NationalTOP SLIDER

 दिल्ली आ रहे किसानों को रोकने लिए सड़कों पर बोल्डर, कंटीले तार और वाटर कैनन

दिल्ली में आज और कल  यानी गुरुवार और शुक्रवार को पंजाब सहित राजस्थान, हरियाणा, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश और केरल के किसान भी विरोध मार्च करने वाले हैं.

Chandigarh :  पंजाब, हरियाणा और राजस्थान के हजारों किसान हरियाणा बॉर्डर पर जमा हैं. केंद्र सरकार के कृषि सुधार कानूनों को वापस लेने की मांग को लेकर दिल्ली कूच करने अंबाला पहुंचे किसानों की पुलिस के साथ झड़प हुई. इन्हें दिल्ली आने से रोका जा रहा है.  इस दौरान 100 से ज्यादा किसानों को हिरासत में ले लिया गया है. इधर सरकार ने इन्हें दिल्ली पहुंचने से रोकने के लिए अंबाला से लेकर दिल्ली बॉर्डर तक जबर्दस्त घेराबंदी की है. सड़कों पर बोल्डर, कंटीले तार और वाटर कैनन लगाये गये हैं.

पंजाब, हरियाणा व राजस्थान के किसानों का एलान है कि 26 से 28 नवंबर तक के ‘दिल्ली कूच’ करेंगे. इस बीच किसानों ने धमकी दी है कि यह उन्हें रोका गया तो वे दिल्ली जाने वाले सारे रास्ते जाम कर देंगे.

राशन-कंबल-सब्जी लेकर जमा हुए हैं किसान

मार्च करने की तैयारी कर चुके हजारों किसान कांग्रेस शासित पंजाब के हरियाणा बॉर्डर पर जमा हैं. वे सभी आज गुरुवार दिल्ली में घुसने को तैयार हैं. मार्च में शामिल होने के लिए आये किसान अपने साथ राशन, सब्जी और लकड़ी जैसी जरूरी सामान लेकर आये हैं.बढ़ती ठंड को देखते हुए उनलोगों ने बड़ी संख्या में कंबल भी जमा किये हैं और अपनी ट्रॉली को तिरपाल से ढक दिया है. खबर है कि भाजपा शासित राज्य हरियाणा की पुलिस किसानों को रोकने के लिए प्रतिबद्ध है. जानकारी के अनुसार दिल्ली में आज और कल  यानी गुरुवार और शुक्रवार को पंजाब सहित राजस्थान, हरियाणा, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश और केरल के किसान भी विरोध मार्च करने वाले हैं.

इसे भी पढ़े : पाकिस्तान नहीं सुधरेगा, आतंकी हाफिज सईद  26/11 की बरसी पर मारे गये आतंकियों के लिए प्रार्थना करवा रहा है

गुरुग्राम और फरीदाबाद बॉर्डर पर सुरक्षा के भारी इंतजाम

हालांकि दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने कोरोना वायरस संक्रमण की वजह से किसी भी संगठन को दिल्ली में मार्च करने, विरोध-प्रदर्शन या रैली करने की अनुमति नहीं दी है. गुरुग्राम और फरीदाबाद बॉर्डर पर सुरक्षा के भारी इंतजाम  हैं. मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के आदेश के बाद हरियाणा ने आज और कल के लिए पंजाब बॉर्डर सील कर दिया है.

इसे भी पढ़े : हैंड ऑफ गॉड के लिए याद किये जाने वाले महान फुटबॉलर डिएगो माराडोना नहीं रहे… हार्ट अटैक से निधन…

बैरिकेड्स, वाटर कैनन और दंगा वाहन रेडी

किसानों के विरोध मार्च को विफल करने के लिए पंजाब से सटी सड़कों पर बैरिकेड्स, वाटर कैनन और दंगा वाहनों के साथ पूरी तरह से सुरक्षा व्यवस्था की गयी है. हरियाणा ने अगले दो दिनों के लिए पंजाब आने-जानेवाली बस सेवा को निलंबित कर दिया है

हरियाणा बॉ्र्डर पर पंजाब के किसान रात से ही कैम्प कर रहे हैं. उनलोगों का कहना है कि अगर पड़ोसी राज्य ने उन्हें आगे जाने से मना किया तो वहीं बैठकर धरना देंगे और विरोध-प्रदर्शन करेंगे.

इसे भी पढ़े : लालू प्रसाद की बढ़ सकती है परेशानी, विधायक से फोन पर बात करने के मामले में जनहित याचिका दर्ज करने की तैयारी

5 हजार महिलाएं, 4 हजार ट्रैक्टर

भारतीय किसान यूनियन (EU) के महासचिव सुखदेव सिंह ने कहा है कि इस विरोध मार्च में 25 हजार महिलाएं और 4000 ट्रैक्टर शामिल होंगे. इस संगठन ने कहा है कि उनके लगभग दो लाख सदस्य खनौरी और डबावली से हरियाणा में प्रवेश करेंगे. भारतीय किसान यूनियन (एकता-उग्रहन) का दावा है कि उससे जुड़े करीब दो लाख किसान आज हरियाणा में प्रवेश करेंगे.

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: