JharkhandLead NewsRanchi

कार्डधारकों को अक्टूबर से आवंटित नहीं किया गया राशन, अंत्योदय कार्डवालों के खाते से 2 किलो अनाज की हो रही कटौती

Ad
advt

Ranchi : गढ़वा में राशन वितरण सेवा में गड़बड़ियों की रिपोर्ट सामने आयी है. भोजन का अधिकार अभियान से जुड़े सदस्यों जेम्स हेरेंज, मिथिलेश कुमार समेत अन्य लोगों ने 1 और 2 दिसंबर को जिले के बड़गढ़ ब्लॉक का क्षेत्र भ्रमण किया था. इस दौरान तीन पीडीएस सेवा प्रदाताओं के अलावा बीडीओ और ग्रामीणों से भी बात की थी.

परसवार पंचायत के कलाखजुरी गांव में ग्रामीणों के साथ बैठक भी हुई. इस दौरान 60 से अधिक पीएच और अंत्योदय कार्डधारी महिला एवं पुरुष भी मौजूद थे.

advt

इसके बाद अभियान से जुड़े लोगों ने सोमवार को क्षेत्र प्रतिवेदन जारी किया है. कहा है कि कलाखजुरी सहित अन्य गांवों में किसी भी राशनकार्ड धारी को राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा कानून के अंतर्गत वितरण किया जाने वाला खाद्यान्न अक्टूबर महीने में डीलरों द्वारा वितरण नहीं किया गया है.

इसे भी पढ़ें :अखिलेश यादव की पार्टी के MLA प्रभु नारायण सिंह ने पकड़ा डिप्टी SP का गला, देखें वायरल Video

advt

कार्डधारकों को सिर्फ प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत दिया जाने वाला मुफ्त अनाज ही मिल सका है. अभियान के सदस्यों ने लातेहार जिला प्रशासन से राशन वितरण में की गयी गड़बड़ी की तत्काल जांच कराने को समिति गठित करने और ससमय जांच रिपोर्ट सार्वजनिक करने की अपील की है.

साथ ही राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा कानून से आच्छादित कार्डधारियों को प्रवधानों के अनुसार खाद्य सुरक्षा भत्ता का भुगतान करने का अनुरोध किया है.

इसे भी पढ़ें :Jharkhand: KG की पांच वर्षीय छात्रा अवनि ने 2 घंटे से कम समय में पूरी की 18 किमी की दौड़, उठा सवाल

राशन कटौती की भी शिकायत

भोजन का अधिकार अभियान के प्रतिवेदन के मुताबिक पंचायतों में राशन वितरण के लिए पॉश मशीन से प्रिंट होने वाली (प्रिंटेड) पर्ची कार्डधारकों को नहीं दी जाती है. दीपक स्वयं सहायता समूह की संचालिका द्वारा अगस्त 2016 से ही कार्डधारकों के हिस्से के अनाज की कटौती नियमविरुद्ध तरीके से की जा रही है.

अन्त्योदय कार्ड में 2 किलोग्राम प्रति कार्ड एवं 3 से अधिक सदस्यों वाले पीएचकार्ड से 2 किलो प्रति कार्ड खाद्यान्न की कटौती की शिकायत कार्डधारकों ने की है. कलाखजुरी के कार्डधारकों को सेवा देने के लिए दो डीलर हैं.

अरविन्द लकड़ा (अनुज्ञप्ति क्रमांक 42/2001) तथा दूसरा दीपक स्वयं सहायता समूह (अनुज्ञप्ति 2007/11). डीलर अरविन्द लकड़ा को प्रशासन द्वारा अगस्त 2016 से ही निलंबित किया गया है.

इसे भी पढ़ें :महाराष्ट्र के बाद झारखंड में भी ममता बनर्जी के तीसरे मोर्चे की राजनीति पर लगा ग्रहण

इस वजह से सभी कार्डधारकों को दीपक स्वयं सहायता समूह के द्वारा ही राशन वितरण किया जाता है. गांव के अधिकांश राशन कार्डों में अक्टूबर माह में मुहैया कराये जानेवाले खाद्यान्न का कॉलम रिक्त है.

मतलब यह कि उनको अनाज नहीं दिया नहीं गया है. फिलहाल कार्डधारकों ने झारखंड राज्य खाद्य आयोग को सूचना और शिकायत भेज दी है.

इसे भी पढ़ें :मुख्यमंत्री के जनता दरबार में मधेपुरा पुलिस की शिकायत, कहा- चार लाख रुपये रिश्वत मांगने का आरोप

क्या कहते हैं प्रखंड विकास पदाधिकारी सह विपणन अधिकारी

जेम्स हेरेंज के मुताबिक अनौपचारिक मुलाकात और फोन पर बातचीत में बड़गढ़ के प्रखंड विकास पदाधिकारी ने बताया कि एजीएम ने अक्टूबर महीने में वितरण किये जाने वाले खाद्यान्न के लिए पहले एसआईओ सृजित किया था. पर बाद में उनके द्वारा सृजित एसआईओ को किन्हीं कारणों से रद्द कर दिया गया.

इस वजह से डीलरों तक राशन नहीं पहुंचा है. यह मामला सिर्फ भंडरिया प्रखंड का ही नहीं, बल्कि पूरे गढ़वा जिले का है.

उन्होंने यह भी कहा कि खाद्यान्न मिलना कार्डधारकों का क़ानूनी हक़ है, उन्हें राशन हर हाल में डीलरों द्वारा वितरण कराया जायेगा. यह उनका प्रशासनिक दायित्व है.

इसे भी पढ़ें :बिहार : खुसरूपुर स्टेशन पर झाझा-पटना मेमू ट्रेन में गोलीबारी, तीन यात्री घायल

advt
Adv

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: