West Bengal

#Jhargaram पुलिस मुख्यालय में तैनात कॉन्स्टेबल ने की अंधाधुंध फायरिंग, पुलिस वाले बने बंधक

  • फायरिंग में एसपी अमित कुमार राठौड़ सहित कई पुलिस अधिकारी फंसे
  • फोन और माइकिंग के जरिए कॉन्स्टेबल को शांत करने का प्रयास जारी

Jhargram: पश्चिम बंगाल के झाड़ग्राम में एक जूनियर कांस्टेबल ने झारग्राम पुलिस लाइन में कई पुलिस कर्मियों को बंधक बना लिया है. शुरूआती जानकारी के मुताबिक कांस्टेबल का नाम विनोद कुमार है जो इमारत की छत hj है जहां कई पुरुष और महिला अधिकारियों को उसने बंदी बनाया है.

विनोद कुमार किसी को भी इमारत में घुसने नहीं दे रहा है और ना ही किसो की बाहर जाने दे रहा है. फिलहाल इमारत में बंधक बनाकर रखे गये लोगों को सुरक्षित बाहर निकालने के लिए भारी संख्या में पुलिस बल मौके पर पहुंच चुकी है.

हालांकि अभी तक यह पता नहीं चला है कि जूनियर पुलिस कांस्टेबल ने यह कदम क्यों उठाया है.

advt

सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक पुलिस कांस्टेबल पिछले एक घंटे से पुलिस लाइन के शस्त्रगार की छत से एके 47 से लगातार फायरिंग कर रहा है. पुलिस कांस्टेबल कम से कम 50 राउंड फायर कर चुका है. हालांकि किसी के भी हताहत होने की सूचना नहीं है घटनास्थल पर कमांडो और एंटी माइन्स वाहन स्पॉट पहुंच चुके हैं.

इसे भी पढ़ें : #GiridihPolice व सीआरपीएफ ने भेलवाघाटी के अरवरा जंगल से बरामद किया विस्फोटकों का जखीरा

छुट्टी नहीं मिलने से परेशान!

मिली जानकारी के मुताबिक कांस्टेबल लंबे समय से ड्यूटी से छुट्टी नहीं मिलने की वजह से परेशान है.

बताया जा रहा है कि मुख्यालय में ड्यूटी पर तैनात एसपी अमित कुमार राठौड़ सहित कई पुलिस अधिकारी व पुलिस कर्मी मुख्यालय के अंदर ही बुरी तहर कई घंटे से फंसे हैं.

adv

मालूम हो कि पुलिस मुख्यालय में प्रवेश करने के लिए 4 गेट हैं और उन चारों गेटों को पार कर के ही कोई भी कार्यालय तक पहुंच सकता है. ऐसे में कॉन्स्टेबल प्रवेश द्वार के दूसरे नंबर गेट पर तैनात था और अचानक उसने फायरिंग करना शुरू कर दिया.

इसे भी पढ़ें : #ED ने पूर्व मंत्री एनोस एक्का की 22.38 करोड़ की संपत्ति जब्त की

परिजनों को बुलाया गया

बताया जा रहा है की दूसरे नंबर गेट के पास भारी संख्या में शस्त्रगार हैं जिसे आर्म्स विभाग कहा जाता है और कॉन्स्टेबल उन्ही आर्म्स का इस्तेमाल कर लगातार फायरिंग की घटना को अंजाम दे रहा है.

कई पुलिस कर्मियों ने उसको फोन कर उसको शांत करने की कोशिश की पर कॉन्स्टेबल ने किसी का फोन तक नही उठाया जिसके बाद पुलिस ने माइकिंग के जरिए उसको शांत करने का प्रयास किया जिसके बाद भी वो शांत नही हुआ.

थक हार कर पुलिस कर्मियों ने कॉन्स्टेबल के परिजनों को मौके पर बुलाया है ताकि उसे शांत किया जा सके. साथ ही पुलिस इंतजार कर रही है कि कब असलहा खत्म होगा और वो कॉन्स्टेबल तक पहुंच उसको काबू कर सकेंगे.

इसे भी पढ़ें : #CoronaVirus : रांची में और 4 कोरोना पॉजिटिव मरीज, राज्य में कुल 53 लोग संक्रमित

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button