न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

चतरा: 23 लाख के बैंक लूटकांड में पुलिस के हाथ खाली, बैंक कर्मियों की मिलीभगत की आशंका

647

Chatra: शहर के बैंक ऑफ इंडिया की ब्रांच से हुए 23 लाख की लूट के मामले में पुलिस के हाथ अबतक खाली है. हंटरगंज थाना क्षेत्र के गोसाईडीह गांव स्थित बैंक ऑफ इंडिया की शाखा से अपराधियों ने सोमवार की सुबह करीब 10 बजे 23 लाख रुपये की लूट की थी.

वारदात को लेकर पुलिस सीसीटीवी फुटेज खंगाल रही है, और उसके आधार पर अपराधियों की गिरफ्तारी में जुटी है. लेकिन फिलहाल कोई सफलता हाथ नहीं लगी है. वही आशंका जताई जा रही है कि लूटकांड में बैंक के कर्मियों की मिलीभगत हो सकती है. हालांकि इसकी कोई पुष्टि नहीं हुई है.

इसे भी पढ़ेंःडिप्लोमा सेमेस्टर छह की परीक्षा हुई नहीं, इधर लेट्रल एंट्री वाले बीटेक छात्रों से संस्थान मांग रहे मार्क्सशीट

सुरक्षा के नहीं थे पुख्ता इंतजाम

बैंक ऑफ इंडिया की शाखा में सुरक्षा के नाम पर मात्र एक चौकीदार तैनात था. लेकिन उसके पास भी हथियार नहीं थे. जिसका फायदा लुटेरों ने उठाते हुए लूट की घटना को अंजाम दिया है.

मिली जानकारी के अनुसार, जिले के किसी भी बैंक में निजी तौर पर सुरक्षा के कोई प्रबंध नहीं है. बैंक स्थानीय थाना के सहयोग से ही सुरक्षा के मापदंड को पूरा करती है.

बैंक कर्मियों की मिलीभगत की आशंका

अपराधियों ने जिस तरह से पांच मिनट में 23 लाख की लूट को अंजाम दिया है, उससे इस लूट में बैंक कर्मियों की मिलीभगत की आशंका जताई जा रही है. हालांकि इसकी कोई पुष्टि नहीं हो पाई है.

मिली जानकारी के अनुसार, बैंक ब्रांच का मुख्य द्वार खोलकर छोड़ना संदेह को और गहरा कर रहा है. जिसका फायदा उठाते हुए पूर्व से बैंक की रेकी कर रहे लुटेरे घटना को अंजाम देकर फरार हो गये.

बताया जा रहा है कि बीते शुक्रवार को ही शाखा में कैश पहुंचाया गया था. जिसके बाद रविवार को साप्ताहिक बंदी के बाद सोमवार को बैंक खुलते ही लुटेरों ने लूट की घटना को अंजाम दिया. जिससे ये स्पष्ट होता है कि लुटेरों को ब्रांच में कैश होने की जानकारी पहले से थी.

इसे भी पढ़ेंःरातू रोड से कचहरी चौक तक लगता है ऐसा जाम कि एक किमी तय करने में लग जाते हैं 40 मिनट

महज पांच मिनट में लूट लिये 23 लाख

सोमवार सुबह दो बाइक से आये छह अपराधियों ने मात्र पांच मिनट में इतनी बड़ी लूट की घटना को अंजाम दिया. इसके बाद गया की ओर भाग गये. घटना की सूचना देने के आधे घंटे बाद पुलिस बैंक पहुंची. हालांकि हंटरगंज थाने की दूरी बैंक से करीब चार किलोमीटर ही है.

जानकारी के अनुसार, हर दिन की तरह बैंक सुबह नौ बजे खुला. छह अपराधी 9:45 बजे बैंक पहुंचे. दो बाइक पर बैठे थे, जबकि एक बैंक की गेट पर खड़ा था.

तीन अपराधी तेजी से बैंक में घुसे. इनमें से एक ने सबसे पहले मैनेजर मृगेंद्र शेखर को पिस्टल दिखा कर कब्जे में कर लिया. दूसरे अपराधी ने कैशियर कुंदन कुमार को हथियार दिखा आयरन चेस्ट खुलवाया और उसमें रखे 23 लाख रुपये बैग में भर लिये.

तीसरे अपराधी ने बैंक में मौजूद ग्राहकों को चुपचाप रहने की हिदायत दी. इस दौरान विरोध करने पर मैनेजर, कैशियर व चपरासी के साथ मारपीट भी की गयी. करीब पांच मिनट में ही घटना को अंजाम देकर अपराधी बैंक से निकल भागे.

इसे भी पढ़ेंःउन्नाव केस की जांच कोई भी एजेंसी करे क्या फर्क पड़ता है

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
झारखंड की बदहाली के जिम्मेदार कौन ? भाजपा, झामुमो या कांग्रेस ? अपने विचार लिखें —
झारखंड पांच साल से भाजपा की सरकार है. रघुवर दास मुख्यमंत्री हैं. वह हर रोज चुनावी सभा में लोगों से कह रहें हैं: झामुमो-कांग्रेस बताये, राज्य का विकास क्यों नहीं हुआ ?
झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन कह रहें हैं: 19 साल में 16 साल भाजपा सत्ता में रही. फिर भी राज्य का विकास क्यों नहीं हुआ ?
लिखने के लिये क्लिक करें.

you're currently offline

%d bloggers like this: