Lead NewsNationalTOP SLIDER

BIG NEWS : प्लास्टिक से बने चम्मच, गिलास से लेकर झंडे-बैनर और ईयरबड तक सब होंगे बंद, सिंगल यूज प्लास्टिक पर 1 जुलाई से लगेगा बैन

केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने सभी संबंधित पक्षों के लिए नोटिस जारी किया

New Delhi : पर्यावरण को सबसे अधिक नुकसान पहुंचाने वाले प्लास्टिक पर रोक के लिए समय समय पर कई तरह के कदम उठाये जाते रहे हैं. अब केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने इस दिशा में एक बड़ी पहल की है. बोर्ड ने प्लास्टिक से बने झंडों से लेकर ईयरबड तक पर एक जुलाई से पाबंदी होगी. केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) ने इसके उत्पादन, भंडारण, वितरण और इस्तेमाल से जुड़े सभी पक्षों को नोटिस जारी किया है. इसमें 30 जून से पहले इन पर पाबंदी की तैयारी पूरी करने को कहा गया है.

इसे भी पढ़ें:रूपेश पांडेय के परिजनों से मिले मंत्री मिथिलेश ठाकुर, बादल पत्रलेख और सत्यानंद भोक्ता, कहा- दोषियों पर होगी कार्रवाई

एक बार इस्तेमाल होने वाले प्लास्टिक ज्यादा खतरनाक

ram janam hospital
Catalyst IAS

एक बार इस्तेमाल होने वाले प्लास्टिक को पर्यावरण के लिए बेहद हानिकारक माना जाता है. ये प्लास्टिक उत्पाद लंबे समय तक पर्यावरण को नुकसान पहुंचाते हैं. नुकसान को देखते हुए अगस्त 2021 में केंद्रीय पर्यावरण मंत्री ने इस पर रोक को लेकर अधिसूचना जारी की थी. इसमें एक जुलाई से इस तरह के तमाम आइटमों पर पाबंदी लगाने को कहा गया था.

The Royal’s
Sanjeevani

इसी क्रम में सीपीसीबी की ओर से सभी संबंधित पक्षों के लिए नोटिस जारी किया गया है. इसमें कहा गया है कि 30 जून तक इन आइटमों पर पाबंदी की सारी तैयारी पूरी कर ली जानी चाहिए.

इसे भी पढ़ें:BJP Protest: बोड़ाम मंडल महामंत्री को हथकड़ी लगाकर बाजार में घुमाने पर भाजपा गरम, दोषी पुलिसकर्मी पर कार्रवाई का अल्‍टीमेटम

इन वस्तुओं पर रहेगी पाबंदी

सीपीसीबी के नोटिस के मुताबिक एक जुलाई से प्लास्टिक स्टिक वाले ईयरबड, गुब्बारे में लगने वाले प्लास्टिक स्टिक, प्लास्टिक के झंडे, कैंडी स्टिक, आइसक्रीम स्टिक, सजावट में काम आने वाले थर्माकोल आदि शामिल हैं.

इसके साथ ही प्लास्टिक कप, प्लेट, गिलास, कांटा, चम्मच, चाकू, स्ट्रॉ, ट्रे जैसी कटलेरी आइटम, मिठाई के डिब्बों पर लगाई जाने वाली प्लास्टिक, प्लास्टिक के निमंत्रण पत्र, 100 माइक्रोन से कम मोटाई वाले पीवीसी बैनर आदि शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें:लोहरदगा बिजली विभाग के पीआरडब्लू ऑफिस में लगी आग, लाखों का ट्रांसफार्मर जल कर राख

उल्लंघन पर होगी कठोर कार्रवाई

सीपीसीबी के नोटिस में इसका उल्लंघन करने वालों को कठोर कार्रवाई की चेतावनी दी गई है. इसमें उत्पादों को सीज करना, पर्यावरण क्षति को लेकर जुर्माना लगाना, इनके उत्पादन से जड़े उद्यमों को बंद करना जैसी कार्रवाई शामिल है.

● सिंगल यूज प्लास्टिक न आसानी से नष्ट होता है, न रिसाइकिल होता है
● इस प्लास्टिक के नैनो कण घुलकर पानी और भूमि को प्रदूषित करते हैं
● जलीय जीवों को तो नुकसान पहुंचाते ही हैं, नाले चोक होने का भी कारण हैं.

समयसीमा के अंदर स्टॉक खत्म करने को कहा

सीपीसीबी ने सभी उत्पादकों, स्टॉकिस्ट, दुकानदारों, ई-कॉमर्स कंपनियों, स्ट्रीट वेंडर, मॉल, मार्केट, शॉपिंग सेंटर, सिनेमा हॉल, टूरिस्ट लोकेशन, स्कूल, कॉलेज, ऑफिस कॉम्प्लेक्स, अस्पताल व अन्य संस्थानों व आम लोगों को इन आइटमों के उत्पादन, वितरण, बिक्री और इस्तेमाल पर रोक लगाने की बात कही है.

इनसे कहा गया कि वे 30 जून तक अपना स्टॉक खत्म करना सुनिश्चित करें ताकि एक जुलाई से पूरी तरह से पाबंदी को लागू किया जा सके.

इसे भी पढ़ें:रूपेश पांडेय हत्याकांडः कपिल मिश्रा के आने से और बढ़ेगी सियासी तपिश

Related Articles

Back to top button