न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

चाईबासा : सारंडा क्षेत्र में फिर सक्रिय हुआ नक्सलियों का दस्ता, लेवी वसूलने पर दे रहे जोर

712

Ranchi : चाईबासा जिले के नक्सल प्रभावित क्षेत्र सारंडा में लंबे समय से नक्सलियों के शांत रहने के बाद एक बार पिर से उनका दस्ता सक्रिय हो गया है.

mi banner add

जानकारी के अनुसार बिहार-झारखंड स्पेशल एरिया कमेटी सदस्य अनमोल दा उर्फ समर जी का दस्ता सारंडा क्षेत्र में ठहरा हुआ है. अनमोल दा के दस्ते में 20 हथियारबंद सदस्य हैं. इसमें कई कुख्यात नक्सली शामिल हैं.

लेवी वसूलने के लिए सक्रिय नक्सली

सारंडा क्षेत्र में अनमोल दा का दस्ता छोटानागरा थाना क्षेत्र के कोलायबुरु, कुदलीबाद, उसरूईया, हतनाबुरु, बालिबा, कुमडीह गांव के जंगलों में स्थान बदल-बदल कर शरण ले रहा है.

नक्सलियों का ये दस्ता लेवी वसूलने पर जोर दे रहा है. सूत्रों के मुताबिक सारंडा में चल रही विकास योजनाओं से जुड़े ठेकेदारों से लेवी वसूली के लिए नक्सलियों का दस्ता आया है.

इसे भी पढ़ेंःकर्नाटक व गोवा के बाद अब झारखंड में “शुद्धिकरण” की बारी !

नक्सलियों की नहीं रही कोई विचारधारा

पुलिस के वरीय अधिकारियों का कहना है कि झारखंड में जो भी सक्रिय नक्सली संगठन हैं उनकी अब कोई विचारधारा नहीं रही.

लेवी नहीं मिलने के चलते नक्सली वाहनों में आग लगाकर दहशत फैलाने की कोशिश कर रहे हैं. उनका मुख्य मकसद अब लेवी वसूलना रह गया है. लेवी के पैसे से नक्सली अपनी संपत्ति बढ़ाने की कोशिश में जुटे हैं.

इसे भी पढ़ेंःनगर निगम : रखरखाव के अभाव में जर्जर हो गयी 1.40 करोड़ की रोड स्वीपिंग मशीन, नयी खरीदने की तैयारी

माओवादी सुप्रीमो नंबला केशवराव को संगठन मजबूत करने की मिली जिम्मेवारी

जानकारी के मुताबिक, माओवादी सुप्रीमो नंबला केशवराव उर्फ बसवाराज को झारखंड में संगठन मजबूत की जिम्मेदारी मिली है. इसके लिए उसने सरायकेला खरसांवा में बैठक भी की थी.

बसवाराज ने इसकी जिम्मेदारी 25 लाख के इनामी पतिराम मांझी उर्फ अनल को दी है.  अनल वर्तमान में 15 लाख के इनामी महाराज प्रमाणिक व दस लाख के इनामी अमित मुंडा के साथ इलाके में कैंप कर रहा है. गौरतलब है कि इन्हीं नक्सलियों के द्वारा इस इलाके में पुलिस पर लगातार हमले किये जा रहे हैं.

इसे भी पढ़ेंःकर्नाटक संकटः विधायकों के इस्तीफे पर SC में सुनवाई आज, कुमारस्वामी ने बुलायी कैबिनेट मीटिंग

सभी जिलों के एसपी को किया गया है अलर्ट

झारखंड के सबसे बड़े नक्सली संगठन भाकपा माओवादियों की नई रणनीतियों का खुलासा हुआ है. जो बेहद खतरनाक हैं. हथियार की कमी से जुझ रहे नक्सलियों ने सुरक्षाबलों, पुलिसकर्मियों और जनप्रतिनिधियों की सुरक्षा में तैनात बलों पर हमला कर हथियार लूटने की योजना बनायी है.

स्पेसल ब्रांच ने जामताड़ा और देवघर एसपी को छोड़कर बाकी 22 जिलों के एसपी को सुरक्षा मानकों के अनुपालन का आदेश भेजा है. खुफिया रिपोर्ट के मुताबिक, पुलिस पर हमला करने के लिए सरायकेला के तिरूलडीह कुकडू बाजार की तर्ज पर भीड़-भाड़ वाले इलाके, हाट बाजार, मेला, फुटबॉल या हॉकी प्रतियोगिता की जगह को चुना जा सकता है.

रिपोर्ट में जिक्र है कि हमला को अंजाम देने के लिए भाकपा माओवादी वर्दी में आने के बजाय, सामान्य ग्रामीणों की तरह आकर घटना को अंजाम देने की रणनीति बना रहे हैं. ताकि पुलिस उन्हें आसानी से चिन्हित नहीं कर सके और वे घटना को अंजाम दे सकें.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: