DhanbadJharkhand

धनबाद: चासनाला कोलियरी में चाल धंसने से एक की मौत, बाल-बाल बचे 116 मजदूर

Dhanbad: चासनाला कोलियरी में चाल धंसने से एक मजदूर की मौत हो गयी. यह घटना शुक्रवार देर रात हुई. मृतक ठेका मजदूर था. उसकी पहचान महताब आलम के रूप में हुई है. वहीं इस घटना में 116 मजदूर बाल-बाल बच गयी.

हादसे की सूचना मिलने के बाद देर रात तक अधिकारी खदान के अंदर ही रहे. रात करीब एक बजे मलबा हटाकर शव को बाहर निकाला गया. इधर, मजदूर की मौत की खबर के बाद खदान के बाहर बड़ी संख्या में श्रमिक, विभिन्न संगठन के नेता और मजदूर के परिजन जुट गये थे.

इसे भी पढ़ें- बिहार पहुंचने के कुछ घंटे बाद ही प्रवासी मजदूर ने कोरोना से तोड़ा दम, अब तक 11 की मौत, 188 नये केस

advt

अचानक गिर पड़ा कोयले का बड़ा हिस्सा

जानकारी के अनुसार कोल माइंस डेवलपर ठेका कंपनी के 117 मजदूर द्वितीय पाली में डीप माइंस में गये थे. रात में अचानक कोयले का बड़ा हिस्सा गिर पड़ा, जिसमें महताब आलम नाम का ठेका मजदूर दब गया.

जबकि अन्य मजदूरों ने खदान के अंदर ही भाग कर अपनी जान बचायी. अफरा-तफरी के बीच घटना की सूचना वरीय अधिकारी को दी गयी. इसके बाद कई अधिकारी मौके पर पहुंचे. इसके बाद खदान के अंदर फंसे मजदूरों को बाहर निकाला गया.

इसे भी पढ़ें- #Jharkhand में कोरोना महामारी से रिकवरी दर 90 प्रतिशत से ऊपर और मृत्यु दर बेहद कम :  हेमंत सोरेन

मृतक के परिजन को 10 लाख का मुआवजा

सेल कोलियरी डिवीजन के चास नाला डीप माइंड खदान के 12 नंबर सिम में शुक्रवार की रात चाल धंसने की सूचना से पूरे क्षेत्र में सनसनी फैल गयी. आसपास के लोग और मजदूरों के परिजन घटना की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंच गये थे. बहुत देर तक यह पता नहीं चल पा रहा था कि कितने मजदूर दबे हैं. जिसके बाद रात के करीब एक बजे मृतक मजदूर महताब आलम का शव निकाला गया.

adv

घटना की खबर सुनकर विभिन्न ट्रेड यूनियन के नेता पहुंच गये. वहीं रात्रि पाली की ड्यूटी जाने के लिए पहुंचे मजदूरों की भीड़ भी लग गयी. मजदूरों ने घटना के बाद हंगामा शुरू कर दिया. इसके बाद सेल चासनाला कोलियरी के उपमहाप्रबंधक खनन संजय कुमार, सुरक्षा अधिकारी केपी महतो, शिफ्ट प्रबंधक रविंद्र शर्मा, सर्वेयर प्रबंधक नीरज मिश्रा खदान में उतर घटना स्थल पर गये.

रात करीब 11 बजे मजदूर एक-एक कर खदान से बाहर निकाले गये. वहीं प्रबंधन ने मृत मजदूर के परिजन को 10 लाख रुपया मुआवजा और एक आश्रित को नौकरी देने का आश्वासन दिया है. इस आश्वासन के बाद हंगामा कर रहे मजदूर शांत हुए.

इसे भी पढ़ें- नयी एडवाइजरी की वजह से पता नहीं महाराष्ट्र के किस स्टेशन में फंसे हैं झारखंड के 1500 मजदूर :  हेमंत

इसी कोलियरी में 375 मजदूरों की गयी थी जान

घटना की जानकारी मिलते ही लॉ एंड ऑर्डर की स्थिति को देखते हुए धनबाद एसडीएम राज महेश्वरम, डीएसपी अजित कुमार सहित कई अधिकारी और सेल अधिकारी और पुलिस बल चासनाला कोलियरी पहुंचे और हंगामा कर रहे लोगों को शांत कराया. मालूम हो कि यह वही डीप माइंस है जहां 7 दिसंबर 1975 को 375 मजदूरों की जल समाधि हो गयी थी.

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button