न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अयोध्या विवादः मध्यस्थता समिति को 18 जुलाई तक का समय, 25 से होगी रोजाना सुनवाई- सुप्रीम कोर्ट

815

New Delhi: रामजन्म भूमि-बाबरी मस्जिद विवाद पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई. जहां याचिकाकर्ता ने मध्यस्थता के जरिये मामले के निपटारे को तुरंत रोककर फैसला सुनाने को कहा था.

लेकिन उच्चतम न्यायालय ने इस बात पर इनकार करते हुए मध्यस्थता समिति को 18 जुलाई तक का वक्त दिया है.

जवान था तब शुरू हुआ विवाद, अब बूढ़ा हो गया- याचिकाकर्ता

गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद पर सुनवाई हुई. याचिकाकर्ताओं ने अदालत से मध्यस्थता को तुरंत रोककर फैसला सुनाने के लिए कहा गया था.

इसे भी पढ़ेंःनक्शा पास करने के लिये नगर विकास विभाग को रोड बनाने वाले इंजीनियर घनश्याम अग्रवाल ही पसंद

लेकिन अदालत ने इससे इनकार कर दिया. सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता ने अदालत से गुहार लगाते हुए कहा कि अयोध्या विवाद जब शुरू हुआ था, तब वह जवान थे, लेकिन अब उम्र 80 के पार हो गई है. इसलिए अब अदालत को इस पर फैसला जल्द सुना देना चाहिए.

18 जुलाई तक मध्यस्थता समिति को मोहल्लत

Related Posts

शरद पवार ने कहा, पाकिस्तान में मुझे काफी प्यार मिला, राजनीतिक फायदे के लिए सत्ता पक्ष झूठ फैला रहा  है

मॉब लिंचिंग की घटना पहले नहीं सुनाई नहीं देती थी लेकिन अब ऐसी घटनाएं अक्सर हो रही हैं

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई, दीपक गुप्ता और अनिरुद्ध बोस की बेंच ने मामले की सुनवाई के दौरान कहा कि मध्यस्थता पैनल को अनुवाद में देरी हो रही थी. और इसी वजह से उन्होंने अधिक समय मांगा था.

मध्यस्थता पैनल को भंग करने वाली याचिका की सुनवाई के दौरान न्यायालय ने कहा, “हमने मध्यस्थता पैनल गठित किया है, और हमें रिपोर्ट का इंतजार करना होगा. मध्यस्थता करने वालों को इस पर रिपोर्ट पेश करने दीजिए.”

कोर्ट ने कहा- पैनल को ये रिपोर्ट 18 जुलाई तक देनी होगी, जिसके बाद 25 जुलाई को इस पर सुनवाई होगी. 25 जुलाई को ही ये तय होगा कि इस मामले में रोजाना सुनवाई होगी या नहीं.

उल्लेखनीय है कि, निर्मोही अखाड़ा ने अदालत में मध्यस्थता के खिलाफ याचिका दायर की थी. याचिकाकर्ता के वकील ने सुनवाई के दौरान कहा कि ये मामला 1950 से चल रहा है, मध्यस्थता से इसका हल मुश्किल से ही निकल पाएगा. अब 60 साल से अधिक का समय हो चुका है.

इसे भी पढ़ेंःकर्नाटक व गोवा के बाद अब झारखंड में “शुद्धिकरण” की बारी !

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है कि हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें. आप हर दिन 10 रूपये से लेकर अधिकतम मासिक 5000 रूपये तक की मदद कर सकते है.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें. –
%d bloggers like this: