Education & CareerRanchi

अनुबंधकर्मी एक विभाग के अलावे कई जगहों पर दे रहे हैं योगदान

Ranchi: रांची विश्वविद्यालय (आरयू) के लगभग दर्जनभर अनुबंधकर्मी नियमों की अनदेखी कर रांची विश्वविद्यालयों में योगदान दे रहे हैं. कई विभागों के क्‍लर्क, सहायक और लाइबेरियन दूसरे कॉलेजों में अनुबंध शिक्षक के रूप में कार्य कर रहे हैं. विश्वविद्यालय प्रशासन को भी इस बात की सूचना है कि ये अनुबंधकर्मी एक स्थान के अलावे कई विश्वविद्यालय के विभिन्न कॉलेजों में अनुबंध पर कार्य कर रहे हैं. वहीं इन अनुबंधकर्मियों को दो जगहों से विश्वविद्यालय द्वारा मानदेय भी प्रदान किया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें- मगध कोलियरीः साइडिंग के बदले अवैध डिपो में कोयला जमा कर रही ट्रांसपोर्ट कंपनियां

क्या है मामला

ram janam hospital
Catalyst IAS

रांची विश्वविद्यालय द्वारा हाल में ही अनुबंध शिक्षकों की बहाली प्रक्रिया आरंभ की गयी. इस प्रक्रिया में रांची विश्वविद्यालय के अनुबंधकर्मियों ने भी हिस्सा लिया और उनका चयन अनुबंध सहायक शिक्षक के रूप में आरयू के विभिन्न विभागों एवं कॉलेजों में हुआ. लेकिन, इन कर्मियों ने अपने पहले कार्य को जारी रखते हुवे अन्य जगहों पर योग्यदान देना शुरु कर दिया. पत्रकारिता विभाग के लाइबेरियन सुशील रंजन अनुबंधकर्मी के रूप में नियुक्त हैं. लेकिन, वह साथ ही साथ वो बिरसा कॉलेज खूंटी में सहायक शिक्षक के रूप में योगदान दे रहे हैं. इस तरह के दर्जनभर मामले आरयू में हैं. जिनको आरयू के अधिकारी नजरअंदाज कर उन्हें दो मानदेय का लाभ प्रदान कर रहे हैं.

The Royal’s
Pushpanjali
Pitambara
Sanjeevani

इसे भी पढ़ें- सीएम ने चीन में कहा- झारखंड में फूड प्रोसेसिंग क्षेत्र में निवेश के लिए आगे आयें

क्या है नियम

आरयू के नियमों के अनुसार अनुबंधकर्मी की नियुक्ति केवल एक ही कार्य के लिए एक ही विभाग में किया जाता है. उनको अपने कार्यस्थल पर कार्य के दौरान रहना अनिवार्य है. उनके इसी कार्य पर विश्वविद्यालय के द्वारा मानदेय प्रदान किया जाता है.

क्या कहते हैं आरयू के अधिकारी

आरयू के कोऑर्डिनेटर डॉ अशोक चौधरी ने कहा कि विवि का अनुबंधकर्मी अन्य जगहों पर योगदान नहीं दे सकता है, ये विश्वविद्यालय के नियमों के खिलाफ है. मामले को गंभीरतापूर्ण लेते हुए विश्वविद्यालय ऐसे अनुबंधकर्मियों के खिलाफ कार्यवाही करेगा.

Related Articles

Back to top button