lok sabha election 2019

शहरी क्षेत्रों में वोट प्रतिशत घटने और ग्रामीण इलाकों में वोट प्रतिशत बढ़ने से बीजेपी चिंतित

Akshay Kumar Jha

Ranchi: शुरुआत से ही बीजेपी को शहरी क्षेत्रों की पार्टी माना जाता रहा है. शहरी क्षेत्रों के वोट के दम पर ही बीजेपी जीत या हार सुनिश्चित करती है. ग्रामीण इलाकों में बीजेपी की पकड़ है, लेकिन शहरी क्षेत्रों जितनी नहीं. ऐसे में शहरी क्षेत्रों में वोट प्रतिशत घटने लगे. उम्मीद के मुताबिक प्रतिशत में वृद्धि न हो, तो बीजेपी का चिंतित होना लाजिमी है. यही हो रहा है  झारखंड के लोकसभा चुनाव में इस बार. आंकड़ों को खंगालने पर पता चलता है कि कैसे शहरी क्षेत्रों में बीजेपी फिसल रही है. जिस तरह से शहरी क्षेत्रों में वोट प्रतिशत बढ़ना चाहिए वो ग्रामीण क्षेत्रों का बढ़ रहा है. जो एक जाहिर तौर पर पार्टी के लिए एक चिंता का विषय है. हालांकि पार्टी इससे इत्तेफाक न रखे, लेकिन आंकड़ों का सच यही बयां कर रहा है.

इसे भी पढ़ें – हाल-ए-मनरेगाः कार्यस्थल पर नहीं मुहैया करायी जाती सुविधा, हादसे में जान गंवा रहे मजदूर

ram janam hospital
Catalyst IAS

जानें विधानसभावार शहरी क्षेत्रों का हाल

The Royal’s
Pitambara
Sanjeevani
Pushpanjali

झारखंड का शहर रांची, धनबाद, बोकारो, झरिया जमशेदपुर पूर्वी और जमशेदपुर पश्चिमी में बसता है. अगर शहरी क्षेत्रों में वोट प्रतिशत को जानना है, तो इन्हीं विधानसभा के आंकड़ों को देखना होगा. रांची में जिस तरीके से पार्टी ने ताकत झोंकी थी, उस तरह का परिणाम सामने आता नहीं दिख रहा है. यहां मोदी से लेकर अमित शाह तक आये. मोदी के भव्य रोड शो का आयोजन हुआ, लेकिन वोटरों की संख्या पर गौर करें तो वो सिर्फ 0.93 फीसदी ही बढ़ा. मतलब बढ़ोतरी एक फीसदी भी नहीं है.

इसे भी पढ़ें – झारखंड के 31 विभागों में से मुख्यमंत्री रघुवर दास के पास 16 विभाग

विधानसभा
2014 2019 अंतर
धनबाद
59.08% 54% -5.08%
झरिया
56.34% 52% -4.34%
बोकारो
51.71% 52.62% 0.91%
रांची
53.36% 54.29% 0.93%
जमशेदपुर पूर्वी
61.40% 58.8% -2.6%
जमशेदपुर पश्चिमी
57.95% 55.86% -2.09%

जानें सरना आदिवासी बहुल क्षेत्रों का विधानसभावार हाल

एक तरफ जहां शहरों में वोट प्रतिशत घटा है, वहीं ग्रामीण इलाकों से चौंकानेवाले आंकड़े सामने आ रहे हैं. ये आंकड़े भी बीजेपी के लिए चिंता का विषय हैं. जाहिर तौर पर झारखंड में ग्रामीण इलाकों पर क्षेत्रीय पार्टियों की पकड़ है. ऐसे में आंकड़े बीजेपी के लिए चिंता का विषय हैं.

इसे भी पढ़ें – चुनाव में हिंदी मीडिया ने अपने ही चेहरे को बिगाड़ने का किया काम

विधानसभा 2014 2019 अंतर
बिशुनपुर 57.90% 65.71% 7.81%
लोहरदगा 61.05% 70.46% 9.41%
सिसई 58.19% 64.82% 6.63%
खूंटी 63.57% 66.82% 3.25%
खरसावां 75.88% 76.82% 0.94%
तमाड़ 67.69% 69.29% 1.6%
चक्रधरपुर 69.40% 67.5 -1.9%
सरायकेला 69.94% 70.26 0.32

Related Articles

Back to top button