JharkhandLead NewsRanchi

इंटर रिजल्ट को लेकर फूटा छात्रों का गुस्सा, जैक मुख्यालय घेरा, जिलों में प्रदर्शन

Ranchi : पिछले दिनों जैक (झारखंड एकेडमिक काउंसिल) की ओर से इंटर का रिजल्ट जारी किया गया. कोरोना संकट को देखते हुए उसने बगैर परीक्षा लिए ही रिजल्ट घोषित किया था. इसमें कई पास हुए तो कुछ के हाथ निराशा लगी. अब इसे लेकर फेल छात्रों में नाराजगी है. राज्यभर में जैक के फैसलों के खिलाफ उनमें उबाल है.

इसे लेकर अलग-अलग जिलों और रांची स्थित जैक मुख्यालय का घेराव भी किया गया. छात्रों का कहना है कि 12वीं में पास, फेल किये जाने का कोई पैमाना ढंग से नहीं अपनाया गया है.

जैक कह रहा है कि उसने सीबीएसई का फॉर्मूला अपनाया है. पर वास्तव में इस दिशा में गंभीरता से काम नहीं हुआ है. कोरोना काल में पढ़ाई नहीं हुई. मार्क्स भी मनमर्जी से तय कर दिये गये. जैक के फैसलों के चलते अनेकों छात्र-छात्राएं 12वीं में फेल हो गये हैं.

advt

इसे भी पढ़ें :5 अगस्त तक पूरे बिहार में बारिश और वज्रपात की चेतावनी, मौसम विभाग ने जारी किया ब्लू अलर्ट

रांची से लेकर धनबाद तक हल्ला

इंटर में फेल कई छात्रों, उनके परिजनों ने रांची सहित राज्य के दूसरे जिलों में भी सड़कों पर उतर कर नाराजगी जाहिर की. जेएन कॉलेज, धुर्वा (रांची) में सोमवार को जैक द्वारा जारी 12वीं के रिजल्ट से असंतुष्ट छात्रों ने कॉलेज में तालाबंदी कर दी. उनका कहना था कॉलेज द्वारा कोरोना ने छात्रों की पढ़ाई का नुकसान तो किया ही.

adv

उनके रिजल्ट के लिए अंक तैयार करने में ढंग से काम नहीं किया गया. इसमें जैक ने मनमर्जी दिखायी. तालाबंदी के बाद कॉलेज के प्रिंसिपल को छात्रों ने सभी फेल छात्रों की सूची दी.

रिजल्ट में सुधार करने की अपील की. आंदोलन का नेतृत्व छात्र संघ के अध्यक्ष सागर कुमार और संयुक्त सचिव रवि कुमार साहनी ने किया.

इसे भी पढ़ें :पीएम मटेरियल पर सीएम नीतीश का आया जवाब, कहा- हम सेवक हैं, पीएम बनने की इच्छा और आकांक्षा नहीं

जमशेदपुर में आजसू छात्र इकाई ने जैक काउंसिल के खिलाफ 31 जुलाई से मोर्चा खोल रखा है. जमशेदपुर विमेंस कॉलेज की छात्राएं भी आंदोलित हैं. आजसू छात्र इकाई ने बगैर परीक्षा लिए फेल किये गये छात्रों के मामले पर जैक पर उंगली उठायी है.

छात्र नेता हेमंत पाठक के मुताबिक किस आधार पर छात्रों को पास या फेल किया गया, इसकी जानकारी जैक नहीं दे रहा. समाधान नहीं मिलने पर जैक मुख्यालय पर धरने पर बैठने की तैयारी है. जमशेदपुर वीमेंस कॉलेज की छात्राओं ने जैक बोर्ड पर नंबर देने में मनमानी करने का आरोप लगाते हुए कॉलेज कैंपस में सोमवार को जोरदार प्रदर्शन किया.

छात्राओं ने कहा कि जैक ने ऐसे छात्राओं को भी फेल कर दिया है जिन्होंने पहले वर्ष में बेहतर परिणाम दिया था. जैक के इस फैसले से सैकड़ों छात्राओं का भविष्य अधर में लटक गया है.

इसे भी पढ़ें :नौवीं के छात्र 15 अगस्त तक कर सकते हैं ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन बिहार बोर्ड ने डेट बढ़ाई

180 वाला पास और 280 वाला फेल

धनबाद के श्री श्री लक्ष्मी नारायण महिला महाविद्यालय की छात्राओं ने सोमवार को कॉलेज के सामने लुबी सर्कुलर रोड पर उतर कर ट्रैफिक को अवरुद्ध कर दिया. कहा कि कोरोना काल के दौरान किसी सेमेस्टर का परीक्षा नहीं लिया गया.

ऐसे में फिर कई छात्राओं को किस आधार पर फेल कर दिया गया. 12वीं कक्षा की छात्राओं ने बताया कि 180 मार्क्स लानेवाले विद्यार्थी को पास कर दिया गया है जबकि 280 मार्क्स वाले को फेल कर दिया गया है. यह सरासर संदेहास्पद है.

शिक्षा मंत्री से करेंगे मुलाकात

इस वर्ष 12वीं (जैक बोर्ड) में 4 लाख स्टूडेंट शामिल हुए थे. इनमें से करीब 34 हजार के फेल होने की खबर है. छात्रों का कहना था कि कोविड के कारण परीक्षा का आयोजन नहीं किया गया. 11वीं में उन्होंने परीक्षा पास की थी. इसके बाद ही उन्हें 12वीं की परीक्षा में बैठने की इजाजत मिली. अब मनमाने तरीके से रिजल्ट दिया गया है. इस मामले में मंगलवार को नाराज छात्र शिक्षा मंत्री से भी मुलाकात करेंगे.

इसे भी पढ़ें :मुंबई एयरपोर्ट पर अडानी का नाम देख भड़के शिवसेना कार्यकर्ता, विरोध में की तोड़-फोड़

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: