NEWSWING
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

भाजपा ने हेमंत और बाबूलाल के खिलाफ खोला मोर्चा, जेवीएम ने कहा – बीजेपी का फाइनल काउंटडाउन जनता 2019 में करेगी

बीजेपी और जेवीएम के बीच आरोप- प्रत्यारोप का खेल चल रहा है

286

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

steel 300×800

Ranchi : विधायकों की खरीद-फरोख्त को लेकर बाबूलाल मरांडी की राज्यपाल से शिकायत ने विवाद ने अब बड़ा रूप ले लिया है. बीजेपी और जेवीएम के बीच आरोप- प्रत्यारोप का खेल चल रहा है. आये दिन चिट्ठी को लेकर नया बखेड़ा हो रहा है. जबकि इस बीच हेमंत सोरेन परिवार द्वारा जमीन खरीदने के मामले ने तूल पकड़ लिया है. बीजेपी ने झारखंड के दो पूर्व मुख्य मंत्रियों पर करारा हमला बोला है. बीजेपी ने प्रेस कॉफ्रेंस करके हेमंत सोरेन और बाबूलाल मरांडी पर निशाना साधा है. भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने कहा कि बाबूलाल मरांडी का काउंटडाउन शुरू हो गया है. माफी मांगने के लिए अब मात्र उनके पास चार दिन का वक्त बचा है. प्रतुल शाहदेव ने कहा कि अब तय एक सप्तांह के बचे 4 दिनों में वह माफी मांग लें, नहीं तो कानूनी कार्रवाई के लिए तैयार रहें. वहीं भाजपा के प्रवक्ता अर्जुन मुंडा के दिये उस बयान के सवाल पर हिचकियाये, जिसमें कहा गया था कि पार्टी और सरकार के बीच संवादहीनता है. इस पर जब सवाल पूछा कि क्या अर्जुन मुंडा और बीजेपी के बीच संवादहीनता है. इस सवाल पर पार्टी के प्रवक्ता हिचकिचाने लगे.

दूसरी ओर जेवीएम के केन्द्रीय प्रवक्ता योगेन्द्र प्रताप सिंह ने बीजेपी के आरोपों पर पलटवार करते हुए कहा है कि बाबूलाल जी का राजनीतिक व कानूनी काउंटडाउन शुरू करने की ताकत लोकतंत्र की हत्या करने वाली भाजपा में नहीं है. लेकिन इतना जरूर है कि राजनीति को व्यापार समझने वाली बीजेपी ने सत्ता व अन्य सक्षम एजेंसियों का जो दुरूपयोग करके अपने काउंटडाउन को चार सालों तक रोककर रखा था, वो अब शुरू हो चुका है. जिसका फाइनल काउंटडाउन जनता 2019 में कर देगी.

इसे भी पढ़ें – रूरल इलेक्ट्रिफिकेशन के कार्य में लगीं एजेंसियों को सीएम की खरी-खरी, कहा- समय पर काम पूरा करें, नहीं तो होगी कार्रवाई

बाबूलाल मरांडी के खिलाफ भाजपा मानहानि के साथ दर्ज  करेगा एफआईआर

प्रतुल शाहदेव ने कहा कि बाबूलाल मरांडी बौखलाहट में कुछ भी बोल दे रहे हैं. 2014 में बाबूलाल के राजनीतिक जीवन का काउंटडाउन जनता ने शुरू करा दिया था, जब वह 1 वर्ष में 4 चुनाव हारे थे. उसी साल उनके विधायकों ने उनके दल का भाजपा में विलय करा दिया और अब एक फर्जी चिट्ठी को लेकर राज्यपाल महोदय के पास ज्ञापन देकर बाबूलाल ने सनसनी फैलाने की कोशिश की है. भाजपा ने उन्हें 7 दिन का समय दिया था. जिसमें से 3 दिन बीत चुके हैं. अब 4 दिन के बाद भाजपा मानहानि के साथ चरित्र हनन का अपराधिक मुकदमा भी बाबूलाल के खिलाफ दर्ज करेगी.
प्रतुल शाहदेव ने कहा कि बाबूलाल ने राज्यपाल को जांच का ज्ञापन दिया है. उसके बाद भी वह सार्वजनिक मंच से सीबीआई जांच की मांग कर रहे हैं. सीबीआई क्या इंटरपोल भी अगर जांचेगी, तब भी इस पत्र के फर्जी होने में कोई संदेह नहीं है. दरअसल बाबूलाल राजनीति में अप्रासंगिक हो चुके हैं और इसी तरीके के भारी-भरकम झूठे भ्रामक बयानों से जनता को बरगलाना चाहते हैं, लेकिन जनता ने उन्हें पहले ही रिजेक्ट कर दिया है.

इसे भी पढ़ें – अमित शाह जी! जरा पता कीजियेगा, जिस भगवान बिरसा मुंडा के वंशजों के आवास के लिए आपने भूमि पूजन किया…

जमीन के 33 डीड के लिए हेमंत के पास 100 करोड़ कहां से आये

प्रतुल ने प्रेस कॉफ्रेंस के जरिये प्रतिपक्ष के नेता हेमंत सोरेन पर भी निशाना साधा और पूछा कि 33 डीड के द्वारा जो जमीन खरीदी गई है, क्या उसकी कीमत 100 करोड़ के आसपास है या उस से भी ज़्यादा ? कई जमीनें हैं, जिनकी मार्केट वैल्यू करोड़ों में है. उन्हें लाखों में खरीदा दिखाया गया. उन्होंने कहा कि जनता यह जानना चाहती है कि आखिर 100 करोड़ जैसी रकम सोरेन परिवार के पास कहां से आई.

pandiji_add

मीडिया टिप्णणी पर हेमंत माफी मांगे

उन्होंने हेमंत सोरेन के द्वारा फेसबुक पर मीडिया जगत के बारे में आपत्तिजनक टिप्पणी करने पर कड़ी आपत्ति जताई और कहा कि लोकतंत्र के पहले तीन स्तंभों पर वह पहले ही वार कर चुके हैं. संसद की गरिमा सांसद रिश्वत कांड से झामुमो ने तार-तार करा दिया था. अदालत के आदेश को ठेंगा दिखाकर बंद का आह्वान किया. इनके कार्यकाल में अफसरों के ट्रांसफर व पोस्टिंग ने उद्योग का रूप ले लिया था. अब चौथे स्तंभ पर भी इन्होंने जो बिकने का आरोप लगाया है, उसकी भाजपा कड़ी निंदा करती है और इनसे मांग करती है कि वह मीडिया से अविलंब इस मुद्दे पर माफी मांगे. भाजपा के प्रेसवार्ता में प्रदेश प्रवक्ता दीनदयाल बरनवाल और मीडिया प्रभारी शिवपूजन पाठक भी उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें – विधायक नवीन जायसवाल ने डोरंडा थाना में बाबूलाल मरांडी पर दर्ज करायी शिकायत

काउंटडाउन बाबूलाल जी का नहीं बल्कि भाजपा का प्रारंभ: झाविमो

जेवीएम के केन्द्रीय प्रवक्ता योगेन्द्र प्रताप सिंह ने कहा कि भाजपा वाले बौखला गये हैं, जिससे अब सपने में भी सिर्फ बाबूलाल के ही आ रहे हैं. साथ ही कहा कि चोर अधिक शोर मचाता है. इसलिए भाजपा वाले इंटरपोल नहीं बल्कि देश की सबसे बड़ी एजेंसी सीबीआई से ही जांच ही करा लें. पत्र फर्जी है या सही इसका फैसला न तो झाविमो नेता करेंगे और न ही भाजपा नेता. ये काम तो कोई जांच एजेंसी ही कर सकती है. योगेंद्र प्रताप ने कहा कि रनींद्र राय अपनी नौटंकी बंद करें. क्योंकि उन्हें पता था कि देर-सबेर लोकतंत्र को कलंकित करने वाला यह पत्र बाहर आयेगा ही, इसलिए उन्होंने बड़ी ही चतुराई से किसान मोर्चा वाला अपना पुराना लेटर हेड का उपयोग किया, ताकि समय पर वे दांव-पेंच कर सकें.

इसे भी पढ़ें – इक्फाई यूनिवर्सिटी को छह महीने का अल्टीमेटम, सरकार ने कहा स्थाई कैंपस बनायें, नहीं तो होगा एक्शन

साथ ही कहा कि यह पत्र कोई मामूली नहीं है. चूंकि पत्र में राज्य में पिछले तीन साल से अधिक समय से चल रहे दल-बदल के आरोपी विधायकों की लगाई गई कीमत और उसमें शामिल गिरोह का नाम दर्ज है. योगेन्द्र प्रताप सिंह ने रवींद्र राय से सवाल किया कि यदि पत्र बीते कई महीनों से पड़ा है, तो उन्होंने उसे सार्वजनिक क्यों नहीं किया. साथ ही पूछा है कि रवींद्र राय ने यह स्पष्ट क्यों नहीं किया कि उनके लेटर हेड पर लिखा गया फर्जी पत्र उन्हें और उनकी पार्टी की छवि खराब कर रहा है. उन्होंने कहा कि वास्तव में अगर पत्र कई महीनों से घूम रहा है तो पार्टी उसे क्यों दबा रही है क्योंकिपत्र को छुपाना और सीबीआई जांच से कतराना सारी सच्चाई को बयां कर रही है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Hair_club

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.