बंद की जाएगी. क्योंकि एसडीएम कोर्ट के निर्देश के आधार पर ही कार्रवाई की जा रही है. जिसे वह बगैर किसी आदेश के नहीं रोक सकते.

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: