Lead NewsNationalSci & TechTOP SLIDER

DRDO : जमीन से हवा में मार करने वाली मिसाइल का सफल परीक्षण, भारतीय नौ सेना की बढ़ेगी ताकत

New Delhi : भारत ने मंगलवार को छोटी दूरी वाले एक मिसाइल ‘वर्टिकली लॉन्च शॉर्ट रेंज सरफेस टू एयर मिसाइल’ (VL-SRSAM) का सफलतापूर्वक परीक्षण किया है. रक्षा अनुसंधान व विकास संगठन (DRDO) ने जमीन से हवा में मार करने वाली इस मिसाइल का परीक्षण ओडिशा के तट से कुछ दूर चांदीपुर में किया. भारतीय नौसेना ने इसे तैयार किया है.

इस बारे में रक्षा मंत्रालय ने बताया कि इस मिसाइल को वर्टिकल लांचर से कम दूरी की सतह से लांच किया गया. यह मिसाइल लगभग 15 किमी की दूरी पर स्थित दुश्मन के टारगेट को खत्म कर सकती है. परीक्षण के दौरान DRDO व नौसेना के अधिकारी भी इस परीक्षण के दौरान मौजूद रहे. इसी साल 22 फरवरी को इसका पहला परीक्षण किया गया था.

VL-SRSAM को भारतीय नौसेना के लिए स्वदेशी रूप से डिजाइन और विकसित किया गया है, जिसका उद्देश्य समुद्री-स्किमिंग टारगेट सहित सीमा पर विभिन्न हवाई खतरों को बेअसर करना है. परीक्षण के दौरान मिसाइल की उड़ान, उसके पथ और अन्य आंकड़ों, मानदंडों को रिकॉर्ड किया गया.’ मंत्रालय ने कहा कि मिसाइल की प्रणाली ने आशा के अनुरुप काम किया. इस परीक्षण को देखने के लिए DRDO और भारतीय नौसेना के वरिष्ठ अधिकारी भी चांदीपुर में मौजूद रहे.

इस मिसाइल की रेंज 50 से 60 किलोमीटर है और ये जमीन से ही हवा में मार कर सकती है. दूसरे शब्दों में हवा से आने वाले खतरे को इस मिसाइल के जरिए हवा में ही नष्ट किया जा सकता है. इस मिसाइल को नौसेना के युद्धपोतों पर तैनात किया जाएगा .

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इस सफल परीक्षण पर DRDO, नेवी और प्रोजेक्ट से जुड़े सभी लोगों और संगठनों को बधाई दी. उन्होंने कहा कि यह मिसाइल प्रणाली हवाई खतरों के खिलाफ भारतीय नौसेना की क्षमता को और मजबूत बनाएगी. डीआरडीओ के प्रमुख जी. सतीश रेड्डी ने भी परीक्षण में शामिल वैज्ञानिकों को इसके लिए बधाई दी.

Nayika

advt

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: