JharkhandLead NewsRanchi

फर्जी सदस्य बन कर डाल रहा था गरीबों के राशन पर डाका, हुई कार्रवाई

Ranchi : फर्जी सदस्य बन कर गरीबों का राशन हड़पने का मामला सामने आया है. राशन हड़पनेवाला कोई आम व्यक्ति नहीं, बल्कि, खुद जन वितरण प्रणाली का दुकानदार है. एसओआर की ओर से एक बार फिर नोटिस जारी कर कहा गया है कि 24 घंटे के अंदर स्पष्टीकरण समर्पित करें कि क्यों नहीं बरती गयी अनियमितता के आलोक में लाइसेंस रद्द किया जाये.

इसे भी पढ़ें :कार्डधारकों को अक्टूबर से आवंटित नहीं किया गया राशन, अंत्योदय कार्डवालों के खाते से 2 किलो अनाज की हो रही कटौती

ऐसे पकड़ में आया मामला

मामला पकड़ में आने के बाद जिला विशिष्ट अनुभाजन पदाधिकारी (एसओआर) की ओर से रांची नगर निगम के वार्ड-9 के पीडीएस डीलर कामेश्वर बड़ाईक से पूर्व में स्पष्टीकरण की मांग की गयी थी. मगर स्पष्टीकरण का स्पष्ट जवाब नहीं दिया. इसके बाद उनके दुकान से संबंधित 19 राशन कार्डधारियों को नोटिस दिया गया.

जिसमें 6 कार्डधारियों ने कार्यालय में उपस्थित होकर लिखित बयान दिया. जिससे यह स्पष्ट हो गया कि कार्डधारी परिवार के सदस्यों की वास्तविक संख्या होने के बावजूद फर्जी यूनिट बना कर राशन का उठाव किया.

इसे भी पढ़ें :महाराष्ट्र के बाद झारखंड में भी ममता बनर्जी के तीसरे मोर्चे की राजनीति पर लगा ग्रहण

कार्डधारकों द्वारा दिया गया बयान

केस नंबर 01- कार्ड नंबर 202006130287 के धारक अंजनी कुमार ने अपने बयान में कहा है कि क्रमांक 7, 8, 9 नाम गलत है. सौरव एवं मुकेश डबल एंट्री प्रतीत होता है. देवी नाम की कोई सदस्य नहीं है. परिवारिक कार्ड में कुल 09 सदस्य हैं. इनमें 02 नाम डबल हैं. कुल 30 किलोग्राम अनाज प्राप्त होता है. जब से राशन कार्ड बना है तब से इन्हें 30 किलोग्राम अनाज मिला है. वार्ड पार्षद को इसकी जानकारी दी थी. वार्ड पार्षद कार्यालय से तीन नामों को काट दिया गया था. डीलर द्वारा रसीद नहीं दी जाती है.

28 नवंबर 2021 को ऑनलाईन प्रतिवेदन के अवलोकन से भी स्पष्ट है कि कुल 90 किलोग्राम खाद्यान्न का ऑनलाईन वितरण प्रदर्शित हो रहा है.

केस नंबर 02 – कार्ड नंबर 202005160272 के धारक ललन उरांव ने बयान दिया कि उनके परिवार में कुल 4 सदस्य हैं, जबकि कार्ड में 09 सदस्य दर्ज है. शुरू से ही 20 किलो राशन मिल रहा है. डीलर द्वारा रसीद नहीं दी जाती. 28 नवंबर 2021 को भी 40 किलोग्राम राशन निर्गत है जबकि लाभुक को मात्र 20 किलोग्राम दिया गया.

इसे भी पढ़ें :Jharkhand: KG की पांच वर्षीय छात्रा अवनि ने 2 घंटे से कम समय में पूरी की 18 किमी की दौड़, उठा सवाल

केस नंबर 03 – कार्ड नंबर 202006149437 के धारक आकाश साव ने बयान में कहा कि उनके कार्ड में कुल 09 सदस्य दिखाया जा रहा है. जबकि ममता, मनोज, उमा, खुशबू फर्जी हैं. डीलर को इसकी जानकारी दी गयी थी. डीलर द्वारा 15 किलो चावल व 10 किलो गेहूं दिया जाता है. डीलर रसीद नहीं देते. ऑनलाईन डेटा में 24 नवंबर 2021 को हुए वितरण में 45 किलोग्राम राशन निर्गत है मगर उन्हें 25 किलोग्राम मिला.

केस नंबर 04 –राशन कार्ड सं॰-202004774417 के धारक महली टोप्पो ने बताया कि कार्ड में कुल 10 सदस्य हैं. उन्हें प्रति माह 20 किलो चावल एवं 10 किलो गेहूं अर्थात् 30 किलो राशन डीलर द्वारा दिया जाता है. कार्ड बनने के बाद डीलर 35 किलोग्राम राशन दिया करता था. वर्तमान में मात्र 30 किलोग्राम ही राशन दिया जा रहा है. रसीद नहीं मिलता. ऑनलाईन वितरण इस कार्ड के विरुद्ध 50 किलो अनाज प्रतिमाह निर्गत किया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें :बिहार : खुसरूपुर स्टेशन पर झाझा-पटना मेमू ट्रेन में गोलीबारी, तीन यात्री घायल

Advt

Related Articles

Back to top button